अधम शरीरा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

03 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

अधम शरीरा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस समस्त सृष्टि में जहां अनेकों प्रकार के जीव भ्रमण करते हैं जलचर , थलचर , नभचर मिला करके चौरासी लाख योनियाँ बनती है | इन चौरासी लाख योनियों में मानव योनि को सर्वश्रेष्ठ बताते हुए हमारे धर्मग्रंथ इस पर अनेकों अध्यात्म वर्णन करते हुए दृष्टिगत होते हैं | प्रायः सभी धर्मग्रंथों में इस मानव शरीर को देवताओं के लिए भी दुर्लभ बताया गया है | बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी अपने मानस में लिखते हैं :- "बड़े भाग मानुष तन पावा ! सुर दुर्लभ सदग्रंथहिं गावा !! कहने का अर्थ है यह मानव शरीर जो देवताओं के लिए भी दुर्लभ है बड़े भाग्य से जीव को प्राप्त होता है परंतु अपने इसी मानस बाबाजी ने एक चौपाई और लिख दी है :- छिति जल पावक गगन समीरा ! पंच रचित अति अधम शरीरा !! अर्थात पृथ्वी , जल , अग्नि , आकाश एवं वायु रूपी पंच तत्वों से बना हुआ मनुष्य का शरीर अति अधम है | अधम अर्थात पापयुक्त या नीच | बाबा जी की चौपाई को पढ़कर के हृदय में भ्रम उत्पन्न हो जाता है कि जो मानव शरीर देवताओं के लिए भी दुर्लभ है वह अधम कैसे हो सकता है ? यह समझने के लिए मनुष्य को सद्गुरु की शरण में जाना पड़ेगा , क्योंकि "गुरु बिन होइ न ज्ञान" | बिना सद्गुरु के इस शरीर की संरचना एवं इस के रहस्य को जान पाना कठिन ही नहीं बल्कि असंभव है | इस शरीर में अनेक अच्छाइयों के साथ नाना प्रकार की नकारात्मक बुराइयां भी समावेशित होती हैं , जहां मनुष्य के सद्गुण उसके मानव शरीर की उपादेयता को सिद्ध करते हैं वही यही सुर दुर्लभ शरीर मनुष्य के दुर्गुणों के कारण अधम की श्रेणी में चला जाता है | अपने कर्मों के अनुसार ही शरीर को दुर्लभ एवं अधम की श्रेणी प्राप्त होती है | यह बड़ा ही गूढ़ रहस्य इसको समझ पाना इतना आसान नहीं है जितना कि हम मान लेते हैं |*


*आज का जो परिवेश है उसके अनुसार स्वयं के शरीर को अधम की श्रेणी में जाने से बचा पाना अत्यंत दुष्कर कार्य है | जिस प्रकार किसी संकरी पगडंडी पर सम्हल कर चलने के बाद भी तनिक चूक होजाने पर मनुष्य गिर पड़ता है उसी प्रकार भगवत्प्राप्ति का उद्देश्य लेकर इस संसार में आया मनुष्य विषय वासनाओं में फंसकर पतित हो जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" सद्गुरुओं के सदुपदेश के माध्यम से मिले ज्ञान प्रसाद को आधार मानकर यह कह रहा हूँ कि जब जीव मानव योनि पाकर इस धरा धाम पर आता है तो उसका जीवन दिव्य एवं शरीर सुरदुर्लभ होता है , परन्तु जब वह धीरे - धीरे काम , क्रोध , लोभ , मोहादि षड्विकारों के वशीभूत होकरके कृत्य करने लगता है तो कुछ लोग उसे अधम की श्रेणी में रखने लगते हैं , परंतु ऐसा नहीं है क्योंकि काम , क्रोधादि विकारों से कोई भी बच नहीं पाया है | ऐसे में अधम की श्रेणी निर्धारित करना कठिन कार्य है | जहाँ तक मेरा विचार है कि ये पृथ्वी , जल , अग्नि , आकाश एवं वायु के सम्मिश्रण से बना पंचभूत शरीर तो ऐसे भी अधम (नीच, पापयुक्त) है किन्तु इसमें भी जो योग , यज्ञ , जप , तप , ध्यान , मानसिक बौद्धिक कर्म , वेदादि श्रवण , कीर्तन , भजन , मनन , निदिध्यासन , तीर्थाटन , दान आदि करने से स्वयं को वंचित रखते हैं वे ही मनुष्य अधम की श्रेणी में आते हैं | मानव जन्म पाकर भी यदि उपरोक्त कर्म नहीं किये जा रहे हैं तो यह सुरदुर्लभ शरीर अधम कहा जाता है |*


*यह मानव जीवन बहुत ही भाग्य से मिलता है | इसके महत्त्व को समझते हुए इसकी सार्थकता बनाये रखने का प्रयास प्रत्येक मनुष्य को करते रहना चाहिए जिससे कि यह शरीर "अधम" की श्रेणी में न जाने पाये |*

