कृष्णजन्माष्टमी (भाग 1)

24 अगस्त 2019   |  pradeep   (3541 बार पढ़ा जा चुका है)

कृष्ण जन्माष्टमी के दिन कृष्ण की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका है उनके विचरों पर अम्ल करना. मेरे इस विचार से तो सारे हिन्दू ही नहीं हिदुत्ववादी भी सहमत होंगे. कृष्ण को लोग अपनी अपनी सहूलियत के हिसाब से देखते है, किसी के लिए वो माखन चोर है तो किसी के लिए रसिक जो रासलीला करते थे, कोई उन्हें योद्धा मानता है तो कोई उन्हें मानता है कि उन्होंने अर्जुन को युद्ध करने के लिए कहा. ये सब एक झूठ है जो कही भी और कभी भी सच नहीं था. कृष्ण से जुड़ी कहानी और किस्से कवियों की कल्पना है ना की सच. सूरदास की रचनाएँ एक कल्पना है, सूरदास ने अपनी भक्ति में और प्रेम में एक ऐसे व्यक्तित्व की कल्पना की जो बालक है जिसमे चंचलता है, चपलता है. ऐसे ही बहुत सारे कवियों ने जो श्रृंगार रास के कवि थे उन्होंने एक रसिक के रूप में उनकी कल्पना की. युद्ध के समय लोगो ने उनको योद्धा या अपने अधिकारों के लिए युद्ध करने के लिए अर्जुन को प्रेरित करने के रूप की कल्पना की. ये सभी कल्पनाएं है सच से परे है. कृष्ण के विचारों को गीता में देखा जा सकता है. कृष्ण के बारे में महाभारत में काफी कुछ लिखा है, कुछ पुराणों में भी कृष्ण के जीवन का वर्णन है, पर इन में किसी में भी उनकी चोरी या रास लीला का ज़िक्र नहीं है. क्या कृष्ण ने गीता में युद्ध करने का उपदेश दिया है? जिन लोगो का विश्वास हिंसा में है उन्हें ऐसा ही लगता है पर जिनका विश्वास अहिंसा में है उन्हें ऐसा नहीं लगता. गीता को पढ़ने और समझने वालो की सबसे बड़ी कमी यह है कि वो लोग कुछ श्लोको को जानते है और उन्ही कुछ श्लोकों से पूरी गीता को समझ लेने की भूल करते है. यह भूल इसलिए होती है क्योकि कोई भी गीता को पढ़ने और समझने की कोशिश खुद नहीं करता बल्कि पंडितो या धर्माचार्यों से सुन कर मान लेता है कि गीता में ऐसा ही कहा गया और और उस अधूरे ज्ञान को वो सम्पूर्ण ज्ञान मान लेता है. गीता सार के पोस्टर पढ़ कर हम गीता को जानने दावा करने लगते है. गीता के उपदेश के बाद अर्जुन युद्ध के लिए तैयार हो जाता है? यह सच है कि अर्जुन इस उपदेश के बाद ही युद्ध के लिए तैयार होता है, लेकिन महाभारत के युद्ध शुरू होने से पहले जब अर्जुन युद्ध करने कुरुक्षेत्र जाता है उस वक्त का उसका युद्ध का उद्देश्य और कृष्ण के गीता का प्रवचन देने के बाद का युद्ध का उद्देश्य एक नहीं है. अर्जुन कुरुक्षेत्र जिस उद्देश्य से आता है उस के विपरीत उद्देश्य से युद्ध करता है. इस बात को कोई नहीं समझायेगा, क्योकि धर्माचार्य और पंडित जिस उद्देश्य से भक्तो को गीता सुनाते है वो कृष्ण के उद्देश्य के विपरीत है , वो गीता के कुछ श्लोक सुना कर अपने उद्देश्य की पूर्ति करते है, ना कि सही गीता का ज्ञान देते है. महात्मा गांधी को गीता अहिंसा का ज्ञान देने वाली लगती थी तो हिन्दुत्वादी हिंसात्मक लोगो को गीता से हिंसा की प्रेणना मिलती थी. धर्माचार्य और पंडित भक्तों को समझाते है क्या लेकर आये थे क्या लेकर जाएंगे, जो लिया यही लिया जो दिया यही दिया और उसके बाद वो दक्षिणा मांगेगे, चढ़ावा मांगेगे, क्यों? क्योकि उनका घरबार इससे चलता है, उनका यह कारोबार है, आज हर धर्माचार्य के पास सहूलियत के सब साधन मौजूद है, उनकी ज़िंदगी बिना मेहनत किये आराम से चल रही है, तो वो वही बताते है जिससे उनका धंधा चलता रहे. योगी भोगी बन रहे है और भक्तों को योगी बनने की सलाह दे रहे है. गीता में योग के बारे में विस्तार से बताया है क्या किसी ने गीता में जानने की कोशिश की कि योग क्या है? योग कितने प्रकार के होते है? योगी के लिए क्या ज़रूरी है? कृष्ण ने अर्जुन को योगी बनने को कहा, तो क्या योगी को युद्ध करना चाहिए? इस सवाल का जवाब भी गीता में ही है. कृष्ण को देशभक्त या राष्ट्र भक्त बताया जाता है? जो तीनो लोकों का स्वामी हो उसके कौनसा राष्ट्र उसका है और कौनसा उसका नहीं है? ( भाग 2 को भी ज़रूर पढ़े,आलिम )

