गले लग कर वो रो रही थी.

06 सितम्बर 2019   |  pradeep   (458 बार पढ़ा जा चुका है)

गले लग कर वो रो रही थी,

माँ बाप से जो बिछड़ रही थी.

कल तक लड़ती थी माँ से,

बाप से भी थे शिकवे हज़ार,

भाई से होती थी हाथापाई,

आज बिछड़ रही थी सब से.

फिर भी मन में ख्वाब नया था,

पिया से मिलने मन मचल रहा था.

आने वाले अनदेखे कल में,

बीते कल को भुला रही थी,

गले लग कर वो रो रही थी,

माँ बाप से जो बिछड़ रही थी.

कुछ सखियों से बिछड़ चुकी थी,

कुछ से अब वो बिछड़ रही थी,

कुछ को वो खुश देख चुकी थी,

कुछ के दुःख भी देख चुकी थी,

आने वाले कल के ख्वाबों में,

अपने सुख-दुःख खोज रही थी,

मेहमानों की एक भीड़ लगी थी,

वो ख़ुद को ख़ुद में ढूंढ रही थी.

गले लग कर वो रो रही थी,

माँ बाप से जो बिछड़ रही थी. (आलिम)

अगला लेख: कलयुग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 अगस्त 2019
ख़ु
मुल्कपरस्ती या बुतपरस्ती से जिंदगी चलती नहीं, ज़िंदगी को चलाने को ज़रूरी है ख़ुदपरस्ती. मुल्कपरस्ती के नाम पर ज़ंग की मुहिम जो छेड़ते, नाम ले मज़हब का जो आपस में है लड़ रहे, ना तो वो वतनपरस्त है, ना ही है वो मज़हबी .जो कुछ वो कर रहे वही तो होती है ख़ुदपरस्ती. (
26 अगस्त 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x