श्री कृष्णाष्टकम्

23 अगस्त 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (3594 बार पढ़ा जा चुका है)

श्री कृष्णाष्टकम्

|| अथ श्री आदिशंकराचार्यकृतम् श्री कृष्णाष्टकं ||

भजे व्रजैक मण्डनम्, समस्तपापखण्डनम्,
स्वभक्तचित्तरञ्जनम्, सदैव नन्दनन्दनम्,
सुपिन्छगुच्छमस्तकम्, सुनादवेणुहस्तकम् ,
अनङ्गरङ्गसागरम्, नमामि कृष्णनागरम् ||१||

मनोजगर्वमोचनम् विशाललोललोचनम्,
विधूतगोपशोचनम् नमामि पद्मलोचनम्,
करारविन्दभूधरम् स्मितावलोकसुन्दरम्,
महेन्द्र मानदारणम्, नमामि कृष्णवारणम् ||२||
कदम्बसूनकुण्डलम् सुचारुगण्डमण्डलम्,
व्रजान्गनैक वल्लभं नमामि कृष्णदुर्लभम्,
यशोदया समोदया सगोपया सनन्दया,
युतं सुखैकदायकम् नमामि गोपनायकम् ||३||

सदैव पादपंकजं मदीय मानसे निजम्,
दधानमुत्तमालकम्, नमामि नन्दबालकम्,
समस्त दोषशोषणम्, समस्त लोकपोषणम्,
समस्त गोप मानसम्, नमामि नन्द लालसम् ||४||
भुवो भरावतारकम् भवाब्धिकर्णधारकम्,
यशोमतीकिशोरकम्, नमामि चित्तचोरकम्,
दृगन्तकान्तभङ्गिनम्, सदा सदालसंगिनम्,
दिने दिने नवम् नवम् नमामि नन्दसंभवम् ||५||

गुणाकरम् सुखाकरम् कृपाकरम् कृपापरम्,
सुरद्विषन्निकन्दनम्, नमामि गोपनन्दनम्,
नवीनगोपनागरं नवीनकेलिलम्पटम्,
नमामि मेघसुन्दरम् तडित्प्रभालसत्पटम् ||६||
समस्तगोपनन्दनम्, हृदम्बुजैक मोदनम्,
नमामि कुञ्जमध्यगम्, प्रसन्नभानुशोभनम्,
निकामकामदायकम् दृगन्तचारुसायकम्,
रसालवेणुगायकम्, नमामि कुञ्जनायकम् ||७||
विदग्धगोपिका मनो मनोज्ञतल्पशायिनम्,
नमामि कुञ्जकानने प्रवृद्धवह्निपायिनम्.
किशोरकान्तिरञ्जितम, दृगन्जनं सुशोभितम,
गजेन्द्रमोक्षकारणम्, नमामि श्रीविहारिणम् ||८||
यथा तथा यथा तथा तदैव कृष्णसत्कथा,
मया सदैव गीयताम् तथा कृपा विधीयताम्,
प्रमाणिकाष्टकद्वयम् जपत्यधीत्य यः पुमान्,
भवेत् स नन्दनन्दने भवे भवे सुभक्तिमान् ||९||

|| इति श्री आदिशंकराचार्येण विरचितं श्री कृष्णाष्टकं सम्पूर्णम् ||

आदि शंकराचार्य ने बहुत ही सरल भाषा में – जिसे जन साधारण भी सरलता से समझ सके - इस गेय स्तोत्र को रचा है | इस सम्पूर्ण स्तोत्र का भाव तो वास्तव में अत्यन्त गहन दार्शनिक तथा आध्यात्मिकता से ओत प्रोत है | किन्तु संक्षिप्त भावार्थ यही है कि बृजभूमि के एकमात्र आभूषण, समस्त पापों को नष्ट करने वाले तथा अपने भक्तों के चित्तों को आनंदित करने वाले, मोरपंख और वंशी से सुशोभित, काम कला के सागर, कामदेव के भी मान का मर्दन करने वाले, सुन्दर नेत्र, सुन्दर कपोल, सुन्दर अलकों और मधुर मुस्कान तथा चितवन से युक्त, गोवर्धनधारी, समस्त लोकों का पालन करने वाले, भव सागर के कर्णधार, नित्य नूतन लीला रचाने वाले, सूर्य के समान दैदीप्यमान, सुमधुर वेणु बजाकर गान करने वाले तथा सबकी मनोकामनाएँ पूर्ण करने वाले नन्दनन्दन को हम भक्तियुक्त होकर नमन करते हैं |

भगवान् श्रीकृष्ण सबको मनोकामनाएँ पूर्ण करके कर्मभूमि में अर्जुन की भाँती सभी का मार्गदर्शन करें तथा गोपियों के समान सभी के हृदयों को नि:स्वार्थ प्रेम और सद्भावों से युक्त करें, इसी कामना के साथ सभी को श्री कृष्ण जन्म महोत्सव को अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/08/23/shree-krishnashtakam/

