सनातन की काल गणना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

17 अगस्त 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (466 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन की काल गणना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस सृष्टि के आदिकाल में जहाँ सनातन धर्म के अतिरिक्त कोई अन्य धर्म नहीं था वहीं सनातन धर्म के विद्वान ऋषि वैज्ञानिकों ने ऐसे - ऐसे रहस्यों को संसार के समक्ष रखा जिसको आज के वैज्ञानिक अभी तक नहीं समझ पा रहे हैं | मानव जीवन में समय के महत्त्वपूर्ण स्थान एवं योगदान को समझते हुए हमारे पूर्वज ऋषि वैज्ञानिकों ने समय मापन की प्रणाली विकसित की , ऐसी दिव्य एवं अद्भुत प्रणाली संसार के किसी भी अन्य धर्म या पंथ में देखने को नहीं मिलती है | सूर्य ही जगत का आधार है , सूर्य को ही मूल में रखकर काल गणना की गयी , "सूर्यसिद्धांत" नामक ग्रन्थ में समय मापन की विस्तृत विधि वर्णित की गयी है उसके अनुसार :-- एक परमाणु मानवीय चक्षु के पलक झपकने का समय = लगभग ४ सैकिण्ड , एक विघटि = ६ परमाणु = २४ सैकिण्ड , एक घटि या घड़ी = ६० विघटि = २४ मिनट , एक मुहूर्त = २ घड़ियां = ४८ मिनट , एक नक्षत्र अहोरात्रम या नाक्षत्रीय दिवस = ३० मुहूर्त (दिवस का आरम्भ सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक, ना कि अर्धरात्रि से) | इसी सिद्धांत से मनुष्य ने समय को मापना सीखा | सनातन धर्म में सूर्य को ही आधार मानकर सारे कार्य एवं गणना सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक की मानी गयी है | आधुनिक वैज्ञानिकों के अनुसार अर्द्धरात्रि को समय व तारीख बदल जाती है परंतु प्राचीन समय में तिथि व दिन परिवर्तित होने का आधार सूर्य एवं सूर्योदय ही था , इसीलिए आज भी सनातन धर्मावलम्बी "उदयातिथि" को ही महत्त्व देते चले आ रहे हैं | दिन , महीने , वर्ष , युग , मन्वन्तर एवं कल्पों की गणना हमारे ऋषि वैज्ञानिकों के द्वारा बहुत पहले कर दी गयी थी , दिव्यद्रष्ट्रा ऋषियों ने मनुष्य ही नहीं बल्कि देवताओं के दिन एवं रात्रि की गणना भी मानव समाज के उपलब्ध कराई ! इसीलिए सनातन धर्म आदि एवं महान कहा जाता है |*


*आज हम आधुनिक युग में जीवन यापन कर रहे हैं | आज का मनुष्य आधुनिक वैज्ञानिकों के द्वारा प्रतिपादित नियमों को मान लेता है परंतु शायद उसका अर्थ नहीं जानता है | आज प्राय: सभी लोग अर्द्घरात्रि को ही तारीख एवं दिन बदल जाने का पक्ष लेते हैं | ऐसे सभी लोगों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि समय का मापन प्रारम्भ एक सूर्योदयसे और अहोरात्रका मापन का समापन अपर सूर्योदयसे होता है |अर्द्घरात्रि से नहीं होता है| जैसा कि कहा है- " सूर्योदयप्रमाणेन अहःप्रामाणिको भवेत् ! अर्धरात्रप्रमाणेन प्रपश्यन्तीतरे जनाः !!" परंतु आज हम अपने सनातन ग्रंथों का अध्ययन करना ही नहीं चाहते | आज समय मापन में ए०एम० एवं पी०एम० को बहुत महत्त्व दिया जा रहा है परंतु इन दो शब्दों (ए०एम , पी०एम०) का अर्थ आधुनिक वैज्ञानिक भी नहीं समझ पाये हैं ` हमे बचपन से ये रटवाया गया, विश्वास दिलवाया गया कि इन दो शब्दो, (ए०एम० और पी०एम० ) का मतलब होता है :- ए०एम० = एंटी मेरिडियन एवं पी०एम० = पोस्ट मेरिडियन | एंटी अर्थात पहले, लेकिन किसके ? और पॉस्ट अर्थात बाद में, लेकिन फिर वही प्रश्न किसके पहले और किसके बाद ? ये कभी स्पष्ट नही किया गया क्योंकि ये चुराय गये शब्द का लघुतम रूप था | जहाँ आज के वैज्ञानिक इस रहस्य को समझ ही नहीं पाये वहीं हमारे प्राचीन संस्कृत वैज्ञानिकों ने इस संशय को अपनी आंधियो में उड़ा दिया और अब, सबकुछ साफ साफ दृष्टिगत है | हमारे ऋषि वैज्ञानिकों के अनुसार :- ए०एम० = आरोहनम मार्तण्डस्य , पी०एम० = पतनम मार्तण्डस्य | सूर्य, जो कि हर आकाशीय गणना का मूल है, उसीको गौण कर दिया, कैसे गौण किया ये सोचनीय है | भ्रम इसलिये पैदा होता है कि अंग्रेजी के ये शब्द संस्कृत के उस 'मतलब' को नही इंगित करते जो कि वास्तविक में है | आरोहणम् मार्तडस्य अर्थात सूर्य का आरोहण (चढ़ाव) और पतनम् मार्तडस्य् अर्थात सूर्य का ढलाव | दिन के बारह बजे के पहले सूर्य चढ़ता रहता है आरोहनम मार्तण्डस्य (ए०एम०), बारह के बाद सूर्य का अवसान, पतन होता है 'पतनम मार्तण्डस्य' (पी०एम०) | यह है सनातन धर्म की दिव्यता एवं वैज्ञानिकता | आवश्यकता है इसके रहस्यों को समझने की |*


