राम मंदिर - राम के वंशज कहाँ है ?!

13 अगस्त 2019   |   भरत का भारत   (418 बार पढ़ा जा चुका है)

राम मंदिर - राम के वंशज कहाँ है ?!

समस्या ये है supreme court रामचरितमानस या अनन्य रामायणों के साक्ष्यों को प्रमाण नहीं मानती वही supreme कोर्ट २०१५ में जब बकरा-ईद की सुनवायी में कहती है कि ये रीति है जो हज़ार साल से चली आ रही है !

जहाँ रामसेतु को congress सरकार ने ख़ुद court में कहा ऐसी कोई चीज़ है ही नहीं सेक्युलर लिबरल गैंग ने भी कहा ऐसा कुछ नहीं है पर २०११ में NASA ने माना रामसेतु भी है कम से काम ८० हज़ार साल पुराना या उस से भी ज्यदा और वो भी मानवनिर्मित है ।

congress राम मंदिर केस में २००५-६ के बीच कहती है जब राम ही नहीं तो राम मंदिर विवाद क्यों ?

इंदिरा गांधी ने पर्सनल लॉ दिया और सुरु से भी मुस्लिम के लिए अलग क़ानून उनके मदरसे सरकारी फ़ंड से चलते मस्जिद में कोई सरकारी दख़ल नहीं इत्यादि ।

समस्या बस इतनी है mythology कह कर नेहरु सरकार ने जो इतिहास स्कूल कॉलेज यूनिवर्सिटी इत्यादि में सुरु किया वही आधार लेकर कोर्ट भी यही बात बोलती है । विदेशी धर्मग्रंथों व इतिहास को तथ्य मानती है जो की ज़्यादातर britishers Christian churches द्वारा वैदिक भारतीय सभ्यता को ख़ुद के बाद उत्पन्न हुआ दिखाया और कह दिया आर्य Europe से भारत आए ऐसे ही सारे तथ्य उलट-पलट दिए ।

मंदिर के खुदाई अवशेष kk खान द्वारा संचालित पुरातत्व टीम के पास आज भी सही सलामत है जिसने बहुत सारे चिन्ह टूटी मूर्तियाँ मिलीं तो हर प्रकार से यह साबित हो चुका है बहाँ राम मंदिर था ।

दूरसी बात यह है ७ से १७ मध्य तक इस्लामिक आक्रांताओं द्वारा धर्मपरिवर्तन मंदिर तोड़ने हिंदुओं का नरसंहार इत्यादि विंदू सबूतो के साथ उपलब्ध है फिर इसने कोई शक ही नहीं मंदिर था या मस्जिद क्योंकि हर प्रमुख मंदिर को तोड़ा गया कुछ वापस जीर्णोधारित होते गाए कुछ पूर्णता परिवर्तित हो गए ।

विदेशी इतिहासकार व अनेको लेखकों के द्वारा सबूत के साथ ये सारी बातें लिखी व कही गयीं है परंतु selectivism के कारण court या शिक्षा या सरकार सब अपना agenda अपने व्यक्तिगत विचार के अनुसार ही सब कुछ करती है ।

राम के वंशज पर प्रश्न ही पूर्वाधिरित है फिर भी जयपुर की रानी व सांसद ने एक पत्रावलि प्रस्तुत की जो ३०७ पीढ़ी पुरानी सूर्यवंशी राजा कुश से जुड़ी है ।क्या मौजूद हैं राम के वंशज: जयपुर की राजकुमारी ने कहा- हॉं, हम हैं - Hindi News Opindia

उम्मीद है जनता कभी तो इन बातों को समझेगी व जानेगी और देश को सही मायनों में आज़ादी दिलाएगी । जय श्री राम


अगला लेख: हिंदी लेखन का विस्तार ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अगस्त 2019
15 अगस्त 1946 में मुस्लिम लीग के द्वारा ‘डायरेक्ट एक्शन डे’ की घोषणा कर दी गई. मुस्लिम लीग के इस एलान ने 16 अगस्त 1946 को कलकत्ता में भीषण दंगे का रूप ले लिया. हर तरफ खून की होली खेली जाने लगी. देखते ही देखते कलकत्ता का सांप्रदायिक दंगा बंगाल और बिहार की सीमा पर भी शुरू हो गया.इस सांप्रदायिक दंगे को
17 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
मनुष्य के जीवन में देशी गाय माता का बड़ा महत्वपूर्ण योगदान रहा है । गाय माता के दूध-दही-घी-मूत्र-गोबर से बने पंचगव्य से भयंकर बीमारियां भी ठीक हो जाती है, गाय के अंदर 33 करोड़ देवता का वास होता है, तभी तो भगवान श्री कृष्ण भी स्वयं गाय चराते थे, यहाँ तक बताया गया है कि गाय
07 अगस्त 2019
18 अगस्त 2019
आज अगर कोई कहे कि घर में पूजा है, तो ये माना जा सकता है कि “सत्यनारायण कथा” होने वाली है। ऐसा हमेशा से नहीं था। दो सौ साल पहले के दौर में घरों में होने वाली पूजा में सत्यनारायण कथा सुनाया जाना उतना आम नहीं था। हरि विनायक ने कभी 1890 के आस-पास स्कन्द पुराण में मौजूद इस संस्कृत कहानी का जिस रूप में अन
18 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज अब हमारे बीच नहीं हैं. 67 साल की उम्र में उन्होंने आखिरी सांस ली. 6 अगस्त की रात उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया. लाख कोशिश की गई, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. रात 9 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया. पूरा देश
07 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
Senior BJP leader and former foreign minister Sushma Swaraj passed away a while ago at AIIMS on Tuesday. The BJP veteran, who suffered a massive heart attack, died at the age of 67. Her last Twitter post was about thanking Prime Minister Narendra Modi about the government’s move on Kashmir stating t
06 अगस्त 2019
11 अगस्त 2019
मृत्यु अंतिम सत्य तो अन्त्येष्टि जीवन का आखिरी संस्कार है। इसके लिए लकड़ी की चिता पर अंतिम संस्कार की मान्यता अब पर्यावरण के लिए नुकसानदेह साबित होने लगी है और हजारों की संख्या में पेड़ कटने से जीवन के लिए खतरा दिन-ओ-दिन बढ़ता जा रहा है। हालांकि विद्युत शव दाह गृह का विकल्प दिया गया लेकिन यह विकल्प
11 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
बीतें कुछ महीनों में देश की समरसिता व गंगा-जमुना तहज़ीव में कुछ चक्रवात उपस्तिथ हुए हैं । ये चक्रवात भिन्न-भिन्न छेत्र के महान धर्मनिर्पेक्ष-सेक्युलर-संविधानिक ब्रिटिश-इंडो इण्डियन द्वारा संचालित व प्रसारित कियें गये हैं। वर्तमान मीडिया संस्थानो ने इन चक्रवातों का नाम
03 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
बीतें कुछ महीनों में देश की समरसिता व गंगा-जमुना तहज़ीव में कुछ चक्रवात उपस्तिथ हुए हैं । ये चक्रवात भिन्न-भिन्न छेत्र के महान धर्मनिर्पेक्ष-सेक्युलर-संविधानिक ब्रिटिश-इंडो इण्डियन द्वारा संचालित व प्रसारित कियें गये हैं। वर्तमान मीडिया संस्थानो ने इन चक्रवातों का नाम
03 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x