शिक्षा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 अगस्त 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (3590 बार पढ़ा जा चुका है)

शिक्षा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है | शिक्षा प्राप्त किए बिना मनुष्य जीवन के अंधेरों में भटकता रहता है | मानव जीवन की नींव विद्यार्थी जीवन को कहा जा सकता है | यदि उचित शिक्षा ना प्राप्त हो तो मनुष्य को समाज में पिछड़ कर रहना और उपहास , तिरस्कार आदि का भाजन बनना पड़ता है | यदि शिक्षा समय रहते ना मिले तो फिर अंधेरे में भटकना और जीवन में ठोकरें खाना ही हाथ रह जाता है | सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि शिक्षकों एवं अभिभावकों को यह विचार करना चाहिए कि शिक्षा का उद्देश्य क्या होना चाहिए ? पहले इतने विद्यालय तो नहीं थे परंतु गुरुकुल आश्रमों की शिक्षा सुदृढ़ होती थी , बालक वहां से संस्कारी एवं विद्वान बनकर निकलता था | यदि मनुष्य के अंदर संस्कार हैं तो उसे जीवन के किसी भी क्षेत्र में पराजय का मुंह नहीं देखना पड़ेगा | हमारे गुरुकुल आश्रमों में विद्यार्थी के गुण , कर्म एवं स्वभाव का निर्माण करके उसमें संस्कार आरोपित करके किया जाता था | शिक्षा का उद्देश्य मात्र धनोपार्जन ना हो करके लोक कल्याणक होता था | मात्र वैदिक शिक्षा ही नहीं बल्कि बालकों को सांसारिक एवं औद्योगिक शिक्षा भी गुरुकुल आश्रमों में दी जाती थी इसके साथ ही अस्त्र शस्त्र चलाने की कला सिखाने की व्यवस्था भी प्राचीन गुरुकुल विद्यालयों में थी | छात्र को गुरुओं के द्वारा कठिन परीक्षा से भी दो-चार होना पड़ता था जिससे छात्र की मनोभूमि मजबूत होकर के समाज में उठ रही विकृतियों से लड़ने का साहस प्रदान करती थी | तब लोग अनाचार / कदाचार का विरोध करते हुए उसका दमन करने का प्रयास करते थे | हमारे गुरुकुल आश्रम की शिक्षा व्यवस्था बालक को उसकी रूचि के अनुसार किसी भी परीक्षा में उत्तीर्ण होने के लिए तैयार करती थी | सबसे बड़ी परीक्षा होती है जीवन की , जीवन की कठिनाइयों में एक मनुष्य को कैसा आचरण करना चाहिए यह शिक्षा प्राचीन भारत के गुरुकुल आश्रमों में ही मिल सकती थी | यही कारण है कि गुरुकुल से निकले हुए छात्रों ने भारत देश की ध्वजा संपूर्ण विश्व में फहराते हुए भारत को विश्व गुरु बनने में सहयोग प्रदान किया था |*


*आज संपूर्ण विश्व ने बहुत प्रगति कर ली है | जीवन के हर क्षेत्र में मनुष्य नें सफलता के परचम लहराए हैं , इनसे शिक्षा क्षेत्र भी अधूरा नहीं है | आज अनेक प्रकार के आधुनिक संसाधनों के साथ छात्रों को शिक्षा तो प्रदान की जा रही है परंतु यदि यह कहा जाए कि आज की शिक्षा का लक्ष्य मात्र धनोपार्जन रह गया है तो अतिशयोक्ति नहीं होगी | यह प्रवृत्ति कलियुग का प्रभाव है या आज की आवश्यक आवश्यकता यह विचारणीय विषय है | वैसे तो गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने मानस में बहुत पहले लिख दिया था कि :- मातु पिता बाल्कन्ह बोलावहिं ! उदर भरहिं सोइ धर्म सिखावहिं !! कलियुग में माता पिता अपने पुत्र को वही धर्म सिखाएंगे जिससे कि धनोपार्जन करके उदर की पूर्ति हो जाए | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज की शिक्षा व्यवस्था को देख रहा हूं जिसमें संस्कार एवं संस्कृति का लोप होता जा रहा है | एक नौनिहाल को संस्कारी एवं शिक्षित बनाने के लिए जितना दायित्व शिक्षक का है उससे कहीं अधिक अभिभावक का भी होता है , क्योंकि विद्यार्थी दोनों ही वातावरण में पलता रहता है | परंतु आज अभिभावक अपने बच्चों को समय नहीं दे पा रहे हैं जिसके कारण विद्यालय में प्राप्त होने वाली शिक्षा बालक को तो प्राप्त हो जाती है परंतु घर से मिलने वाले संस्कारों से वह वंचित हो जाता है | यही कारण है कि आज समाज में अनेक प्रकार की विकृतियाँ देखने को मिल रही हैं | किसी भी मनुष्य का संस्कारी होना उतना ही आवश्यक है जितना कि उसका जीवन जीना ! बिना संस्कार के मनुष्य पशु के समान ही जीवन व्यतीत करता है | यह दुखद है कि आज विद्यालयों में शिक्षा की उचित व्यवस्था तो देखने को मिलती है परंतु संस्कार कहीं भी देखने को नहीं मिल रहे , जिसका परिणाम आज स्पष्ट देखा जा सकता है |*


