शहीद का परिवार झोपड़ी में रहने को था मजबूर, सरकार ने नहीं सुनी तो गांव वालों ने उठाया ये कदम

16 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (487 बार पढ़ा जा चुका है)

शहीद का परिवार झोपड़ी में रहने को था मजबूर, सरकार ने नहीं सुनी तो गांव वालों ने उठाया ये कदम

भारत बलिदानों का देश यूहीं नहीं कहा जाता है, यहां पर ना जाने कितने वीरों ने अपनी जान दे दी आजादी के लिए और जब आजादी हुई तो पड़ोसी देश के हमलों से ही ना जाने कितने वीरों की जान चली गई। हमारे देश के जवानों मे यही खासियत है कि वे आखिरी समय तक डटे रहते हैं और भले अपनी जान खत्म कर दें लेकिन भारत पर आंच नहीं आने देते, जब तक जिंदा रहते हैं। ऐसे में हम आम नागरिकों का भी एक फर्ज होता है कि हमें उनके शहीद होने के बाद अगर उनके परिवार के आस-पास रहते हैं तो उनकी देख-रेख जरूर करनी चाहिए। उनके परिवार की जरूरतों को पूरा करना सरकार का काम है लेकिन अगर हम सभी में कोई आस-पास रहता है तो उन्हें हम सहारा तो दे ही सकते हैं। ऐसी ही एक मिसाल मध्यप्रदेश के कुछ लोगों ने किया है, जब एक शहीद के परिवार के लिए झोपड़े के मकान को पक्का मकान में बदल दिया।


शहीद के परिवार को गांववालों का खास तोहफा


शहीद का परिवार

मध्यप्रदेश के देपालपुर के पीर पीपलिया गांव में बीएसएफ के जवान मोहन सिंह त्रिपुरा में आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हो गए थे। उनके साथ ये घटना 27 पहले हुई थी और इतने सालों से परिवार एक झोपड़े में अपना गुजर-बसर कर रहा था। शहीद की पत्नी राजू बाई ने सरकार से इस बात के लिए गुहार लगाई क्योंकि बरसात और सर्दी में बच्चों के साथ वे भी बहुत परेशान हो जाती थीं और उनके घर में कोई ठोस चीज नहीं थी जिससे वे बचा सकें। शहीद की पेंशन भी सिर्फ 700 रुपये ही हर महीने आती है जिसमें तीन लोगों का गुजारा नहीं हो पाता था। ऐसे में फिर गांव के कुछ नौजवानों ने इसका बीडा उठाया और चंदा बटोरने लगे। पिछले साल रक्षाबंधन पर सभी ने शहीद की विधवा से राखी बंधवाई थी और कहा था कि अगले साल वे सभी उन्हें नायाब तोहफा देंगे। इसी साल उन्हें बच्चों सहित एक दो महीने के लिए गांव की एक महिला अपने घर ले गई और वहीं रखा। फिर जब इस साल 15 अगस्त के दिन राखी आई तो उनके घर के पास झंडा रोहण हुआ और घर की चाबी राजू बाई को देते हुए सभी ने एक स्वर में कहा कि ये उनका राखी का तोहफा अपनी बहन के लिए है।


शहीद का परिवार

इतना ही नहीं सभी ने अपने हाथों पर राजू बाई को चलाकर गृहप्रवेश करवाया और ये दृश्य देखने लायक था। एक साल में करीब 11 लाख का चंदा इकट्ठा हुआ था और फिर उन्होंने वो घर राजू बाई को देकर एक नायाब तोहफा अपनी बहन को दिया। सभी ने एक बार फिर शहीद मोहन सिंह को याद किया और उनके परिवार की रक्षा करने का प्रण लिया। सभी चाहते हैं कि जिस मार्ग में उनका घर है वो मोहन सिंह मार्ग और जिस स्कूल में मोहन सिंह ने पढ़ाई की थी उसका नाम मोहन सिंह इंटर कॉलेज सरकार द्वारा हो जाए। अब उनकी ये इच्छा पूरी हो ना हो लेकिन देश के हर शहीद के परिवार वालों का देश के लोगों का ऐसे ही साथ मिले तो कोई भी सरहद पर जाने से पहले सोचेगा नहीं।

अगला लेख: शाहिद, रणवीर और दीपिका के साथ इन सितारों ने करण जौहर की पार्टी में लिया था ड्रग्स ?



