कर्ण का अंतिम संस्कार

01 सितम्बर 2019   |  gsmalhadia   (3592 बार पढ़ा जा चुका है)

कर्ण का अंतिम संस्कार


महाभारत के युद्ध में जब कर्ण को अर्जुन ने मृत्युशय्या पर लिटा दिया तो श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को महात्मा का भेस धारण करके आने को कहा और वह दोनो महात्मा के भेस में कर्ण के समीप पहुंचे श्री कृष्ण यह भलि भांति जानते थे कि कर्ण एक महान दानवीर है परन्तु वह अर्जुन को उसकी महानता से अवगत करवाना चाहते थे इस लिए उन्होंने अर्जुन के सामने कर्ण की दानवीरता की परीक्षा लेना चाही।

श्री कृष्ण ने मृत्युशय्या पर लेटे हुए कर्ण से भिक्षा मांगी तो कर्ण ने कहा हे महात्माओ मेरे प्राण पंखेरू उड़ रहें हैं मेरी स्थिति दयनीय है ऐसी अवस्था में मेरे पास आप को देने के लिए कुछ नहीं है तब श्री कृष्ण ने कहा हम तो तुम्हारा बहुत नाम सुनकर तुम्हारे पास आए थे वत्स पर अवसोस हमें लगता है कि हमें यहां से खाली हाथ ही जाना पड़ेगा।


तब कर्ण ने कहा तनिक रूकिए महात्मा उसने अपनी कटार से अपने सोने के दांत को निकालकर महात्मा की तरफ कर दिया तब श्री कृष्ण बोले वत्स महात्मा रक्त से भीगी हुई वस्तु दान स्वरूप ग्रहण नहीं करते।


तब कर्ण ने अपने धनुष बाण से भूमि से जल धारा को प्रकट कर सोने के दांत को उस पानी से साफ कर महात्माओ को अर्पित किया इस पर महात्मा श्री कृष्ण ने उसे स्वर्ग जाने का आशीर्वाद दिया।


परन्तु यमराज देवता ने कर्ण को स्वर्ग भेजने की एक शर्त रख दी कि कर्ण को स्वर्ग तभी मिल सकता है यदि उसका अंतिम संस्कार किसी ऐसी भूमि पर हो जहां कोई पाप ना हुआ हो अब भगवान कृष्ण बड़ी दुविधा में फस गए और पूरी पृथ्वी पर ऐसी जगह खोजने लगे जहाँ कोई पाप ना हुआ हो तो बहुत मुश्किल के बाद उन्हें पांव के अंगूठे जितनी धरती मिली यहां कोई पाप नहीं हुआ था तब भगवान कृष्ण ने पैर के अंगूठे पर खड़े होकर विराट रूप धारण कर कर्ण का अंतिम संस्कार अपने हाथ पर किया और इस तरह दानवीर कर्ण को मृत्यु के पश्चात स्वर्ग की प्राप्ति हुई।


वह तो द्वापर युग था तब मात्र पांव के अंगूठे जितनी भूमि पाप विहिन बची थी अब तो घोर कलयुग चल रहा है।


अगला लेख: श्री गणेश चतुर्थी



आशा “क्षमा”
01 सितम्बर 2019

अद्भुत कथा !

gsmalhadia
01 सितम्बर 2019

एक दूसरा लेख कर्ण भी जरूर पढ़िएगा 🙏

gsmalhadia
01 सितम्बर 2019

🙏

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अगस्त 2019
|| अथ श्री आदिशंकराचार्यकृतम् श्री कृष्णाष्टकं ||भजे व्रजैक मण्डनम्, समस्तपापखण्डनम्,स्वभक्तचित्तरञ्जनम्, सदैव नन्दनन्दनम्,सुपिन्छगुच्छमस्तकम्, सुनादवेणुहस्तकम् ,अनङ्गरङ्गसागरम्, नमामि कृष्णनागरम् ||१||मनोजगर्वमोचनम् विशाललोललोचनम्,विधूतगोपशोचनम् नमामि पद्मलोचनम्,करारविन्दभूधरम् स्मितावलोकसुन्दरम्,म
23 अगस्त 2019
12 सितम्बर 2019
mahabharat katha महाभारत की रचना महर्षि कृष्णद्वैपायन वेदव्यास ने की है, लेकिन इसका लेखन भगवान श्रीगणेश ने किया है.. महाभारत ग्रंथ में चंद्रवंश का वर्णन है.mahabharat katha में न्याय, शिक्षा, चिकित्सा, ज्योतिष, युद्धनीति, योगशास्त्र, अर्थशास्त्र, वास्तुशास्त्र, शिल्पशास्
12 सितम्बर 2019
22 अगस्त 2019
श्री कृष्ण जन्माष्टमीकल और परसों पूरा देश जन साधारण को कर्म, ज्ञान, भक्ति, आत्मा आदि की व्याख्या समझानेवाले युग प्रवर्तक परम पुरुष भगवान् श्री कृष्ण का 5246वाँजन्मदिन मनाने जा रहा है | कल स्मार्तों (गृहस्थलोग, जो श्रुतिस्मृतियों में विश्वास रखते हैं तथा पञ्चदेव ब्रह्मा, विष्णु, महेश, गणेश और माँ पार
22 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
27 अगस्त 2019
27 अगस्त 2019
27 अगस्त 2019
27 अगस्त 2019
27 अगस्त 2019
चं
08 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x