पारसी परिवार में जन्में थे राहुल गांधी के दादा फिरोज जहांगीर, जानिए कैसे बने थे गांधी ?

12 सितम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (501 बार पढ़ा जा चुका है)

पारसी परिवार में जन्में थे राहुल गांधी के दादा फिरोज जहांगीर, जानिए कैसे बने थे गांधी ?

भारत के सबसे मजबूत राजनीतिक परिवार में 'गांधी परिवार' का नाम भी आता है। आज भले लोग गांधी परिवार का मजाक बनाने लगे हों लेकिन इनकी शुरुआत जब हुई तो एक खास बात रहती थी। इंदिरा गांधी एक दमदार शख्सियत थीं और उनके बेटे राजीव गांधी ने भी लोगों के दिल में खास जगह बनाई थी लेकिन उनके बेटे राहुल गांधी तो आज की तारीख में कोई भी नेता के रूप में पसंद नहीं करता। मगर एक बात ये भी चारो-ओर फैलती रहती कि इंदिरा गांधी ने एक मुस्लिम से शादी की थी लेकिन बाद में उनके पति फिरोज जहांगीर ने अपना सरनेम गांधी कर लिया था। मगर गांधी सरनेम उन्हें मिला कैसे, इसके बारे में हर किसी को जानना चाहिए क्योंकि गांधी परिवार का ये बहुत ही बड़ा और दिलचस्प सवाल है।


फिरोज जहांगीर कैसे बने गांधी ?


Feroze Gandh


गांधी परिवार देश की राजनीति में एक अलग और खास पहचान है। देश में सिर्फ गांधी और नेहरू परिवार ही ऐसे थे जिनका देश की राजनीति से शुरु से जुड़ाव रहा है। ऐसे ही गांधी परिवार के एक खास सदस्य फिरोज गांधी के बारे में लोग बहुत कम जानते हैं। 12 सितंबर, 1912 को बॉम्बे में जन्में फिरोज जहांगीर को बाद में लोग फिरोज गांधी के नाम से जानने लगे थे और ये भारतीय राजनीति के एक चर्चित चेहरे थे। इसके अलावा फिरोज लोकसभा सदस्य भी रहे थे और इनकी शादी जवाहरलाल नेहरू की बेटी इंदिरा गांधी के साथ हुई थी और इनकी ये शादी लव मैरिज थी। फिरोज गांधी को इंदिरा गांधी से दो बेटे राजीव और संजय गांधी हुए थे। फिरोज गांधी का जन्म मुंबई के एक पारसी परिवार में हुआ था और इनके पिता का नाम जहांगीर और मां का नाम रतिमाई था। वे मुंबई के खेतवाड़ी मोहल्ले के नौरोजी नाटकवाला भवन में रहा करते थे और इनके पिता जहांगीर किलिक में इंजिनियर थेजो बाद में वॉरंट इंजीनियर के पद पर काम करने लगे। फिरोज अपने भाई बहनों में सबसे छोटे थे और इनके भाई दोराब और फरीदुन जहांगीर और दो बहने तेहमिना करशश और आलू दस्तूर थीं। फिरोज परिवार मूल रूप से दक्षिण गुजरात के भरूच से ताल्लुख रखते थे और उनके पैतृक गृह आज भी कोटपारीवाड़ में स्थित है। फिरोज गांधी की शिक्षा इलाहाबाद में हुई थी और साल 1920 के दशक की शुरुआत में अपने पिता की मृत्यु के बाद फिरोज अपनी मां के साथ इलाहाबाद आ गए जो शहर के लेडी डफरीन अस्पताल में एक सर्जन थीं। इलाहाबाद में फिरोज ने विद्या मंदिर हाई स्कूल से प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त की थी और इसके बाद उन्होंने ईविंग क्रिश्चियन कॉलेज से स्नातक की पढाई की।


