हिंदी दिवस

14 सितम्बर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (411 बार पढ़ा जा चुका है)

हिंदी दिवस

हिंदी दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ

आप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवस का... पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी... माँ के श्राद्ध का तर्पण... भोजन... ऊपर से “अतिथि देवो भव”... तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखा हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभद्रता पर उपहास सा करते हुए मुँह भी चिढ़ा रहे थे और साथ ही स्वागत भी कर रहे थे... तो सर्वप्रथम सभी को हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ...

हममें से अधिकाँश लोगों को सम्भवतः ज्ञात होगा कि 1918 में इंदौर में आयोजित हिंदी साहित्य सम्मलेन में महात्मा गाँधी ने हिंदी को आम जनमानस की भाषा बताते हुए इसे राष्ट्रभाषा घोषित किये जाने की बात कही थी | उस समय के प्रसिद्ध गाँधीवादी विचारधारा के पत्रकार और लेखक काका केलकर और मैथिलीशरण गुप्त जैसे अनेकों दिग्गज भी इसी पक्ष में थे | ऐसे ही महानुभावों के प्रयासों के फलस्वरूप देश आज़ाद होने के बाद चौदह सितम्बर सन 1949 में भारत की संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी हुई हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा घोषित किया और उसके बाद हर क्षेत्र में हिंदी के प्रचार प्रसार के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर 1953 से सारे देश में चौदह सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा |

हममें से बहुत से लोग यह भी जानते होंगे कि चीन की मंदारिन भाषा, स्पैनिश और अंग्रेजी के बाद हिंदी ही ऐसी भाषा है जो सबसे अधिक प्रयोग में आती है | विश्व के तीस से अधिक देशों में हिंदी पढ़ाई लिखाई जाती है और लगभग सौ विश्वविद्यालयों में हिंदी के अध्यापन की व्यवस्था है | अमेरिका में बहुत से शैक्षणिक संस्थानों में हिंदी का पठन पाठन होता है | यहाँ तक कि फ़िजी में हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्ज़ा दिया गया है | इनके अतिरिक्त मॉरीशस, फिलीपींस, नेपाल, गुयाना, सुरिनाम, त्रिनिदाद और तिब्बत में हिंदी बोली और समझी जाती है |

ये सब लिखने का विशेष अभिप्राय है | अभी हाल ही में महिलओं के एक कार्यक्रम में आमन्त्रित किया गया था | कार्यक्रम के बाद जलपान के समय महिलाएँ आपस में बात करने लगीं | कुछ महिलाओं की समस्या थी कि उनके बच्चे जिन विद्यालयों में पढने जाते हैं वहाँ विद्यालय परिसर में बच्चे केवल अंग्रेज़ी में ही बात कर सकते हैं | यदि किसी बच्चे को हिंदी में वार्तालाप करते हुए पकड़ लिया तो उसे सज़ा देने के साथ ही उसके माता पिता को भी बुलाकर इस बात की शिकायत की जाती है | मैंने उन महिलओं से पूछा कि आपके घर के बुज़ुर्ग किस भाषा में बात करते हैं ? उनका उत्तर था “हिन्दुस्तानी” में | तब मैंने उनसे आगे पूछा “आप स्वयं किस भाषा में सोचती हैं ?” पहले तो वे मेरा प्रश्न ही नहीं समझ पाईं कि सोचने की भी क्या कोई भाषा हो सकती है ? फिर जब उन्हें समझाया कि वे जिस भाषा में सोचेंगी उसी में यदि संवाद भी करेंगी तभी उनके संवाद में प्रभावात्मकता उत्पन्न हो सकेगी, अन्यथा तो उनकी कही बात केवल “किताबी” बनकर रह जाएगी | बंगाली बंगला में सोच सकते हैं, दक्षिण भारतीय अपनी बोलियों में सोच सकते हैं, एक अँगरेज़ अंग्रेजीं में सोच सकता है, चीन के निवासी – जर्मनी के निवासी – रूस के निवासी – यानी हर देश के निवासी – हर भाषा भाषी – अपनी ही भाषा में सोच सकते हैं और उसी भाषा में विचारों का सम्प्रेषण भी पूर्ण प्रभावात्मकता के साथ कर सकते हैं | इसलिए क्यों नहीं अपने बच्चों को उन विद्यालयों में अध्ययन के लिए भेजती हैं जहाँ उनकी अपनी भाषा में सोचने और बोलने की आज़ादी उन्हें प्राप्त हो सके |

