पयोव्रत एवं वामन अवतार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (420 बार पढ़ा जा चुका है)

पयोव्रत एवं वामन अवतार :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म ने मानव जीवन में आने वाली प्राय: सभी समस्याओं का निराकरण बताने करने का प्रयास अपने विधानों के माध्यम से किया है | नि:संतान दम्पत्ति या सुसंस्कृत , सदाचारी सन्तति की प्राप्ति के लिए "पयोव्रत" का विधान हमारे शास्त्रों में बताया गया है | दैत्यराजा बलि के आक्रमण से देवता स्वर्ग से पलायन करके गुफाओं / कन्दराओं में दुखी होकर जीवन व्यतीत करने लगे | देवताओं की माता अदिति अपने पुत्रों की दुर्दशा पर बहुत दुखी हुईं एवं अपने पति कश्यप के निर्देशानुसार एक उत्तम सन्तान प्राप्त करने के उद्देश्य से "पयोव्रत" का अनुष्ठान किया | फाल्गुन शुक्ल प्रतिपदा से द्वादशी तक किये जाने वाले इस उत्तम व्रत को करने वाले सरोवर के किनारे वाराह (सूकर) के द्वारा खोदी गयी मिट्टी को शरीर पर लगाकर स्नान करके भगवान विष्णु का पूजन करें ! दूध पीते हुए बारह दिन तक भूमि पर शयन करते हुए पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए यह व्रत करने के फलस्वरूप माता अदिति ने गर्भ धारण किया एवं भाद्रपद शुक्ल पक्ष की द्वादशी को स्वयं भगवान श्री हरि विष्णु कश्यप जी के आश्रम में "वामन" के रूप में प्रकट हुए | राजा बलि के यज्ञ में पहुँचकर भगवान वामन ने राजा बलि से तीन पग भूमि में ही सब कुछ ले लिया | इस प्रकार देवताओं को स्वर्ग की पुन: प्राप्ति हुई | राजा बलि को सुतललोक प्रदान करके भगवान ने उसे भी अभय दान दिया | भगवान ने राजा बलि पर पूर्ण कृपा की | भगवान जब कृपा करते हैं तो भक्त से तीन कदम अर्थात तन , मन , एवं धन मांग लेते हैं | जब मनुष्य यह तीनों चीजें भगवान को अर्पित कर देता है तो भगवान स्वयं उसकी रक्षा करते हैं | भगवान ने छोटा सा स्वरूप बनाकर यह दिखाने का प्रयास किया है कि यदि किसी से मांगना हो , कुछ प्राप्त करना हो तो अपने समस्त ऐश्वर्य का त्याग करके छोटा बनकर ही जाना चाहिए | समस्त सृष्टि का पालन करने वाले श्रीहरि विष्णु ने छोटा याचक बनकर यह सिद्ध करने का प्रयास किया है | प्रत्येक मनुष्य को भगवान वामन के अवतार से यह सीख अवश्य लेना चाहिए कि याचक कितना भी ज्ञानी व धनी हो परंतु यदि किसी से कोई ज्ञान , धन व सहायता की कामना हो तो सदैव छोटा ही बनना पड़ता है |*