Feroze Gandh


फिरोज गांधी ने इंदिरा गांधी से लवमैरिज की थी और इंदिरा गांधी के पिता नहीं चाहते थे ये शादी होना। इंदिरा गांधी ने अपने पिता की मर्जी के खिलाफ जाकर ये शादी की थी और दोनों की लवस्टोरी भी खूब चर्चित रही। ऐसा बताया जाता है कि दोनों की मुलाकात साल 1930 में हुई थी। आजादी की लड़ाई में इंदिरा गांधी की मां कमला नेहरू एक कॉलेज के सामने धरना देने बैठी थीं और इसी दौरान बेहोश हो गई। फिरोज उस समय वहीं मौजूद थे और उन्होंने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया था और उनकी खूब देखभाल की थी। इसी दौरान वे अक्सर नेहरू आवास में आते-जाते थे और यहीं से इंदिरा गांधी की फिरोज से नजदीकियां बढ़ गईं। साल 1942 में फिरोज गांधी से इंदिरा की शादी हो गई थी और जवाहर लाल नेहरू इस शादी के खिलाफ थे मगर बाद में महात्मा गांधी ने नेहरू को समझाया और बाद में दोनों की शादी इलाहाबाद में अच्छे से हुई। फिरोज जहांगीर को महात्मा गांधी ने अपना सरनेम दिया और उन्हें गोल दे लिया। इस तरह उन्हें गांधी सरनेम मिल गया और आज भी इनका खानदान इसी सरनेम के साथ चल रहा है। भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान इंदिरा और फिरोज भी गांधी जी के साथ जेल गए थे। ऐसा बताया जाता है कि शादी के बाद इंदिरा और फिरोज के बीच आए दिन लड़ाइयां होती रहती थीं।


Feroze Gandh


साल 1949 में फिरोज और इंदिरा गांधी को दो बेटे हुए थे और इनका नाम राजीव-संजय गांधी रखा गया। दोनों बेटे होने के बाद इनको इंदिरा अपने पिता का घर संभालने के लिए फिरोज को छोड़कर चली गईं। उस समय संजय लखनऊ में रहे और इंदिरा के पिता के पास चले जाने के बाद फिरोज ने नेहरू सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरु किया और कई बड़े घोटालों में इसे उजागर भी किया था। 8 सिंतबर, 1960 में फिरोज का निधन हो गया और इसका कारण हार्ट अटैक बताया गया था।

