कल्पनाशक्ति :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 अगस्त 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (3129 बार पढ़ा जा चुका है)

कल्पनाशक्ति :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में एक से बढ़कर एक बलवान होते रहे हैं जिनकी तुलना नहीं की जा सकती है | यदि कोई भी बलवान हुआ है तो उसका आधार उस मनुष्य का मन ही कहा जा सकता है , क्योंकि संसार में सबसे बलवान मनुष्य का मन की कहा जाता है | सबसे बड़ी शक्ति कल्पना शक्ति के बल पर मनुष्य पृथ्वी पर रहते हुए तीनों लोगों का भ्रमण किया करता है | जितनी भी मानसिक शक्तियां बताई गई है उन सभी में कल्पना का प्रमुख स्थान है , इसी कल्पना के बल पर संसार के अनेक महान कार्य हुए हैं | अपनी कल्पना के बल पर अनेक कवियों , साहित्यकारों , नाट्यकारो एवं दार्शनिकों ने अपनी कला का निर्माण एवं सृष्टि के रहस्य को भी खोला है | कल्पना शक्ति के बल पर मनुष्य अनेकानेक योजनाएं बनाकर के भविष्य एवं राष्ट्र का निर्माण करता है | मनुष्य मस्तिष्क में दो प्रकार की कल्पनाएं प्रकट होती हैं | जहां सकारात्मक कल्पना मनुष्य के भविष्य निर्माण में सहायक होती हैं वही नकारात्मक कल्पना मनुष्य के शरीर में आधि - व्याधि , रोग आदि उत्पन्न करके मनुष्य को समय से पहले ही जर्जर कर देती है | कल्पना शक्ति के बल पर ही मनुष्य ने परमात्मा का चित्र तैयार किया है | मनुष्य की कल्पना शक्ति की तुलना संसार में किसी दूसरी शक्ति से नहीं की जा सकती | कल्पना के द्वारा मनुष्य अपने भविष्य का निर्माण तो कर ही सकते हैं साथ ही नाना प्रकार की व्याधियों , पाप और दुख की आंधियां , कायरता , उदासीनता , ग्लानि तथा रोगों की बात भी सोच सकते हैं | कुकल्पना शैतान से भी बढ़कर है | मन की यह अशुभ वृत्ति आयु , सामर्थ्य , मनोबल की सर्वदा हानि करने वाली है | इसके विपरीत यदि कल्पना का ठीक प्रकार से विकास एवं उपयोग किया जाए तो यह सब दुखों - व्याधियों आदि की भावना का नाश कर मुक्तिमंदिर में प्रवेश करा सकती है | कल्पना शक्ति के दुरुपयोग से पूर्ण स्वस्थ मनुष्य भी क्षय को प्राप्त हो सकता है तथा सदुपयोग से मरणशैय्या पर पड़ा हुआ रोगी भी आरोग्य को प्राप्त कर सकता है | अतः मनुष्य को सदैव सकारात्मक कल्पना करनी चाहिए |*


*आज विज्ञान ने इतना विकास किया है तो उसका कारण वैज्ञानिकों की कल्पना ही है | वैज्ञानिकों ने कल्पना किया और उसी कल्पना को आधार बनाकर के नए-नए आविष्कार किये जिसका लाभ आज संपूर्ण जगत उठा रहा है | मनुष्य का मन एवं मन में उत्पन्न होने वाली कल्पना भी उसकी चित्तवृत्ति के अनुसार ही होती हैं | जैसा मनुष्य का स्वभाव होता है उसी प्रकार की कल्पनाएं उसके हृदय में उठा करती हैं , एक ही व्यक्ति या वस्तु के लिए कई मनुष्यों की कल्पनाएं पृथक - पृथक हो सकती हैं | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि मनुष्य के हृदय में किसी के प्रति जैसी सोच या विचार उत्पन्न होता है उसी प्रकार की कल्पना भी मनुष्य के हृदय में प्रकट हो जाती हैं और मनुष्य अपनी मनोवृत्ति के अनुसार की कल्पना लोक में विचरण करने लगता है | कहने का तात्पर्य है कि मनुष्य की कल्पना का आंकलन नहीं किया जा सकता है | आपके समक्ष बैठा हुआ कोई भी व्यक्ति आप के विषय में क्या कल्पना कर रहा है इसका अनुमान लगा पाना असंभव है , इसीलिए मनुष्य के मन और कल्पना शक्ति को इस संसार में सबसे शक्तिमान माना गया है | मनुष्य को सदैव अपनी कल्पना सकारात्मक एवं उचित पथ में रखना चाहिए क्योंकि कल्पना के विस्तृत रूप में असद विचार रोग उत्पन्न होते ही हैं साथ ही असद कल्पना विचार , सामर्थ्य और संकल्प को कुंठित कर देती है | सबसे विचित्र बात तो यह है कि कल्पना संहारक भी है , इसलिए मनुष्य को अपने हृदय में निरर्थक एवं प्रतिकूल विचारों को स्थान नहीं देना चाहिए | मनुष्य को सदैव अपने मनमंदिर में सर्वोत्तम कल्पनाओं को ही स्थान देना चाहिए |*


