पितृ पक्ष में पूर्वज क्यों आते हैं धरती पर? जानिए इसके बारे में 15 अहम जानकारियां

13 सितम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (519 बार पढ़ा जा चुका है)

पितृ पक्ष में पूर्वज क्यों आते हैं धरती पर? जानिए इसके बारे में 15 अहम जानकारियां

13 सितंबर से पूरा देश पितृपक्ष मना रहा है और ये पूरे 15 दिनों तक चलेगा इसमें जो हमारे घर के पितर लोग मर जाते हैं तो उनके श्राद्ध का काम चलता है। इस दौरान लोग ब्राह्मण को भोजन कराकर दक्षणा देते हैं और उनसे आशीर्वाद लेते हैं कि उनके पितर लोग जहां भी हैं चैन और खुशी के साथ रहें। शास्त्रों के अनुसार पितरों का ऋण श्राद्ध द्वारा चुकाया जाता है और पितृपक्ष में श्राद्ध करने से पितृगण प्रसन्न होते हैं और उन्हें एक उम्मीद भी होती है कि उनके पुत्र-पौत्रादि पिंडदान और तिलांजलि प्रधान तो करगें। मगर ये सब श्रद्धा का खेल है और जो इसमें विश्वास रखते हैं वो असल में पितृपक्ष को मानते ही हैं।


पितृपक्ष के बारे में अनसुनी बातें


श्राद्ध

ऐसा बताया जाता है कि पितृपक्ष के दौरान हमारे पितृ धरती पर आते हैं और इस दौरान हर किसी को वही करना चाहिए जो उनके पितरों को पसंद होता था। हिंदू धर्म शास्त्रों में पितृपक्ष में श्राद्ध जरूर करना चाहिए और श्राद्ध में पितरों को उम्मीद भी रहती है कि उनके पुत्र या पौत्रादि पिंडदान करके उन्हें एक बार फिर तृप्त करेंगे। आज हम आपको श्राद्ध से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं।


1. पिता का श्राद्ध पुत्र ही करता है और अगर पुत्र नहीं है तो पत्नी कर सकती है, अगर पत्नी भी नहीं है तो सगा भाई भी कर सकता है। एक से ज्यादा पुत्र होने पर सबसे बड़ा पुत्र ही श्राद्ध कर्म करता है।

2. ब्राह्मणों को भोजन कराने के बाद उन्हें पूरे सम्मान के साथ विदा करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि ब्राह्मणों के साथ पितल भी चलते हैं और ब्राह्मण को भोजन करवाकर परिजनों को भोजन कराना चाहिए।

3. श्राद्ध तिथि से पहले ब्राह्मण को भोजन के लिए नियमंत्रण देना चाहिए। भोजन के लिए आए हुए ब्राह्मणों को दक्षिण दिशा में ही बैठाना चाहिए।

4. ऐसी मान्यता है कि पितरों को दूध, दही, घी और शहद के साथ अन्न से बनाया भोजन ही बनाएं। फिर वो भोजन पहले कौवे के लिए रखे और फिर ब्राह्मण को खिलाएं।

5. श्राद्ध तिथि से पहले ही ब्राह्मणों को भोजन के लिए निमंत्रण देना चाहिए। भोजन के लिए आए हुए ब्राह्मणों को दक्षिण दिशा में बैठाएं और उनका सम्मान करें।

6. भोजन में से गाय, कुत्ते, कौए, देवता और चीटी के लिए उनका भाग निकाल देना चाहिए। इसके बाद हाथ में जल लेकर अक्षत, चंदन, तिल और फूल से संकल्प लेना चाहिए।

7. कुत्ते और कौए के निमित्त निकाला हुआ भोजन उन्हें ही कराएं और किसी को ना दें। देवता और चीटी का भोजन गाय को खिला देना चाहिए। ब्राह्मणों के मस्तक पर तिलक लगाकर उन्हें कपड़े, अन्न और दक्षिणा दान करके आशीर्वाद लें।

8. श्राद्धकर्म में सिर्फ गाय का घी, दूध और दही का उपयोग करना चाहिए।

9. श्राद्धकर्म में चांदी के बर्तनों का उपयोग करना और उनका दान करना पुण्यदायक माना जाता है।

10. ब्राह्मण को भोजन मौन रहकर ही कराना चाहिए क्योंकि शास्त्रों के अनुसार, पितृ तब तक भोजन ग्रहण करते हैं जब तक ब्राह्मण मौन रहता है।

11. अगर पितृ शस्त्र से मारे गए हैं तो उनका श्राद्ध मुख्य तिथि के अलावा चतुर्दशी में भी कराया जा सकता है।


श्राद्ध

12. श्राद्धकर्म में ब्राह्मण भोज का बहुत महत्व माना जाता है। जो व्यक्ति बिना ब्राह्मम के श्राद्धकर्म करते हैं उनके पितृ भोजन नहीं करते हैं।

