बेटे को पिता बनना चाहते थे IAS लेकिन बन नहीं पाए.. फिर बेटी पढ लिखकर बनी IAS, पूरा किया सपना

11 सितम्बर 2019   |  अभय शंकर   (515 बार पढ़ा जा चुका है)

बेटे को पिता बनना चाहते थे IAS लेकिन बन नहीं पाए.. फिर बेटी पढ लिखकर बनी IAS, पूरा किया सपना

जरूरी नहीं कि एक बेटा ही पिता का सपना पूरा करता है बेटियों को मौका तो दीजिए बेटियां भी देशभर में पिता का नाम रौशन करती है। ऐसी ना जाने कितनी कहानियां हैं जिनमें बेटियों ने मां बाप का सिर गर्व से ऊंचा किया। आज एक ऐसी ही कहानी हम आपको बता रहे हैं। ये कहानी है साक्षी की। जो उत्तर प्रदेश के रॉबर्टगंज की रहनी वाली हैं। साक्षी 2018 में IAS बनीं।


साक्षी ने बताया कि वह पढ़ाई में शुरू से ही अच्छी रही है और स्नातक तक की पढ़ाई उसने राबर्ट्सगंज में रहकर ही की है। हाईस्कूल में 76 प्रतिशत और इंटर में 81.4 प्रतिशत अंक लाकर उसने अपने स्कूल का नाम रोशन किया था। राजकीय महिला महाविद्यालय से साक्षी ने बीए की डिग्री हासिल की।


इंटर के बाद से ही मन बना लिया: यूपीएससी की तैयारी के सवाल पर साक्षी ने बताया कि इंटर में 81 प्रतिशत अंक आने के बाद उसने मन ही मन में यूपीएससी की तैयारी करने का फैसला कर लिया था, लेकिन राबर्ट्सगंज में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए अच्छे साधन नहीं होने के कारण उसने ग्रेजुएशन तक इंतजार करने का फैसला किया।


पिता के सपने को किया साकार : साक्षी ने बताया कि ग्रेजुएशन करने के बाद उसने दिल्ली आने का फैसला किया। जब उसने अपने पिता को बताया कि वह पढ़लिख कर आईएएस बनना चाहती है तो उसके पिता ने साक्षी को बहुत सपोर्ट किया। साक्षी के पिता कृष्ण कुमार गर्ग पेश से व्यापारी हैं और माता रेनु गर्ग एक घरेलू महिला हैं।


साक्षी ने बताया कि उसके पिता आईएएस बनना चाहते थे, लेकिन किन्हीं वजहों से वह अपना सपना पूरा नहीं कर पाए, इसलिए उन्होंने साक्षी को हमेशा यूपीएससी के लिए ना केवल मानसिक रूप से तैयार किया बल्कि हर कदम पर उसका सपोर्ट भी किया। साक्षी के पिता कृष्ण कुमार गर्ग ने बताया कि वह खुद आईएएस बनना चाहते थे, मगर जब उनका सपना पूरा नहीं हुआ तो बेटी को इस दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

बेटे को पिता बनना चाहते थे IAS लेकिन बन नहीं पाए.. फिर बेटी पढ लिखकर बनी IAS, पूरा किया सपना

अगला लेख: मैं विद्युत् में तुम्हें निहारूँ - गोपाल सिंह नेपाली | Gopal Singh Nepali Poems In Hindi



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 सितम्बर 2019
ट्रैफिक के नए नियम आ गए हैं. तरह-तरह के फाइन बढ़ा दिए हैं. बहुत पॉसिबल है कि आप घर से तैयार होकर अपनी स्कूटर पर निकलें. किसी चौराहे पर पहुंचें और ट्रैफिक पुलिस आपको धर ले. जब वो आपको छोड़े तो आपके हाथ में चालान हो. उसमें इतने तरीके के फाइन आप पर लगे हों कि चुकाने के लिए ल
10 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
रिलायंस ने जियो के तीन साल पूरा होने पर पांच सितंबर को जियो फाइबर सेवा लॉन्च कर दी है। यह सेवा एक साथ देश के 1600 शहरों में लॉन्च की गई है। अपने वादे के अनुसार, रिलायंस ने जियो फाइबर के 1299 रुपए या इससे ज्यादा मासिक वाले प्लान के साथ फ्री
10 सितम्बर 2019
04 सितम्बर 2019
नई दिल्ली: भीड़ द्वारा पिटाई और मौत का सिलसिला रूकने का नाम नहीं ले रहा है. ताज़ा मामला देश की राजधानी दिल्ली का है. यहां के मौजपुर इलाक़े में साहिल को मुसलमान समझकर सिर्फ़ इसलिए मार दिया गया क्योंकि वो पंडितों की गली में चला गया था. अब जब पता चला कि साहिल मुसलमान नहीं था
04 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x