*आज के युग में भी हमारे व्रत / पर्व वही फल प्रदान करने वाले हैं परंतु आज व्रत का विघान पालन करने वालों की संख्या बहुत कम देखने को मिलती है | आज मनुष्य में विश्वास की कमी स्पष्ट झलकती देखी जा सकती है | आज अनेकों नि:सन्तान दम्पत्ति ओझा , बाबा एवं नीम - हकीमों के जाल में फंसकर अपना तन , मन , धन सब लुटा रहे हैं परंतु यदि उनसे कोई विद्वान "पयोव्रत" करने को कहे तो उनका विश्वास नहीं जमता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के दानदाताओं को भी देख रहा हूं जो आरती करते समय तन मन धन सब तेरा होने का उद्घोष तो करते हैं पर बड़े-बड़े मंदिरों एवं आयोजनों में दान स्वरूप मोटी रकम देने के बाद अपने नाम की घोषणा करवाने से भी नहीं चूकते | ये आधुनिक दानकर्ता दिखावे के लिए तो बगुत कुछ दान कर देते हैं परंतु भूलवश दरवाजे पहुँच गये किसी दीन हीन याचक को धक्के मारकर अपशब्दों का प्रयोग करते हुए भगा देते हैं | ऐसे लोगों को राजा बलि से शिक्षा लेनी चाहिए जिसने भगवान वामन से यह पूछे बिना कि आप कौन हो सर्वस्व दान कर दिया | ऐसा करने से राजा बलि को विशेष "भगवत्कृपा" प्राप्त हुई | प्रत्येक मनुष्य को हमारे आदर्शों से शिक्षा लेने का प्रयास करते रहना चाहिए | परंतु आज न तो कोई किसी का व्रत का विधिवत पालन करना चाहता है और न ही मन से दान करना चाहता है | आज किसी भी व्रत को करने के पहले मनुष्य इस पर मन्थन करते हुए देखा जा रहा है कि फलाहार में क्या लिया जा सकता है | वहीं आज के दानी मन्दिरों में दान की धनराशि के साथ ही अपने नाम का पत्थर भी भेज देते हैं | दान की परिणिति यह है कि यदि दाहिना हाथ दे तो बाँयें हाथ को भी नहीं पता चलना चाहिए , परंतु आज ढिंढोरा पहले पीटा जाता है दान बाद में किया जाता | ऐसा करके मनुष्य उचित फल की कामना करता है तो भला यह कैसे सम्भव हो सकता है | इन तथ्यों पर विचार करने की आवश्यकता है |*


*आज भी "पयोव्रत" की वही महिमा है ! आवश्यकता है निर्देशानुसार उसका पालन करने की | आज भी विधिवत इस "पयोव्रत" का पालन करके वामन भगवान को प्रकट किया जा सकता है |*

अगला लेख: संतान सप्तमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
*भारत देश पर्व एवं त्यौहारों का देश है , यहाँ प्रतिदिन कोई न कोई पर्व , उत्सव एवं त्यौहार मनाकर आम जनमानस खुशियाँ मनाता रहता है | अभी विगत दिनों छ: दिवसीय "श्रीकृष्ण जन्मोत्सव" का पर्व धूमधाम से मनाने के बाद आज भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी से पूरे देश में अनुपम श्रद्घा एवं विश्वास के साथ दस दिवसीय विघ्न वि
03 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में पितरों के लिए श्राद्ध की अनेक विधियां बताई गई हैं , इन सभी विधियों में सबसे सरल दो विधि बताई गई है :- पिंडदान एवं ब्राह्मण भोजन | मृत्यु के बाद जो लोग देवलोक या पितृलोक में पहुंचते हैं वह मंत्रों के द्वारा बुलाये जाने पर उन लोकों से तत्क्षण श्राद्घदेश में आ जाते हैं और निमंत्रित ब्
20 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*मानव जीवन ही नहीं सृष्टि के सभी अंग - उपांगों मे अनुशासन का विशेष महत्व है | समस्त प्रकृति एक अनुशासन में बंधकर चलती है इसलिए उसके किसी भी क्रियाकलापों में बाधा नहीं आती है | दिन – रात नियमित रूप से आते रहते हैं इससे स्पष्ट है कि अनुशासन के द्वारा ही जीवन को सार्थक बनाया जा सकता है | विचार कीजिए कि
13 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन ग्रंथों में एक कथानक पढ़ने को मिलता है जो समुद्र मंथन के नाम से जाना जाता है | देवताओं एवं दैत्यों ने अमृत प्राप्त करने के लिए मन्दाराचल को मथानी एवं वासुकि नाग को रस्सी बनाकर समुद्र का मन्थन किया | अथक परिश्रम से मन्थन करने के बाद समुद्र से अमृत निकला परंतु अमृत निकलने के पहले समुद्र स
13 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
29 अगस्त 2019
*पूर्वकाल में मनुष्य ने आत्मिक प्रगति की थी | संस्कारों का स्वर्णयुग पूर्वकाल को कहा जा सकता है तो इसका प्रमुख कारण था संयुक्त परिवार | संयुक्त परिवार में सुख शांति एवं व्यवस्था का आधार आत्मीयता एवं पारस्परिक सहयोग ही होता है | जहां एक काम को परिवार के सभी सदस्य मिलकर के पूरा कर लेते थे और सामूहिक ध
29 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x