सुंदर पिचाई के सफलता के पीछे की कहानी आप जानते हैं ? (Sundar Pichai Biography in Hindi)

21 अगस्त 2019   |  स्नेहा दुबे   (531 बार पढ़ा जा चुका है)

सुंदर पिचाई के सफलता के पीछे की कहानी आप जानते हैं ? (Sundar Pichai Biography in Hindi)

भारत में बहुत से ऐसे नौजवान रहे हैं जिन्होंने अपने देश का नाम पूरी दुनिया में रोशन किया है। उन्हीं लोगों में एक नाम है सुंदर पिचाई, जो Google CEO हैं और अपने काम से हर किसी को प्राउड फील कराते हैं। Sundar Pichai एक सॉफ्टवेयर इंजिनियर हैं, जो इस समय गूगल इंक कंपनी के चीफ एक्जिक्टिव ऑफिसर के पद पर काम करते हैं। भारत में जन्में सुंदर पिचाई को गूगल में काम करते करीब 10 साल हो गए हैं और इस दौरान कंपनी को कई सारी उपलब्धियां इनकी वजह से हुई है और कंपनी को अपना योगदान भी दिया है। Sundar Pichai Biography in Hindi में आपको हम इनके बारे में सबकुछ बताने वाले हैं।


sundar pichai

सुंदर पिचाई का संक्षिप्त विवरण (Short Description of Sundar Pichai )


sundar pichai


सुंदर पिचाई का जन्म और शिक्षा


sundar pichai

12 जुलाई, 1972 को तमिलनाडु के मदुरै शहर में जन्में सुंदर में ही इऩकी शुरुआती पढ़ाई हुई। इनके पिता विद्युत इंजीनियर थे और इनकी मां बतौर स्टेनोग्राफर के तौर पर सरकारी नौकरी करती थीं। इनकी 10वीं तक की पढ़ाई जवाहर विद्यालय से हुई और फिर 12वीं इन्होने वाना वानी स्कूल से की। इन्होंने मेटलर्जिकल इंजीनियर विषय में डिग्री भाकतीय प्रोद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर से पूरी की। इस डिग्री के साथ सुंदर अमेरिका चले गए और यहां पर स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले लिया। यहां से भौतिक विज्ञान और इंजीनियरिंग में मास्टर्स भी किया। इसके अलावा व्हार्टन स्कूल ऑफ पेंसिल्वेनिया से एमबीए की पढ़ाई की। शुरुआती समय में सुंदर का मन पढ़ाई में ज्यादा नहीं लगता था इनका मन क्रिकेट में रहता था और वे स्कूल में क्रिकेट टीम के कप्तान भी रहे हैं। पढ़ाई पूरी करने क बाद सुंदर पिचाई ने एप्लाइड मैटेरियल्स में इंजीनियरिंग और प्रोडक्ट मैनेजर के तौर पर काम किया। इसके बाद उन्होंने मैकिंसे एंड कंपनी में मैनेजमेंट कंसल्टिंग पद पर काम किया। साल 2004 में सुंदर पिचाई ने गूगल ज्वाइन किया जहां वे उत्पाद प्रबंधन, नई खोजों और नए विचारों से संबंधित कामों की जिम्मेदारी ली। इसमें इन्होंने गूगल क्रोम, क्रोम ओ.एस और गूगल ड्राइव जैसे प्रोजेक्ट पर काम किया और फिर इसके साथ ही गूगल मैप्स और जी मेल जैसे महत्वपूर्ण एप्लीकेशन डेवलपमेंट में काम किया। 19 नवंबर, 2009 में सुंदर पिचाई क्रोम ओ.एस. का प्रदर्शन किया और इसके बाद क्रोमबुरक को साल 2011 में जांच के लिए भेजा गया और फिर साल 2012 में इसे यूजर्स के लिए लॉन्च किया गया। मई, 2010 में पिचाई ने गूगल के नए वीडियो कोडेक VP8 के ओपन सोर्सिंग का एलान किया गया और गूगल के इस वीडियो को कोडेक ने एक नया वीडियो फॉर्मेट WebM प्रस्तुत किया।