अगला लेख: राजनैतिक पार्टियों का भविष्य.



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अगस्त 2019
श्री कृष्ण जन्माष्टमीकल और परसों पूरा देश जन साधारण को कर्म, ज्ञान, भक्ति, आत्मा आदि की व्याख्या समझानेवाले युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान् श्री कृष्ण का 5246वाँजन्मदिन मनाने जा रहा है | कल स्मार्तों (गृहस्थलोग, जो श्रुतिस्मृतियों में विश्वास रखते हैं तथा पञ्चदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माँ पार
22 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
रा
राजनैतिक पार्टियों का भविष्य. मैं कोई भविष्य वक्ता नहीं हूँ, पर विश्लेषण कर सकता हूँ. आने वाले दिनों में राजनैतिक दलों की क्या स्थिति रहेगी यह बता सकता हूँ. शुरुवात कांग्रेस से करता हूँ क्योकि वो सबसे पुरानी पार्टी और अब तक सब से ज्यादा वक्त तक राज करन
13 अगस्त 2019
28 अगस्त 2019
क्या करे बात इश्क की उनकी, कितना प्यार मुझसे करते है. बात कहने की ज़रूरत ही नहीं, मेरे इशारों को वो समझते है. ना समझे वो इशारा तो, हम बात उनकी को अपनी मान लेते है. बात मन की उनकी यारों, अब हमें तो अपनी बात लगती है. इश्क एक तरफा होत
28 अगस्त 2019
06 सितम्बर 2019
वै
भारतीय सविधान जब लिखा जा रहा था, तब नेहरूजी चाहते थे की उसमे इस बात को जोड़ दिया जाए सरकार वैज्ञानिक दृष्टिकोण अपनाएगी, जिसमे धार्मिक सोच नहीं होगी. नेहरू , सुभाषचद्र बोस और भगत सिंह में मतभेद बताने वाले भूल जाते है कि उनके विचार एक ही थे सिर्फ मतभेद रास्ते का था. नेहरू जी
06 सितम्बर 2019
06 सितम्बर 2019
गले लग कर वो रो रही थी, माँ बाप से जो बिछड़ रही थी. कल तक लड़ती थी माँ से, बाप से भी थे शिकवे हज़ार, भाई से होती थी हाथापाई, आज बिछड़ रही थी सब से. फिर भी मन में ख्वाब नया था, पिया से मिलने मन मचल रहा था. आने वाले अनदेखे कल
06 सितम्बर 2019
12 अगस्त 2019
जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जनसंघ के संस्थापक, हिन्दू महासभा के के अध्यक्ष , कलकत्ता यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर, मुस्लिमलीग की सरकार में मंत्री, नेहरू सरकार में मंत्री.
12 अगस्त 2019
28 अगस्त 2019
कृ
आया रे आया वो दिन और बहारचलो हमलोग चले मेलाआ गया जन्माष्टमी का त्योहार मेला जाकर पुजा पाठ करेंगे राधा कृष्ण को मनाएंगे खुब मिठाई खाएंगे अच्छे से मनाएंगे त्योहार आ गया जन्माष्टमी का त्योहार रंग बिरंगे नये कपड़े हम पापा से खरीदवाएंगेघूमेंगे मेला मे खुलेआम आ गया जन्माष्टमी का त्योहार तरह-तरह के खिलौना भ
28 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
शतरंज का खेल जाननेवाला ही शतरंज की चाल समझ सकता है. पहली चाल धोखा होती है जो छठी या कभी कभी 10 चाल को कामयाब बनाने के लिए की जाती है. शतरंज में लकड़ी के मोहरे होते है जिनमे भावनाएं नहीं होती, जिनमे आत्मा नहीं होती. अगर कोई जिंदगी में इंसानों के साथ
13 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x