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 अगस्त 2019
बहुत दिनों से जम्मू कश्मीर में हलचल थी और 10 हजार से ज्यादा लोगों को वहां पर तैनात कर दिया गया था क्योंकि हालात कभी भी बिगड़ सकते थे। कुछ भी हो सकता था और लोगों में एक डर का माहौल था लेकिन अब वो बातें खत्म हो चुकी हैं। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को एक एतिहासिक फैसला लिया है और जिसमें जम्मू एंड कश्मीर स
05 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात 8 बजे देश की जनता को संबोधित करने जा रहे हैं। ये जानकारी पीएमओ ने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से दी है। ऐसा माना जा रहा है कि पीएम मोदी का संबोधन जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के फैसले को लेकर केंद्रित रहेगा। संसद ने जम्मू-
08 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
बहुत दिनों से जम्मू कश्मीर में हलचल थी और 10 हजार से ज्यादा लोगों को वहां पर तैनात कर दिया गया था क्योंकि हालात कभी भी बिगड़ सकते थे। कुछ भी हो सकता था और लोगों में एक डर का माहौल था लेकिन अब वो बातें खत्म हो चुकी हैं। केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को एक एतिहासिक फैसला लिया है और जिसमें जम्मू एंड कश्मीर स
05 अगस्त 2019
14 अगस्त 2019
आज के समय में सोशल मीडिया एक ऐसी ताकत है जहां हर कोई फेमस हो सकता है और आप किसी का भी पर्दाफाश कर सकते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ स्टेशन पर गाने वाली एक गरीब महिला के साथ जो पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इनकी आवाज लता मंगेशकर से मिलाकर बताई जा रही है और इनके गाने के एक नहीं ना जाने कित
14 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक
08 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
Webdunia- देश में बहुत सारे हिंदी वेब पोर्टल न्यूज वेबसाइट हैं लेकिन कुछ ही ऐसी वेबसाइट्स हैं जो हमें सही और बेहतर तरीके की खबरें प्रोवाइड करवाती हैं। वेबदुनिया उन्हीं में से एक वेबसाइट है जो कई भाषाओं में खबरें पब्लिश करती हैं और रीडर्स को सही जानकारी देती है। वेबदुन
01 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
आज के समय में युवाओं को किसी भी सरकारी विभाग में कोई भी पद पर नौकरी मिल जाए तो ये उनके लिए सौभाग्य की बात हो जाती है। अगर ये नौकरी बैंक की हो जाए तो पांचों उंगलियां घी में और सिर कढ़ाई में वाली कहावत लागू हो जाती है। बैंक की नौकरी का समय सबसे सूटेबल और आरामदायक होता है तभी लोग दिन रात पढ़कर बैंक की
13 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
आज के समय में युवाओं को किसी भी सरकारी विभाग में कोई भी पद पर नौकरी मिल जाए तो ये उनके लिए सौभाग्य की बात हो जाती है। अगर ये नौकरी बैंक की हो जाए तो पांचों उंगलियां घी में और सिर कढ़ाई में वाली कहावत लागू हो जाती है। बैंक की नौकरी का समय सबसे सूटेबल और आरामदायक होता है तभी लोग दिन रात पढ़कर बैंक की
13 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
साल 2014 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद देश के लोगों ने इसके नेतृत्व करने वाले नरेंद्र मोदी को मान लिया था। इसके 5 सालों के बाद लोकसभा चुनाव-2019 में भी उससे ज्यादा वोट्स से जीत हासिल करने के बाद लोगों को लग गया कि अब कुछ भी हो जाए लेकिन नरेंद्र मोदी में कुछ बात तो है जिससे जनता इनसे आसानी से कनेक्ट
12 अगस्त 2019
04 अगस्त 2019
जीवन के बाइस वर्षो तक मुझे खास दोस्त और दोस्ती का अर्थ भी नहीं पता था या फिर ऐसे कहूँ कि मुझे इनकी सिर्फ कागज़ी जानकारी थी और अपने आस पास घट रहे दोस्ती के उदाहरण देख लिया करता था। इतने वर्षो के बाद मेरा मिलान एक बेहद साधारण व्यक्तित्व के इंसान से तब हुआ जब मैं बहुत घबराया हुआ था। मेरे चाचाजी अस्पताल
04 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात 8 बजे देश की जनता को संबोधित करने जा रहे हैं। ये जानकारी पीएमओ ने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से दी है। ऐसा माना जा रहा है कि पीएम मोदी का संबोधन जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के फैसले को लेकर केंद्रित रहेगा। संसद ने जम्मू-
08 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
साल 2014 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद देश के लोगों ने इसके नेतृत्व करने वाले नरेंद्र मोदी को मान लिया था। इसके 5 सालों के बाद लोकसभा चुनाव-2019 में भी उससे ज्यादा वोट्स से जीत हासिल करने के बाद लोगों को लग गया कि अब कुछ भी हो जाए लेकिन नरेंद्र मोदी में कुछ बात तो है जिससे जनता इनसे आसानी से कनेक्ट
12 अगस्त 2019
20 अगस्त 2019
आजादी के बाद भारत में कई प्रधानमंत्री बने लेकिन कुछ ऐसे थे जिन्होंने देश की तरक्की के लिए बहुत से अच्छे काम करवाए। उन्हीं में से एक थे राजीव गांधी, जो देश के 7वें और सबसे कम उम्र में बनने वाले पहले प्रधानमंत्री थे। राजीव गांधी का व्यक्तित्व बेहद शानदार रहे और वे आम जन
20 अगस्त 2019
28 अगस्त 2019
विश्व के 195 देशों में भारत निश्चित रूप से एक अनूठा स्थान लिये हुये है। शायद इसका एक बहुत बड़ा कारण हमारी पीढि़यों से चली आ रही खुबसूरत सांस्कृतिक धरोहर एवं विरासत है। हमारे देश की संस्कृति में इतनी (एकता में अनेकता) विभिन्नतायें है, जो सदैव जीवन्त बनी रहकर और अंततः एक मुहावरे के रूप में प्रसिद्ध ह
28 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक
08 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
अक्सर सेलिब्रिटीज होते हैं जो देश के प्रति कुछ काम करते हैं तो कुछ दूसरों को दिखाने के लिए करते हैं तो कुछ को दिल से देश के प्रति लगाव होता है। उन्हीं में से एक हैं भारतीय क्रिकेट टीम के दमदार प्लेयर महेंद्र सिंह धोनी जिन्होंने साल 2011 में वर्ल्ड कप अपने कप्तानी के नेतृत्व में दिलवाया था। इस बार भ
02 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
15 अगस्त, 1947 को भारत आजाद हुआ था जो पिछले 200 सालों से ब्रिटिश रूल का गुलाम बना बैठा था। ये लड़ाई साल 1857 से शुरु हुई और साल दर साल क्रांतिकारी पैदा होते चले गए। एक के बाद लोगों ने देश के नाम खुद को शहीद कर दिया लेकिन फिर भी आजादी हाथ नहीं आई। समय के साथ कई क्रांति
13 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x