sundar pichai

मार्च, 2013 में एंड्रएड भी सुंदर पिचाई के अंतर्गत आने वाले प्रोडक्ट्स को शामिल किया गया। इससे पहले एंड्राएड का काम और विकास एंडी रुबिन के प्रबंधन में हो रहा था और साल 2014 में माइक्रोसॉफ्ट के अगले सी.ई.ओ. के तौर पर सुंदर पिचाई खबरों में रहे। 10 अगस्त, 2015 को सुंदरपिचाई ने सोशल मीडिया पर गूगल का अगला सी.ई.ओ. बनाने के लिए जानकारी दी थी। 24 अक्टूबर, 2014 को गूगल के को-फाउंडर लैरी पेज ने पिचाई को Product Head बनाने की घोषणा की थी। सुंदर पिचाई अपने नये पद को अल्फाबेट इंक के स्थापना के बाद संभालेंगे। अल्फाबेट इंक अब गूगल के सभी प्रोडक्ट्स और कंपनियों को होल्डिंग कंपनी होगी जिसके सी.ई.ओ. लैरी पेज होंगे।


सुंदर पिचाई की शादी (Sundar Pichai Wife)


sundar pichai

सुंदर पिचाई ने आई.आई.टी. खड़गपुर में पढ़ने के दौरान अंजलि से दोस्ती की थी। इनके साथ दोस्ती गहरी हुई और पढ़ाई पूरी होने पर दोनों ने शादी कर ली। इन्हें दो बच्चे काव्या बेटी और किरन बेटा है। सुंदर पिचाई को बॉलीवुड फिल्में देखना पसंद है और वे फिल्म इंडस्ट्री में हुई सेलिब्रिटीज की शादियों में अपनी पत्नी और बच्चों के साथ पहुंच जाते हैं। सुंदर पिचाई को अपने भारत पर गर्व है और जब नरेंद्र मोदी अमेरिका जाते हैं तो सुंदर पिचाई उनसे जरूर मिलते हैं, इसे कहते हैं धरती से जुड़ा बंदा। सुंदर पिचाई ने न्यूयॉर्क में में 6.8 मिलयन डॉलर में घर खरीदा था और अब अमेरिका के नागरिक हैं और न्यूयॉर्क में अपने परिवार के साथ वहीं रहते हैं।


सुंदर पिचाई से जुड़ी कुछ अन्य बातें (Lesser Facts about Sundar Pichai )


sundar pichai

1. 43 साल के सुंदर पिचाई का असली नाम पिचाई सुंदराजन है। सुंदर की बचपन में टेक्नोलॉजी नहीं बल्कि क्रिकेट में रुचि थी।

2. सुंदर पिचाई की याद्दाश्त के बारे में बताया जाता है कि उन्हें नंबर्स बहुत जल्दी याद होते हैं। एक रिपोर्ट की मुताबिक इनके घर साल 1984 में लैंडलाइन लगा था और जब कोई इनका नंबर भूल जाता था तो वे सुंदर की याद्दाश्त का सहारा लेते थे।

3. सुंदर पिचाई की याद्दाश्त के कारण ही उन्हें माइक्रोसॉफ्ट से डबल सैलरी की जॉब ऑफर हुई थी। मगर सुंदर ने उनका शुक्रिया अदा करके इस ऑफर को मना कर दिया था।

4. IIT खड़गपुर में स्टूडेंट के दौरान सुंदर पिचाई की जमकर रैगिंग हो गई थी। रैगर्स इन्हें सुंदी कहकर पुकारते थे क्योंकि सुंदर एक बार में उनकी बात मानकर उनके लिए कुछ भी कर देते थे।

5. सुंदर पिचाई पढ़ाई के दौरान चेन्नई के दौरान दो कमरों के घर में रहते थे और इंजीनियरिंग करने के बाद इन्हं स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की स्कॉलरशिप भी मिली थी। तब उनके घर की हालत इतनी खराब थी कि इनके पिता ने कर्ज लेकर सुंदर की एयर टिकट करवाई थी।

6. सुंदर पिचाई जब अमेरिका में पढ़ रहे थे तब उनकी शादी हो चुकी थी और उनकी वाइफ अंजलि भारत में ही थीं। सुंदर के पास तब इतने पैसे नहीं होते थे कि वे अपनी पत्नी से बात कर पाएं। ऐसे में उन्हें 6 महीने भी हो जाते थे उनसे बात किए।