*सम्पूर्ण सृष्टि में प्रसारित ज्ञान का स्रोत सनातन साहित्य ही है परंतु हम अपने इन दुर्लभ ग्रंथों का अध्ययन करके अन्यत्र झांकने का प्रयास करते हैं | यही हमारा दुर्भाग्य है |*

अगला लेख: संयुक्त परिवार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अगस्त 2019
*इस संसार में कर्म को ही प्रधान माना गया है | कर्म तीन प्रकार के होते हैं-संचित,प्रारब्ध और क्रियमाण | संचित का अर्थ है-संपूर्ण,कुलयोग | अर्थात मात्र इस जीवन के ही नहीं अपितु पूर्वजन्मों के सभी कर्म जो आपने उन जन्मों में किये हैं | आपने इन कर्मों को एकत्र करके अपने खाते में डाल लिया है | ‘प्रारब्ध’
03 अगस्त 2019
22 अगस्त 2019
*इस संसार में मानव जीवन प्राप्त करने के बाद मनुष्य के विकास एवं पतन में उसके आचरण का महत्वपूर्ण योगदान होता है | मनुष्य का आचरण जिस प्रकार होता है उसी के अनुसार वह पूज्यनीय व निंदनीय बनता है | मनुष्य को संस्कार मां के गर्भ से ही मिलना प्रारंभ हो जाते हैं | हमारे महापुरुषों एवं आधुनिक वैज्ञानिकों दो
22 अगस्त 2019
21 अगस्त 2019
*परमपिता परमात्मा के द्वारा इस समस्त सृष्टि में चौरासी लाख योनियों का सृजन किया गया , जिसमें सर्वश्रेष्ठ बनकर मानव स्थापित हुआ | मनुष्य यदि सभी प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है तो उस का प्रमुख कारण है मनुष्य की बुद्धि , विवेक एवं विचार करने की शक्ति | मनुष्य यदि अपने विचार शक्ति पर समुचित नियंत्रण कर
21 अगस्त 2019
21 अगस्त 2019
*इस सृष्टि में आदिकाल से सनातन धर्म विद्यमान है | सनातन धर्म से ही निकलकर अनेकों धर्म / सम्प्रदाय एवं पंथ बनते - बिगड़ते रहे परंतु सनातन धर्म आदिकाल से आज तक अडिग है | यदि सनातन धर्म आज तक अडिग है तो इसका मूल कारण है सनातन के सिद्धांत एवं संस्कार , जिसे सनातन की नींव कहा जाता है | इस संसार में नींव
21 अगस्त 2019
29 अगस्त 2019
*इस संसार में मनुष्य अनेकों प्रकार के कर्म करके अपने कर्मों के अनुसार फल प्राप्त करता रहता है | मनुष्य जाने अनजाने में कृत्य - कुकृत्य किया करता है | कभी-कभी तो अपराधी अपराध करने के बाद भी दंड नहीं पाता तो उसको यह नहीं सोचना चाहिए कि वह पूर्णतया दण्ड से मुक्त हो गया है क्योंकि एक दिन सबको ही यह संस
29 अगस्त 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x