ब्लैक

29 अगस्त 2019   |  PRATHAM BHALA   (2386 बार पढ़ा जा चुका है)

काले रंग को बहुत से धर्म और प्रांतो के लोग अशुभ मानते है ।इसे अनहोनी अशुभ समाचार तथा अनिष्ट की आशंका से जोड़ जाता है ।इसे अंधकार निराशा,हार और बुराई का प्रतिक भी माना जाता है ।संक्षेप में कहुँ तो काले रंग को नकारात्मकता का प्रतीक माना जाता है ।परन्तु क्या काला रंग सचमुच इतना अशुभ है ?आप सभी कोयल पक्षी के बारे में जानते होंगे । शायद ही ऐसा कोई पक्षी होगा जिसकी आवाज़ कोयल से भी अधिक मधुर मधुर हो ,परन्तु कोयल का रंग भी तो काला ही होता है । भगवान श्री कृष्ण जिन्हे हम लीलापुरुषोत्तम भी कहते है, उनका रंग भी तो काला(साँवला ) ही होता है, परन्तु जहाँ उनका वास होता है वहाँ सारी बुराइयाँ और नकारात्मक शक्तियाँ अपने आप नष्ट हो जाती हैं । हम सब जानते है की रात काली होती है । कुछ लोगों का यह भी मानना है की अधिक्तर बुरी घटनाये रात में ही होती हैं । परन्तु क्या कभी आपने सोचा है की यदि रात ही ना हो तो हम आराम कब करेंगे और अगले दिन हमें काम करने की ऊर्जा कहाँ से मिलेगी? कभी निशाचर जानवरो जैसे उल्लू की दृष्टि से सोच कर देखिये रात ही वो समय है जब वे शिकार कर अपना पेट भर सकते हैं । उनके लिए तो उस काली रात का अँधेरा बहुत आवश्यक है । जब 15 अगस्त,सन 1947 को पंडित जवाहर लाल नेहरू जी ने भारतीयों को सम्बोधित करते हुए भारत की आज़ादी की घोषणा की थी तो वो अर्धरात्रि का ही समय था । उस रात का अँधेरा भारतियों के लिए एक नया उजाला लेकर आया था । आप को ज्ञात होगा की हिन्दुओं का सबसे पवित्र त्योहार दीपावली कार्तिक मास की सबसे अँधेरी काली रात को मनाया जाता है । आज हर समाज में ज्ञानार्जन को बहुत महत्व दिया जाता है । वह ब्लैकबोर्ड जो ज्ञान का स्रोत बनकर छात्रों का भविष्य सँवरता है ,उसका रंग भी तो काला होता है । क्या आप उसे भी अशुभ मानेंगे ?यदि काला रंग इतना ही अशुभ है तो बुरी नज़र से बचने के लिए काले रंग का टिका ही क्यों लगते हैं और शिवलिंग का रंग काला क्यों होता है? माँ काली जिनकी हम आराधना करते हैं उनका रंग भी तो काला ही है ?तो फिर आप ही बताइये की काला रंग अशुभ है या फिर ये बस हमारे नज़रिये का फेर है? संत कबीर ने कहा था बुरा जो देखन मै चला बुरा ना मिल्या कोई जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई । नकारात्मकता किसी व्यक्ति या वस्तु में नहीं बल्कि हमारे विचारों में होती है । नजरिया बदलिए जीवन अपने आप बदल जायेगा ।

अगला लेख: इंतजार है हमें



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
वो
01 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x