7. Twitter ने साल 2011 में सुंदर को जॉब ऑफर किया था और वो तैयार भी हो गए थे लेकिन गूगल ने नौकरी ना छोड़ने के 305 करोड़ रुपये दिए थे क्योंकि गूगल जानता था कि सुंदर में दम है।


sundar pichai

8. जिस कॉलेज में सुंदर ने पढ़ाई की थी उस कॉलेज के बच्चों के लिए सुंदर पिचाई एक प्रेरणा हैं। आज भी Skype के जरिए यहां के छात्रों से बात करते हैं और उन्हें टिप्स देते रहते हैं।

9. 9. सुंदर पिचाई गूगल के उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें उभरते बाजार में गूगल को आगे ले जाने के लिए पहचाना जाता है। उन्हें Google Founder Larry Page से भी बेहतर डेवलपर माना जाता है।

10. अमेरिकी मीडिया पिचाई को लैरी पेज का राइट हैंड मानती है। लैरी पेज जब भी किसी मीटिंग मं जाते हैं तो पिचाई भी साथ जाते हैं और बहुत कम बोलना पसंद करते हैं। जबकि उनके बॉस चाहते हैं कि सुंदर बोले लेकिन वे उतना बोलते हैं जितनी की जरूरत होती है।

11.पिचाई में टीम को मैनेज करने की खास कला है। उन्होंने हमेशा अपनी टीम के काम की सराहना की है और हर हाल में टीम के साथ खड़े रहते हैं। एक बार की बात है जब मैरिसा मेयर गूगल की एक्जीक्यूटिव थीं, पिचाई घंटों उनके ऑफिस में बैठकर उनका वेट करते रहे। ये देखने के लिए कि मैरिसा उनकी टीम मेंबर्स को अच्छे से ट्रीट करती हैं या नहीं।

12. गूगल क्रोम जिसे पूरी दुनिया चलाती है उसे सुंदर पिचाई ने अपने हाथों से बनाया है। इसके पीछे उनकी दिन-रात की मेहनत है और इसे लॉन्च करने के समय उन्होंने इससे जुड़ी मेहनत के बारे में बताया।

सुंदर पिचाई के सफलता के पीछे की कहानी आप जानते हैं ? (Sundar Pichai Biography in Hindi)

अगला लेख: दुश्मन देश पाकिस्तान में गाना मीका सिंह के लिए बनी मुसीबत, AICWA ने किया बहिष्कार



