बेसहारा लड़कियों को बेटी मानकर शादी करवाते हैं महेशभाई-अब तक 3127 लड़कियों की करवा चुके हैं 🙏🙏

04 सितम्बर 2019   |  अभय शंकर   (2480 बार पढ़ा जा चुका है)

बेसहारा लड़कियों को बेटी मानकर शादी करवाते हैं महेशभाई-अब तक 3127 लड़कियों की करवा चुके हैं 🙏🙏

सूरत के हीरा कारोबारी महेशभाई लगातार 10 वें साल से गरीब और बेसहारा लड़कियों की शादी करवाते आ रहे हैं। वो अब तक 3 हजार से ज्यादा बेटियों की शादी करवा चुके हैं वो इस शुभकाम में ना धर्म देखते हैं ना ही जाति। जो गरीब इनतक पहुंचता है उसकी बहन-बेटी की शादी ये करवा देते हैं।

शादी के बाद भी पूरी जिम्मेदारी मेरी : हीराकारोबारी महेशभाई कहते हैं कि शादी कराने के बाद भी बेटियों के भविष्य की पूरी जिम्मेदारी मेरी होती है। उनकी सभी जरूरतों, उनके बच्चों के जन्म, पढ़ाई, इलाज, कपड़ा आदि के लिए जो भी आर्थिक मदद हो सकती है, वो सब करता हूं। ये भी कोशिश रहती है कि सभी सरकारी योजनाओं का लाभ उन्हें मिल सके। दामाद को धंधा-रोजगार के लिए भी हरसंभव मदद करता हूं।


बना रहे हैं आपात फंड : महेशभाई इस साल से एक आपात फंड बनाने जा रहे हैं। इसमें हर दामाद को 500 रुपए महीना जमा करना होगा। तीन हजार से ज्यादा दामाद से 15 लाख रुपए से अधिक हर महीने जमा हो जाएंगे। भविष्य में जिस भी बेटी के परिवार को आर्थिक मुसीबत, चिकित्सा सहायता या अन्य किसी तरह की सहायता की जरूरत होगी, इस पैसे का इस्तेमाल किया जाएगा। इस पैसे का पूरा हिसाब-किताब भी दामाद ही मिलकर करेंगे।

बेसहारा लड़कियों को बेटी मानकर शादी करवाते हैं महेशभाई-अब तक 3127 लड़कियों की करवा चुके हैं 🙏🙏

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2019/09/mahesh-sawani-doing-social-work-for-poor-daughters

अगला लेख: जियो को 1299 रूपए दो, 4K टीवी फ्री में लो... |



बसन्त कुमार
05 सितम्बर 2019

काबिले तारीफ
महेश भाई इस महान कार्य के लिए धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अगस्त 2019
“टीवी मत देखिए, न्यूज़ में आजकल केवल एंकर चिल्लाते हैं, टीवी पर कुछ भी मत देखिए”- ये वाक्य लोकसभा चुनाव के दौरान काफी पॉपुलर हुए थे। इस वाक्य का समर्थन और असमर्थन करने वालों की एक लंबी फौज थी। अरे बाबा…आपको याद नहीं आया? इस वाक्य का एक एक शब्द एनडीटीवी के मशहूर पत्रकार रवी
26 अगस्त 2019
04 सितम्बर 2019
नई दिल्ली: भीड़ द्वारा पिटाई और मौत का सिलसिला रूकने का नाम नहीं ले रहा है. ताज़ा मामला देश की राजधानी दिल्ली का है. यहां के मौजपुर इलाक़े में साहिल को मुसलमान समझकर सिर्फ़ इसलिए मार दिया गया क्योंकि वो पंडितों की गली में चला गया था. अब जब पता चला कि साहिल मुसलमान नहीं था
04 सितम्बर 2019
26 अगस्त 2019
कहते हैं प्यार अंधा होता है, इसमें कुछ भी अच्छा-बुरा नहीं दिखाई देता. प्यार में सामने वाला सबसे अच्छा लगने लगता है फिर वो कैसा भी हो. आज का दौर इंटरनेट का है और सोशल मीडिया के जरिए लोगों में प्यार होना आम हो गया है. इंटरनेट के जरिए प्यार या शादी होना आपने अक्सर सुना होगा
26 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x