13. श्राद्धकर्म करने के लिए कभी दूसरों की भूमि का इस्तेमाल नहीं करें। वन, पर्वत, पुण्यतिथि में श्राद्ध कर्म करते हैं।

14. शुक्लपक्ष में, रात्रि में, अपने जन्मदिन पर और एक दिन में दो तिथियों का योग होता है तो ऐसे में कभी श्राद्धकर्म नहीं करना चाहिए। धर्म ग्रंथों के अनुसार सायंकाल का समय सभी कार्यों के लिए अनूकूल है लेकिन श्राद्ध के लिए शाम का समय ठीक नहीं माना जाता है।

15. श्राद्ध में गंगाजल, दूध, शहद, कुश और तिल जैसे सामना जरूरी होते हैं। केले के पत्ते पर श्राद्ध भोजन नहीं कराया जाता है। इसके अलावा सोने, चांदी, कांसे, तांबे के बर्तन उत्तम होते हैं आप इनका दान भी कर सकते हैं। अगर इनका अभाव है तो पत्तल का उपयोग भी किया जा सकता है।


अगला लेख: अपने बच्चे की मौत के बदले की चाह में कौआ साथियों सहित कातिल आदमी पर करता था हमला, ऐसे सामने आया मामला



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 सितम्बर 2019
ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया की शतभिषा नक्षत्र में शुरू हो रहे पितृ आराधना के पर्व में श्राद्ध करने से सौ प्रकार के तापों से मुक्ति मिलेगी।इस वर्ष भाद्रपद माह की पूर्णिमा पर 13 सितंबर 2019 ( शुक्रवार) को शततारका (शतभिषा) नक्षत्र,धृति योग,वणिज करण एवं कुंभ राशि के चंद्रमा की साक्
13 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
भाद्रपद (भादों मास) की पूर्णिमा से प्रारंभ होकर आश्विन मास की अमावस्या तक कुल सोलह तिथियां श्राद्ध पक्ष की होती है। इस पक्ष में सूर्य कन्या राशि में होता है। इसीलिए इस पक्ष को कन्यागत अथवा कनागत भी कहा जाात है। श्राद्ध का ज्योतिषीय महत्त्व की अपेक्षा धार्मिक महत्व अधिक है क्योंकि यह हमारी धार्मिक आस
14 सितम्बर 2019
31 अगस्त 2019
आज के दौर में तकनीक ने हर क्षेत्र में अपनी जगह बना ली है और ट्रेन तो बस सुपरफास्ट होती ही जा रही है। ट्रेन में सफर करना बहुत आसान हो जाता है और हमें एक रिजर्व सीट मिल जाती है जिसपर हम सोकर बैठकर अपनी उस जगह पर पहुंच जाते हैं जहां पर भी हम जाना चाहते हैं। AC कोच में बैठकर हम ठंडी हवा लेकर हम अपनी मनप
31 अगस्त 2019
06 सितम्बर 2019
मोदी सरकार के कार्यकाल को 100 दिन हो गए हैं और इन दिनो में या फिर अपने पहले कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए। अब इसमें कुछ लोगों को ये नामंजूर था तो कुछ ने सहमती दी। एबीपी न्यूज ने अगस्त के आखिरी हफ्ते में 11,308 लोगों के साथ एक सर्वे किया जिसमे
06 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
इंसान की किस्मत कब और कैसे बदल जाती है ये बात कोई नहीं जान सकता। आज एक आम दिखने वाला व्यक्ति कल सेलिब्रिटी बन जाए इसका भी कोई अंदाजा नहीं लगाया जा सकता क्योंकि किस्मत हर किसी की होती है और वो पलट सकती है। जैसे कोलकाता की रहने वाली रानू मंडल की बदल गई, कभी रेलवे स्टेशन पर गाना गाकर दो वक्त की रोटी कम
03 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
सोशल मीडिया पर बहुत से लोग उसे अपने टाइमपास के लिए इस्तेमाल करते हैं। फेसबुक हो या फिर कोई और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ज्यादातर लोग यहां पर दोहरे चेहरे लगाकर ही घूमते हैं। इंसान अपने मन को खुश रखने के चक्कर में बहुत से लोगों के साथ खेल जा
03 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
अक्सर आपने लोगों को यह कहते हुए ज़रूर सुना होगी कि ‘किसी भी आदमी की सफलता के पीछे एक औरत का हाथ होता हैं।’ जी हां, यह काफी हद तक सही भी है। महिलाएं घर परिवार का इस तरह से ध्यान रखती हैं कि पुरूष वर्ग को बच्चों और परिवार की टेंशन ही नहीं रहती हैं और वे अपने करियर पर ध्यान
12 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