बसन्त कुमार
27 अगस्त 2019

सुंदर पिचाई
सलाम आप जैसे सभी भारतीय को

रूचि
21 अगस्त 2019

ऐसी जानकारी देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया|

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अगस्त 2019
भारत में बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं जिनके बारे में आमतौर पर लोग समाज में बात करना पसंद नहीं करते हैं। जिसमें सेक्स, माहवारी और भी कुछ बातें होती हैं लेकिन असल में हम सबको इन्ही सबके बारे में बात करनी चाहिए, अगर इसमें कोई परेशानी है तो, खुलकर अपने दोस्तों ,पार्टनर और डॉक्टर्स से बात करें। इनमें सबस
13 अगस्त 2019
07 अगस्त 2019
आज देश अपनी दमदार लीडर को खोने का गम मना रहा है और उनका नाम सुषमा स्वराज है जिनका निधन 7 अगस्त की शाम को दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हो गया था। सुषमा स्वराज का नाम राजनीति में स्वर्णिम अक्षरों से लिखा जाएगा और भारतीय राजनीति के इतिहास में उनका योगदार अहम रहा है। सुषमा स्वराज हमेशा लोगों की मदद के लि
07 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक
08 अगस्त 2019
14 अगस्त 2019
इस साल भारत अपनी आजादी के 73वें साल में कदम रखेगा और इसके साथ ही पूरे देश में लोगों ने 15 अगस्त की तैयारियां भी अपने स्कूल, दफ्तर और घरों में शुरु कर दी है। इस साल 15 अगस्त को ही रक्षा बंधन का पर्व पड़ने वाला है और ये वजह भी है जब पूरा देश इस दिन को धूमधाम से मनाने वाला है। हर कोई आजादी के जश्न में
14 अगस्त 2019
14 अगस्त 2019
जब से पुलवामा हमला हुआ है तब से पूरा देश और भारत सरकार एकजुट होकर पाकिस्तान का बहिष्कार करने में लगा हुआ है। छुट्टी से ड्यूटी पर लौट रहे भारतीय जवानों की बस में धमाका करवाने वाले आतंकियों का समूह जैश-ए-मोहम्मद का था लेकिन पाकिस्तान ने इस बात से इंकार कर दिया। भारत ने इसका सबूत दिया फिर भी पाक को अपन
14 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रात 8 बजे देश की जनता को संबोधित करने जा रहे हैं। ये जानकारी पीएमओ ने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से दी है। ऐसा माना जा रहा है कि पीएम मोदी का संबोधन जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के फैसले को लेकर केंद्रित रहेगा। संसद ने जम्मू-
08 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
साल 2014 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद देश के लोगों ने इसके नेतृत्व करने वाले नरेंद्र मोदी को मान लिया था। इसके 5 सालों के बाद लोकसभा चुनाव-2019 में भी उससे ज्यादा वोट्स से जीत हासिल करने के बाद लोगों को लग गया कि अब कुछ भी हो जाए लेकिन नरेंद्र मोदी में कुछ बात तो है जिससे जनता इनसे आसानी से कनेक्ट
12 अगस्त 2019
14 अगस्त 2019
मिया खलीफा. काफी पॉपुलर नाम है. सोशल मीडिया से लेकर लोगों की फोन की गैलरी तक, हर जगह इनकी पहुंच है. ये एक ऐसी फेमस पॉर्न स्टार रहीं, जिन्हें इंटरनेट पर सबसे ज्यादा सर्च किया गया. रहीं इसीलिए लिखा है, क्योंकि इन्होंने पॉर्न इंडस्ट्री छोड़ दी है. और पॉर्न इंडस्ट्री छोड़कर न
14 अगस्त 2019
08 अगस्त 2019
दुनिया के इतिहास में ऐसी-ऐसी घटनाएं हुई हैं कि बहुत से लोग प्रभावित हुए हैं और इसके बारे में हमें हमारे पूर्वजों से पता चला है। जिस तरह से भारत अंग्रेजों का गुलाम बन गया था वैसे ही दूसरे देशों के साथ भी बहुत कुछ हुआ है जिसके प्रमाण इतिहास में मिलते हैं। कुछ ऐसा ही 6 अ
08 अगस्त 2019
12 अगस्त 2019
साल 2014 में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद देश के लोगों ने इसके नेतृत्व करने वाले नरेंद्र मोदी को मान लिया था। इसके 5 सालों के बाद लोकसभा चुनाव-2019 में भी उससे ज्यादा वोट्स से जीत हासिल करने के बाद लोगों को लग गया कि अब कुछ भी हो जाए लेकिन नरेंद्र मोदी में कुछ बात तो है जिससे जनता इनसे आसानी से कनेक्ट
12 अगस्त 2019
16 अगस्त 2019
अटल बिहारी बाजपेयी..राजनीति का एक ऐसा चेहरा जिसकी जगह शायद ही कोई ले पाए। जिन्होंने सोचा तो पत्रकार बनने का था लेकिन आ राजनीति में गए थे। इस वजह से वे पत्रकारों का बहुत सम्मान करते थे और उनसे कहते थे 'जो मैं करना चाहता था वो आप लोग कर रहे हैं।' अटल बिहारी बाजपेयी 16 अगस्त, 2018 को लंबे समय से बीमारी
16 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
15 अगस्त, 1947 को भारत आजाद हुआ था जो पिछले 200 सालों से ब्रिटिश रूल का गुलाम बना बैठा था। ये लड़ाई साल 1857 से शुरु हुई और साल दर साल क्रांतिकारी पैदा होते चले गए। एक के बाद लोगों ने देश के नाम खुद को शहीद कर दिया लेकिन फिर भी आजादी हाथ नहीं आई। समय के साथ कई क्रांति
13 अगस्त 2019
14 अगस्त 2019
15 अगस्त यानी भारत के आजाद होने का दिन, जब पूरा देश एक हो जाता है। हर किसी की देशभक्ति दिखती है और हर कोई आजादी के जश्न में डूब जाता है। इस साल आजादी और रक्षाबंधन का जश्न देश एक साथ ही मना रहा है। रक्षाबंधन का त्यौहार देश के लिए अहम है और इसे हर धर्म के लोग मनाने लगे हैं क्योकि धर्म चाहे जो भी हो ले
14 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x