अगला लेख: अपने बच्चे की मौत के बदले की चाह में कौआ साथियों सहित कातिल आदमी पर करता था हमला, ऐसे सामने आया मामला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2019
भारतीय टीम इंडिया के सिर पर जितना प्रेशर होता है वो लोग उतना ही लाइफ को मजे के साथ लेते हैं। ऐसा आज से नहीं बल्कि दशकों से होता आया है। अगर टीम इंडिया के सिर पर मैच का ज्यादा स्ट्रेस रहता है तब भी वे अपने हर पल को अच्छे से व्यतीत करते हैं। कुछ ऐसा ही किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं जब टीम इंडिया ने
02 सितम्बर 2019
31 अगस्त 2019
कौन थी अमृता प्रीतम ?गूगल ने आज अपने डूडल में प्रसिद्ध पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम को श्रद्धांजलि दी है और उनका ये अंदाज सिर्फ महान लेखिका को समर्पित किया है। आज अमृता प्रीतम का 100वां जन्मदिन है और गूगल का ये डूडल काफी खास अंदाज में बनाया भी गया है। अमृता अपने समय की मशहूर लेखिकाओं में से एक रही हैं
31 अगस्त 2019
03 सितम्बर 2019
इंसान की किस्मत कब और कैसे बदल जाती है ये बात कोई नहीं जान सकता। आज एक आम दिखने वाला व्यक्ति कल सेलिब्रिटी बन जाए इसका भी कोई अंदाजा नहीं लगाया जा सकता क्योंकि किस्मत हर किसी की होती है और वो पलट सकती है। जैसे कोलकाता की रहने वाली रानू मंडल की बदल गई, कभी रेलवे स्टेशन पर गाना गाकर दो वक्त की रोटी कम
03 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
जब किसी को अचनाक दौलत मिलती है तो वो शायद उसकी कद्र नहीं करे लेकिन जब किसी गरीब को शोहरत मिलने लगती है या फिर जब वो पाई-पाई का मोहताज होता है तब उसे वो मुकाम मिल जाता है जिसके बारे में उसने सोचा भी नहीं तो वो लोग उस शोहरत को मिलने के जरिए को कभी नहीं भूलते हैं। पिछले कुछ समय से इंटरनेट सेशन बनी रानू
03 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
90 के दशक की बहुत सारी एक्ट्रेसेस रही हैं जिनका सिक्का उस समय तो खूब चलता था लेकिन धीरे-धीरे उनका चार्म खत्म होने लगा। उस दौर की अभिनेत्रियों पर अंडरवर्ल्ड का साया भी रहता था। मगर फिर भी वे इस डर के साये में अच्छे से जिंदगी को जीना नहीं भूलती थीं, उन्हीं में से एक थीं एक्ट्रेस सोनम जो 90 के दशक में
02 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
भारतीय टीम इंडिया के सिर पर जितना प्रेशर होता है वो लोग उतना ही लाइफ को मजे के साथ लेते हैं। ऐसा आज से नहीं बल्कि दशकों से होता आया है। अगर टीम इंडिया के सिर पर मैच का ज्यादा स्ट्रेस रहता है तब भी वे अपने हर पल को अच्छे से व्यतीत करते हैं। कुछ ऐसा ही किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं जब टीम इंडिया ने
02 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
जब किसी को अचनाक दौलत मिलती है तो वो शायद उसकी कद्र नहीं करे लेकिन जब किसी गरीब को शोहरत मिलने लगती है या फिर जब वो पाई-पाई का मोहताज होता है तब उसे वो मुकाम मिल जाता है जिसके बारे में उसने सोचा भी नहीं तो वो लोग उस शोहरत को मिलने के जरिए को कभी नहीं भूलते हैं। पिछले कुछ समय से इंटरनेट सेशन बनी रानू
03 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
ट्रैफिक के नए नियम आ गए हैं. तरह-तरह के फाइन बढ़ा दिए हैं. बहुत पॉसिबल है कि आप घर से तैयार होकर अपनी स्कूटर पर निकलें. किसी चौराहे पर पहुंचें और ट्रैफिक पुलिस आपको धर ले. जब वो आपको छोड़े तो आपके हाथ में चालान हो. उसमें इतने तरीके के फाइन आप पर लगे हों कि चुकाने के लिए ल
10 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
Mahatma Gandhi Biography- भारत के राष्ट्रपिता के रूप में पहचाने जाने वाले महात्मा गांधी का दर्जा आज भी बहुत ऊंचा है। भारतीय मुद्रा हो या फिर कोई सड़क का नाम हर जगह महात्मा गांधी को आज भी सम्मान दिया जाता है। उनकी तस्वीरें सरकारी भवनों में नजर आती हैं और इसके अलावा 15
16 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
Old is Gold...इस बारे में तो आपने सुना ही होगा ? पुरानी चीजों की कद्र एक समय के बाद होती है। 90 के दशक में बड़े होने वाले सभी बच्चों में एक खास तरह का उत्साह रहता था। उस दौर में बच्चों के पास क्रिएटिविटी करने के बहुत मौके हुआ करते थे। 90 के दशक के बच्चों को खाली समय में बहुत कुछ करने को होता था, जिस
05 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
इंसान की किस्मत कब और कैसे बदल जाती है ये बात कोई नहीं जान सकता। आज एक आम दिखने वाला व्यक्ति कल सेलिब्रिटी बन जाए इसका भी कोई अंदाजा नहीं लगाया जा सकता क्योंकि किस्मत हर किसी की होती है और वो पलट सकती है। जैसे कोलकाता की रहने वाली रानू मंडल की बदल गई, कभी रेलवे स्टेशन पर गाना गाकर दो वक्त की रोटी कम
03 सितम्बर 2019
29 अगस्त 2019
भारत में महिलाओं को देवी का अवतार कहा जाता है लेकिन वे अपने परिवार की सलामती के लिए बहुत से काम करती हैं। अपने पति के लिए, संतान के लिए और परिवार में सुख-समृद्धि रखने के लिए व्रत और पूजा-पाठ करती रहती हैं। अब आने वाले व्रत में हरितालिका तीज व्रत आने वाला है जिसमें वे व्रत रखकर अपने पति की लंबी उम्र
29 अगस्त 2019
31 अगस्त 2019
कौन थी अमृता प्रीतम ?गूगल ने आज अपने डूडल में प्रसिद्ध पंजाबी लेखिका अमृता प्रीतम को श्रद्धांजलि दी है और उनका ये अंदाज सिर्फ महान लेखिका को समर्पित किया है। आज अमृता प्रीतम का 100वां जन्मदिन है और गूगल का ये डूडल काफी खास अंदाज में बनाया भी गया है। अमृता अपने समय की मशहूर लेखिकाओं में से एक रही हैं
31 अगस्त 2019
25 सितम्बर 2019
आजाद भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की छवि आम भारतीयों में बहुत खास है। हर किसी के मन में इंदिरा गांधी के लिए काफी इज्जत का भाव है और उनका जीवन परिचय भी काफी रोचक है। इंदिरा गांधी से जुड़े कई महत्वपूर्ण वाक्या है जिसमें साल 1975 के इमरजेंसी और ऑपरेशन ब्ल
25 सितम्बर 2019
06 सितम्बर 2019
मोदी सरकार के कार्यकाल को 100 दिन हो गए हैं और इन दिनो में या फिर अपने पहले कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए। अब इसमें कुछ लोगों को ये नामंजूर था तो कुछ ने सहमती दी। एबीपी न्यूज ने अगस्त के आखिरी हफ्ते में 11,308 लोगों के साथ एक सर्वे किया जिसमे
06 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x