अगला लेख: श्री कृष्ण जन्माष्टमी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अगस्त 2019
आज भगवान् श्री कृष्ण काजन्म महोत्सव है | देश के सभी मन्दिर और भगवान् की मूर्तियों को सजाकर झूले लगाएगए हैं | न जाने क्यों,इस अवसर पर अपनी एक पुरानी रचना यहाँ प्रस्तुत कर रहे हैं, क्योंकि हमारे विचार सेमानव में ही समस्त चराचर का साथी बन जाने की अपार सम्भावनाएँ निहित हैं, और यही युग प्रवर्तक परम पुरुष
24 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
शुक्र का सिंह में गोचर शुक्रवार सोलह अगस्त यानी भाद्रपदकृष्ण द्वितीया को तैतिल करण और अतिगण्ड योग में रात्रि आठ बजकर चालीस मिनट केलगभग समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि के कारकशुक्र का अपने शत्रु ग्रह सूर
13 अगस्त 2019
16 अगस्त 2019
सूर्य का सिंह में गोचरकल भाद्रपद कृष्ण द्वितीया यानी 17 अगस्तको दिन में एक बजकर तीन मिनट के लगभग गर करण और अतिगण्ड योग में सूर्यदेव अपनेमित्र ग्रह चन्द्र की कर्क राशि से निकल कर अपनी स्वयं की राशि सिंह और मघा नक्षत्रमें प्रस्थान कर जाएँगे | यहाँ भ्रमण करते हुए 31 अगस्त को पूर्वा फाल्गुनीनक्षत्र और च
16 अगस्त 2019
07 सितम्बर 2019
शुक्र का कन्या में गोचर मंगलवार नौ सितम्बर भाद्रपद शुक्लद्वादशी को 25:41 (अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर इकतालीस मिनट के लगभग) बव करण और शोभनयोग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र शत्रु ग्रह स
07 सितम्बर 2019
18 अगस्त 2019
19 से 25 अगस्त 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
18 अगस्त 2019
01 सितम्बर 2019
2 से 8 सितम्बर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
01 सितम्बर 2019
08 अगस्त 2019
मंगल का सिंह में गोचरकल शुक्रवार नौ अगस्तयानी श्रावण शुक्ल नवमी को सूर्योदय से लगभग एक घंटा पूर्व चार बजकर सैंतालीस मिनटके लगभग मंगल अपने एक मित्र चन्द्र की कर्क राशि से निकल कर दूसरे मित्र ग्रहसूर्य की राशि सिंह में और मघा नक्षत्र पर प्रस्थान कर जाएगा तथा अस्त होगा और 22अक्टूबर तक अस्त ही रहेगा | इ
08 अगस्त 2019
28 अगस्त 2019
कृ
आया रे आया वो दिन और बहारचलो हमलोग चले मेलाआ गया जन्माष्टमी का त्योहार मेला जाकर पुजा पाठ करेंगे राधा कृष्ण को मनाएंगे खुब मिठाई खाएंगे अच्छे से मनाएंगे त्योहार आ गया जन्माष्टमी का त्योहार रंग बिरंगे नये कपड़े हम पापा से खरीदवाएंगेघूमेंगे मेला मे खुलेआम आ गया जन्माष्टमी का त्योहार तरह-तरह के खिलौना भ
28 अगस्त 2019
03 सितम्बर 2019
पर्यूषण पर्व - दशलाक्षण पर्वमित्रों !भाद्रपद कृष्ण द्वादशी से भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी तक चलने वाला श्वेताम्बर जैनसम्प्रदाय का अष्टदिवसीय पर्यूषण पर्व कल संपन्न हुआ है और आज यानी भाद्रपद शुक्लपञ्चमी से दिगंबर जैन सम्प्रदाय के दशदिवसीय पर्यूषण पर्व अर्थात क्षमावाणी पर्व औरदशलाक्षण पर्व का आरम्भ हो चुका
03 सितम्बर 2019
24 अगस्त 2019
कृ
कृष्ण जन्माष्टमी के दिन कृष्ण की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका है उनके विचरों पर अम्ल करना. मेरे इस विचार से तो सारे हिन्दू ही नहीं हिदुत्ववादी भी सहमत होंगे. कृष्ण को लोग अपनी अपनी सहूलियत के हिसाब से देखते है, किसी के लिए वो
24 अगस्त 2019
01 सितम्बर 2019
कर्ण का अंतिम संस्कार महाभारत के युद्ध में जब कर्ण को अर्जुन ने मृत्युशय्या पर लिटा दिया तो श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को महात्मा का भेस धारण करके आने को कहा और वह दोनो महात्मा के भेस में कर्ण के समीप पहुंचे श्री कृष्ण
01 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x