अगला लेख: संयुक्त परिवार :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2019
*इस धरती पर मनुष्य को अनेक मूल्यवान संपदायें प्राप्त हुई हैं | किसी को पैतृक तो किसी ने अपने बाहुबल से यह अमूल्य संपदायें अपने नाम की हैं | संसार में एक से बढ़कर एक मूल्यवान वस्तुएं विद्यमान हैं परंतु इन सबसे ऊपर यदि देखा जाए तो सबसे मूल्यवान समय ही होता है | समय ही मानव जीवन का पर्याय है , मनुष्य क
09 सितम्बर 2019
09 सितम्बर 2019
*इस धरती पर मनुष्य को अनेक मूल्यवान संपदायें प्राप्त हुई हैं | किसी को पैतृक तो किसी ने अपने बाहुबल से यह अमूल्य संपदायें अपने नाम की हैं | संसार में एक से बढ़कर एक मूल्यवान वस्तुएं विद्यमान हैं परंतु इन सबसे ऊपर यदि देखा जाए तो सबसे मूल्यवान समय ही होता है | समय ही मानव जीवन का पर्याय है , मनुष्य क
09 सितम्बर 2019
30 अगस्त 2019
*इस सृष्टि में जीव चौरासी लाख योनियों की यात्रा किया करता है | इन चौरासी लाख योनियों के चक्रानुक्रम में समस्त कलुषित कषाय को धोने के उद्देश्य जीव को मानव योनि प्राप्त होती है | इसी योनि में पहुंचकर जीव पूर्व जन्मों के किए गए कर्म - अकर्म को अपने सत्कर्म के द्वारा धोने का प्रयास करता है | मानव योनि म
30 अगस्त 2019
09 सितम्बर 2019
*इस सृष्टि में ईश्वर का विधान इतना सुंदर एवं निर्णायक है कि यहां हर चीज का समय निश्चित होता है | इस धरा धाम पर सृष्टि के आदिकाल से लेकर के अब तक अनेकों बलवान , धनवान तथा सम्पत्तिवान हुए परंतु इन सब से भी अधिक बलवान यदि किसी को माना जाता है तो वह है इस समय | समय के आगे किसी की नहीं चलती है | इस सृष्ट
09 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन ग्रंथों में एक कथानक पढ़ने को मिलता है जो समुद्र मंथन के नाम से जाना जाता है | देवताओं एवं दैत्यों ने अमृत प्राप्त करने के लिए मन्दाराचल को मथानी एवं वासुकि नाग को रस्सी बनाकर समुद्र का मन्थन किया | अथक परिश्रम से मन्थन करने के बाद समुद्र से अमृत निकला परंतु अमृत निकलने के पहले समुद्र स
13 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
*यह संसार बड़ा ही विचित्र है | इस पृथ्वी पर रहने वाले अनेक जीव है जो कि एक से बढ़कर एक विचित्रताओं से भरे हुए हैं | इन सभी जीवों में सर्वश्रेष्ठ प्राणी मनुष्य सबसे ज्यादा विचित्र है | मनुष्य की विचित्रता का आंकलन इसी से किया जा सकता है कि यदि मनुष्य से यह प्रश्न कर दिया जाय कि इस संसार में सबसे दुर
02 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
*हमारा भारत देश एवं उसकी संस्कृति इतनी दिव्य एवं अलौकिक है यहां नित्य कोई ना कोई पर्व , कोई न कोई व्रत मनाया कि जाता रहता है | हमारे ऋषि - महर्षियों ने मात्र के कल्याण के लिए जीवन के सभी क्षेत्रों में इतने विधान बता दिये हैं कि शायद ही कोई ऐसा दिन हो जिस दिन कोई व्रत - उपवास , पर्व - त्यौहार ना हो
05 सितम्बर 2019
22 अगस्त 2019
*प्राचीनकाल में जब मनुष्य अपन्े विकास पथ पर अग्रसर हुआ तो उसके पास उसकी सहायता करने के लिए साधनों का अभाव था | शारीरिक एवं बौद्धिक बल को आधार बनाकर मनुष्य ने अपने विकास में सहायक साधनों का निर्माण करना प्रारम्भ किया | आवश्यक आवश्यकताओं के अनुसार मनुष्य ने साधन तो प्राप्त कर लिए परंतु ज्ञान प्राप्त क
22 अगस्त 2019
26 अगस्त 2019
*इस संसार में राजा - रंक , धनी - निर्धन सब एक साथ रहते हैं | इन सबके बीच दरिद्र व्यक्ति भी जीवन यापन करते हैं | दरिद्र का आशय धनहीन से लगाया जाता है जबकि धन से हीन व्यक्ति को दरिद्र कहा जाना उचित नहीं प्रतीत होता क्योंकि धन से दरिद्र व्यक्ति भी यदि विचारों का धनी होते हुए सकारात्मकता से जीवन यापन कर
26 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x