*मनुष्य बड़ा विचित्र प्राणी है किसी व्यक्ति वस्तु या स्थान के विषय में वह जाने क्या-क्या कल्पनाएं किया करता है | कल्पना से मनुष्य को बल तो मिलता ही है साथ ही उसका कंटकमय मार्ग भी प्रशस्त होता है परंतु इन कल्पनाओं में सकारात्मकता होना परम आवश्यक है |*

अगला लेख: संयुक्त परिवार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अगस्त 2019
*मानव जीवन में शिक्षा का बहुत बड़ा महत्व है | शिक्षा प्राप्त किए बिना मनुष्य जीवन के अंधेरों में भटकता रहता है | मानव जीवन की नींव विद्यार्थी जीवन को कहा जा सकता है | यदि उचित शिक्षा ना प्राप्त हो तो मनुष्य को समाज में पिछड़ कर रहना और उपहास , तिरस्कार आदि का भाजन बनना पड़ता है | यदि शिक्षा समय रहत
24 अगस्त 2019
30 अगस्त 2019
*इस सृष्टि में जीव चौरासी लाख योनियों की यात्रा किया करता है | इन चौरासी लाख योनियों के चक्रानुक्रम में समस्त कलुषित कषाय को धोने के उद्देश्य जीव को मानव योनि प्राप्त होती है | इसी योनि में पहुंचकर जीव पूर्व जन्मों के किए गए कर्म - अकर्म को अपने सत्कर्म के द्वारा धोने का प्रयास करता है | मानव योनि म
30 अगस्त 2019
22 अगस्त 2019
*इस संसार में मानव जीवन प्राप्त करने के बाद मनुष्य के विकास एवं पतन में उसके आचरण का महत्वपूर्ण योगदान होता है | मनुष्य का आचरण जिस प्रकार होता है उसी के अनुसार वह पूज्यनीय व निंदनीय बनता है | मनुष्य को संस्कार मां के गर्भ से ही मिलना प्रारंभ हो जाते हैं | हमारे महापुरुषों एवं आधुनिक वैज्ञानिकों दो
22 अगस्त 2019
29 अगस्त 2019
*पूर्वकाल में मनुष्य ने आत्मिक प्रगति की थी | संस्कारों का स्वर्णयुग पूर्वकाल को कहा जा सकता है तो इसका प्रमुख कारण था संयुक्त परिवार | संयुक्त परिवार में सुख शांति एवं व्यवस्था का आधार आत्मीयता एवं पारस्परिक सहयोग ही होता है | जहां एक काम को परिवार के सभी सदस्य मिलकर के पूरा कर लेते थे और सामूहिक ध
29 अगस्त 2019
29 अगस्त 2019
*इस संसार में मनुष्य अनेकों प्रकार के कर्म करके अपने कर्मों के अनुसार फल प्राप्त करता रहता है | मनुष्य जाने अनजाने में कृत्य - कुकृत्य किया करता है | कभी-कभी तो अपराधी अपराध करने के बाद भी दंड नहीं पाता तो उसको यह नहीं सोचना चाहिए कि वह पूर्णतया दण्ड से मुक्त हो गया है क्योंकि एक दिन सबको ही यह संस
29 अगस्त 2019
31 अगस्त 2019
*सनातन धर्म में आध्यात्म का बहुत बड़ा महत्व है | अध्यात्म की पहली सीढ़ी साधना को बताया गया है | किसी भी लक्ष्य की साधना करना बहुत ही दुष्कर कार्य है , जिस प्रकार कोई पर्वतारोही नीचे से ऊपर की ओर चढ़ने का प्रयास करता है उसी प्रकार साधना आध्यात्मिक सुमेरु की ओर चढ़ने का प्रयास है | साधना करना सरल नही
31 अगस्त 2019
10 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म ने मानव जीवन में आने वाली प्राय: सभी समस्याओं का निराकरण बताने करने का प्रयास अपने विधानों के माध्यम से किया है | नि:संतान दम्पत्ति या सुसंस्कृत , सदाचारी सन्तति की प्राप्ति के लिए "पयोव्रत" का विधान हमारे शास्त्रों में बताया गया है | दैत्यराजा बलि के आक्रमण से देवता स्वर्ग से पलायन करके
10 सितम्बर 2019
17 अगस्त 2019
*इस सृष्टि के आदिकाल में जहाँ सनातन धर्म के अतिरिक्त कोई अन्य धर्म नहीं था वहीं सनातन धर्म के विद्वान ऋषि वैज्ञानिकों ने ऐसे - ऐसे रहस्यों को संसार के समक्ष रखा जिसको आज के वैज्ञानिक अभी तक नहीं समझ पा रहे हैं | मानव जीवन में समय के महत्त्वपूर्ण स्थान एवं योगदान को समझते हुए हमारे पूर्वज ऋषि वैज्ञान
17 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x