90 के दशक की बहुत सारी एक्ट्रेसेस रही हैं जिनका सिक्का उस समय तो खूब चलता था लेकिन धीरे-धीरे उनका चार्म खत्म होने लगा। उस दौर की अभिनेत्रियों पर अंडरवर्ल्ड का साया भी रहता था। मगर फिर भी वे इस डर के साये में अच्छे से जिंदगी को जीना नहीं भूलती थीं, उन्हीं में से एक थीं एक्ट्रेस सोनम जो 90 के दशक में
02 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
Old is Gold...इस बारे में तो आपने सुना ही होगा ? पुरानी चीजों की कद्र एक समय के बाद होती है। 90 के दशक में बड़े होने वाले सभी बच्चों में एक खास तरह का उत्साह रहता था। उस दौर में बच्चों के पास क्रिएटिविटी करने के बहुत मौके हुआ करते थे। 90 के दशक के बच्चों को खाली समय में बहुत कुछ करने को होता था, जिस
05 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
देशभर में गणपति की धूम है और उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक लोग गणेश पूजन करके उन्हें प्रसन्न करने की कोशिश में रहते हैं। गणेश जी हर किसी की मनोकामनाएं पूरी करने वाले देवता है और अगर उनके भक्त परेशानी में रहते हैं तो वे उनके दुख भी हर लेते हैं। गणेश भगवान का पूजन करने से विचलित व्यक्ति भी स्थिर ह
05 सितम्बर 2019
29 अगस्त 2019
भारत में महिलाओं को देवी का अवतार कहा जाता है लेकिन वे अपने परिवार की सलामती के लिए बहुत से काम करती हैं। अपने पति के लिए, संतान के लिए और परिवार में सुख-समृद्धि रखने के लिए व्रत और पूजा-पाठ करती रहती हैं। अब आने वाले व्रत में हरितालिका तीज व्रत आने वाला है जिसमें वे व्रत रखकर अपने पति की लंबी उम्र
29 अगस्त 2019
03 सितम्बर 2019
जब किसी को अचनाक दौलत मिलती है तो वो शायद उसकी कद्र नहीं करे लेकिन जब किसी गरीब को शोहरत मिलने लगती है या फिर जब वो पाई-पाई का मोहताज होता है तब उसे वो मुकाम मिल जाता है जिसके बारे में उसने सोचा भी नहीं तो वो लोग उस शोहरत को मिलने के जरिए को कभी नहीं भूलते हैं। पिछले कुछ समय से इंटरनेट सेशन बनी रानू
03 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
राखी सावंत. अपने बयानों के कारण हमेशा चर्चा में बनी रहती हैं. एक बार फिर उन्होंने कुछ इसी तरह का बयान दिया है. राखी अब हमेशा के लिए यूके जा रही हैं. अपने पति के पास. बाकायदा इंस्टाग्राम पर वीडियो शेयर कर उन्होंने ये बात बताई है. जाते-जाते अ
12 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
Narendra Modi Biography- देश के प्रतिष्ठित न्यूज चैनल एबीपी न्यूज ने करीब 11 हजार लोगों के साथ देशभर में मोदी सरकार के 100 दिनों के कार्यकाल को लेकर एक सर्वे किया। इस सर्वे में ज्यादातर लोगों ने Narendra Modi को आजाद भारत का सबसे दमदार प्रधानमंत्री बताया गया है। नरेंद्र मोदी ऐसी सख्शियत हैं जो देश य
12 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
अंत‌िम संस्कार का शास्‍त्रों में बहुत वर्णन द‌िया गया है क्योंक‌ि इसी से व्यक्त‌ि को परलोक में उत्तम स्थान और अगले जन्म में उत्तम कुल पर‌िवार में जन्म और सुख प्राप्त होता है। गरुड़ पुराण में बताया गया है क‌ि ज‌िस व्यक्त‌ि का अंत‌िम संस्कार नहीं होता है उनकी आत्मा मृत्‍यु के बाद प्रेत बनकर भटकती है औ
13 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
भारतीय टीम इंडिया के सिर पर जितना प्रेशर होता है वो लोग उतना ही लाइफ को मजे के साथ लेते हैं। ऐसा आज से नहीं बल्कि दशकों से होता आया है। अगर टीम इंडिया के सिर पर मैच का ज्यादा स्ट्रेस रहता है तब भी वे अपने हर पल को अच्छे से व्यतीत करते हैं। कुछ ऐसा ही किस्सा हम आपको बताने जा रहे हैं जब टीम इंडिया ने
02 सितम्बर 2019
07 सितम्बर 2019
हिन्दुस्तान ही दुनियां का एकमात्र देश है जहाँ हज़ारों सालो से देवी देवता रात में ख्वाबों में आते है और अपना मंदिर बनाने का आदेश दे देते है, सुबह उठाकर राजा, रानी या कोई साहूकारा जिन्हे देवी या देवता ने चुना होता है, अपने लोगो को आदेश दे देता है और एक
07 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x