*बालकों में शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों का आरोपण होते रहना चाहिए अन्यथा आने वाला समय कैसा होगा यह सोचकर ही हृदय कम्पित हो जाता है |*

शिक्षा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: संयुक्त परिवार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अगस्त 2019
*सनातन धर्म में आध्यात्म का बहुत बड़ा महत्व है | अध्यात्म की पहली सीढ़ी साधना को बताया गया है | किसी भी लक्ष्य की साधना करना बहुत ही दुष्कर कार्य है , जिस प्रकार कोई पर्वतारोही नीचे से ऊपर की ओर चढ़ने का प्रयास करता है उसी प्रकार साधना आध्यात्मिक सुमेरु की ओर चढ़ने का प्रयास है | साधना करना सरल नही
31 अगस्त 2019
31 अगस्त 2019
*पुण्यभूमि भारत से ही मानव जीवनोपयोगी ज्ञान सम्पूर्ण पृथ्वी पर फैला था | इसीलिए भारत को विश्वगुरु कहा जाता था | भारत को विश्वगुरु बनाने में हमारे ऋषि - महर्षियों का बहुत बड़ा योगदान रहा है | हमारे मनीषियों ने प्रकृति को सर्वश्रेष्ठ मानते हुए उसी से ज्ञानार्जन करने का प्रयास किया और अपने उसी ज्ञान को
31 अगस्त 2019
17 अगस्त 2019
*इस सृष्टि में चौरासी लाख योनियों में सर्वोत्तम योनि मनुष्य की कही गयी है | अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में मनुष्य यत्र - तत्र भ्रमण करता रहता है इस क्रम में मनुष्य को समय समय पर अनेक प्रकार के अनुभव भी होते रहते हैं | परमात्मा की माया इतनी प्रबल है कि मनुष्य उनकी माया के वशीभूत होकर काम , क्रोध , मोह , प
17 अगस्त 2019
03 सितम्बर 2019
*इस समस्त सृष्टि में जहां अनेकों प्रकार के जीव भ्रमण करते हैं जलचर , थलचर , नभचर मिला करके चौरासी लाख योनियाँ बनती है | इन चौरासी लाख योनियों में मानव योनि को सर्वश्रेष्ठ बताते हुए हमारे धर्मग्रंथ इस पर अनेकों अध्यात्म वर्णन करते हुए दृष्टिगत होते हैं | प्रायः सभी धर्मग्रंथों में इस मानव शरीर को द
03 सितम्बर 2019
30 अगस्त 2019
*इस सृष्टि में जीव चौरासी लाख योनियों की यात्रा किया करता है | इन चौरासी लाख योनियों के चक्रानुक्रम में समस्त कलुषित कषाय को धोने के उद्देश्य जीव को मानव योनि प्राप्त होती है | इसी योनि में पहुंचकर जीव पूर्व जन्मों के किए गए कर्म - अकर्म को अपने सत्कर्म के द्वारा धोने का प्रयास करता है | मानव योनि म
30 अगस्त 2019
29 अगस्त 2019
*पूर्वकाल में मनुष्य ने आत्मिक प्रगति की थी | संस्कारों का स्वर्णयुग पूर्वकाल को कहा जा सकता है तो इसका प्रमुख कारण था संयुक्त परिवार | संयुक्त परिवार में सुख शांति एवं व्यवस्था का आधार आत्मीयता एवं पारस्परिक सहयोग ही होता है | जहां एक काम को परिवार के सभी सदस्य मिलकर के पूरा कर लेते थे और सामूहिक ध
29 अगस्त 2019
22 अगस्त 2019
*इस संसार में मानव जीवन प्राप्त करने के बाद मनुष्य के विकास एवं पतन में उसके आचरण का महत्वपूर्ण योगदान होता है | मनुष्य का आचरण जिस प्रकार होता है उसी के अनुसार वह पूज्यनीय व निंदनीय बनता है | मनुष्य को संस्कार मां के गर्भ से ही मिलना प्रारंभ हो जाते हैं | हमारे महापुरुषों एवं आधुनिक वैज्ञानिकों दो
22 अगस्त 2019
25 अगस्त 2019
*इस संसार में मनुष्य में बुद्धि - विवेक विशेष रूप से परमात्मा द्वारा प्रदान किया गया है | मनुष्य अपने विवेक के द्वारा अनेकों कार्य सम्पन्न करता रहता है | इन सबमें सबसे महत्त्वपूर्ण है मनुष्य का दृष्टिकोण , क्योंकि मनुष्य का दृष्टिकोण ही उसके जीवन की दिशाधारा को तय करता है | एक ही घटना को अनेक मनुष्य
25 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x