पंचपरमेश्वर

01 सितम्बर 2019   |  pradeep   (3605 बार पढ़ा जा चुका है)

न्यायपालिका का जो हाल पिछले कुछ वक्त से हुआ है उसे देखकर लगता है कि मुंशी प्रेमचंद ने इस वक्त के लिए ही कहानी पंच परमेश्वर लिखी थी. गांधीजी को भी इस न्याय प्रक्रिया पर कोई भरोसा नहीं था, उनका मानना सही था कि आज़ादी नहीं मिली बस राज परिवर्तन हुआ है? गांधीजी ने वकालत छोड़ दी थी क्योकि वो जानते थे, वहां न्याय करने की नौटंकी होती है, और राज परिवर्तन से यह बदलेगा नहीं बस इतना है कि गोरी चमड़ी के लोगो के हाथ से यह काली चमड़ी के हाथ में आ गई है. गाँधी जी की सोच में शायद मुंशी प्रेमचंद की कहानी पंच परमेश्वर रही होगी इसलिए वो पंचायती राज का ज़िक्र करते थे और चाहते थे कि पंचायती राज हो. जुम्मन की खाला का , जुम्मन के जिगरी दोस्त अलगू से सिर्फ एक सवाल ही कहानी का मोड़ बदल देता है. अलगू जुम्मन की खाला को कहता है कि जो कुछ तुम कह रही हो ठीक है मैं पंचायत में आ जाऊंगा लेकिन मैं कुछ बोलूंगा नहीं, जुम्मन मेरा जिगरी दोस्त है और इससे हमारी दोस्ती में बिगाड़ हो जाएगा. खाला ने सिर्फ यही कहा " क्या बिगाड़ के डर से ईमान की बात ना कहोगे लाला. " जब पंचायत में जुम्मन की खाला ने पंच के लिए जुम्मन के दोस्त अलगू का नाम लिया तो सबने कहा अब खाला हार गई, खाला ने इस पर सिर्फ एक जवाब दिया " पंच ना तो किसी का दुशमन होता है और ना ही दोस्त, पंच की ज़ुबान पर ख़ुदा का वास होता है. शायद ऐसा ही कुछ हज़ारों साल पहले भगवान् कृष्ण ने भी कर्ण से कहा था, " एहसान चुकाने के लिए क्या तुम धर्म का साथ ना दोगे?" आज किससे कहे यह बात और कौन सुनेगा यह बात? हरिशंकर परसाई ने भी बहुत खूब लिखा है " हमारे देश में सबसे आसान काम आदर्शवाद बघारना है, और फिर घटिया से घटिया उपयोगितावादी की तरह व्यवाहर करना है. " हमारे आस-पास कितने भ्र्ष्टाचारी है, हम सब जानते है लेकिन बिगाड़ के डर से बोलते नहीं. समस्या ना तो पहले की सरकारें थीं ना ही अब की, समस्या हम खुद हैख़ुद रिश्वत लेना अच्छा लगता है पर दूसरा ले तो भ्र्ष्टाचारी? फिर भी हम विकास की बात करते है, यह दर्शाता है कि हम कितने आशावादी है ?जब राजनेता ही अपने कार्यकर्ताओं को झूठ बोलने के लिए कहे तो लगता है हम जल्दी झूठ बोलने, सुनने, और सहने के विश्वगुरु ज़रूर बन जायँगे? (आलिम)

अगला लेख: कलयुग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 सितम्बर 2019
भा
हम मानते है कि भारत विश्वगुरु था. और हमें फिर से विश्वगुरु बनना है. सबसे अच्छी बात ये है कि इस के लिए कोई भी देश प्रतिस्पर्धा में नहीं है. सभी देश अपनी अर्थव्यवस्था को बढ़ाने , अपने वैज्ञानिक स्तर को ऊँचा उठाने, अपनी जनता को खुशहाल बनाने में लगे है. अमेरिका और चीन दुनियाँ की सबसे बड़ी ताकत
14 सितम्बर 2019
07 सितम्बर 2019
हिन्दुस्तान ही दुनियां का एकमात्र देश है जहाँ हज़ारों सालो से देवी देवता रात में ख्वाबों में आते है और अपना मंदिर बनाने का आदेश दे देते है, सुबह उठाकर राजा, रानी या कोई साहूकारा जिन्हे देवी या देवता ने चुना होता है, अपने लोगो को आदेश दे देता है और एक
07 सितम्बर 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x