अपनी सोसायटी में ही देखते हैं कि माताएँ प्ले स्कूल्स से जब अपने बच्चों को घर वापस लेकर आती हैं तो उन दुधमुहों से “इंग्लिश” में गिटर पिटर करती चलती हैं | “बेटा, डोंट डू दिस... दादी गुस्सा करेंगी...” या “डोंट ड्रिंक ठण्डा पानी, सारी रात कफिंग करोगे...” या “ओ माई सन... भूख लगी है... मम्मा विल गिव यू कुछ इंटरेस्टिंग सा...” वगैरा... वगैरा... उस समय मन होता है कि उनसे पूछें कि उनका दिमाग किस “बोली” में सोच रहा है और क्या वे उसी “भाषा” में बात कर रही हैं...? और उनके ऐसा करने के पीछे एक विशेष कारण जो हमें समझ में आया वो ये कि आज़ादी के बहत्तर वर्ष बाद भी हमें अपने आपको “हिन्दीभाषी” बताने में शर्म आती है | लोग क्या कहेंगे | असल में हम सबकी सोच ऐसी बन चुकी है कि यदि अंग्रेजी में बात नहीं करेंगे तो गँवार समझे जाएँगे |

अंग्रेज़ी या अन्य भाषाओं से किसी को परहेज़ नहीं है | बल्कि वास्तविकता तो यह है कि अनेक देशों के साथ संवाद के लिए और विज्ञान तथा तकनीकी आदि विषयों के अध्ययन के लिए अंग्रेज़ीं अन्तर्राष्ट्रीय विचार विनिमय की भाषा है | अब आप यही देख लीजिये कि ब्लॉग पर अपना हिंदी भाषा में लिखा लेख पोस्ट करने के लिए शीर्षक में अंग्रेज़ी का ही सहारा लेना पड़ता है, क्योंकि हिंदी का शीर्षक लिखने पर हिंदी के अक्षरों के बाद में विचित्र सी आकृतियाँ भी आ जाती हैं...

किन्तु साथ ही सच्चाई यह भी है कि भारत जैसे विशाल, विविधतापूर्ण और उदात्त विचारधारा वाले देश में – जहाँ अनेकों धर्मों और सम्प्रदायों की मान्यताएँ, अनेकों प्रान्तों और अंचलों के रीति रिवाज़ और पर्व त्यौहार परस्पर इस तरह घुले मिले हैं कि उनकी विविधता तो परिलक्षित होती है लेकिन कहीं विरोध नहीं प्रतीत होता – वहाँ हिंदी भाषा भी इतनी उदात्त है कि न जाने कितनी भाषाएँ इसमें अब तक समाकर इसे अपनी पहचान बना चुकी हैं और जिनके कारण हिंदी भी समृद्ध हुई है | जिस तरह इस देश में सबको अंगीकार करने की भावना है उसी प्रकार हिंदी भाषा में समस्त भाषाओं को अपने में आत्मसात करके अपना गौरव और अधिक बढ़ाने की सामर्थ्य है | इसलिए हमें तो अपने “हिंदीभाषी” होने पर गर्व का अनुभव होना चाहिए |

अस्तु,

“विविध धर्म बहुभाषाओं का देश हमारा,

मिलकर चलता साथ साथ ये देश हमारा |

हम सब इसके गुलशन की खिलती फुलवारी,

रंग बिरंगे पुष्पों से सजती है क्यारी ||

नृत्य गान के अनगिन सुर तालों का मिश्रण

इसकी चेतनता में भरता है उछाह जो |

अनगिनती भाषाओं से युत हिंदी ऐसी

अजब अनोखे बच्चे ज्यों हों माँ की गोदी ||”

ऐसे अजब अनोखी बोली रूपी बच्चों से गौरवान्वित अपनी मातृभाषा हिंदी के वार्षिक दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएँ...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/09/14/hindi-diwas/

अगला लेख: शुक्र का कन्या में गोचर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 सितम्बर 2019
https://duniaabhiabhi.com/heavy-support-to-make-hindi-the-national-language/
10 सितम्बर 2019
07 सितम्बर 2019
शुक्र का कन्या में गोचर मंगलवार नौ सितम्बर भाद्रपद शुक्लद्वादशी को 25:41 (अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर इकतालीस मिनट के लगभग) बव करण और शोभनयोग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र शत्रु ग्रह स
07 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
हि
"गीत"हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान हैभारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान हैहर बोली में लहजा हिंदी, हर माथे पर सोहे बिंदीघर-घर में इंसान है, आँगन मुख मुस्कान है.......लिखना रुचिकर पढ़ना रुचिकर, रुचिकर है आठो डाँड़ीहिंदी के हर शब्द में बहती, गंगा यमुना की नाड़ीस्वर व्यंजन की आरती, प्रिय प्रतीक माँ
17 सितम्बर 2019
28 सितम्बर 2019
प्रथम नवरात्र - देवी के शैलपुत्री रूपकी उपासनाआज सभी नेविधि विधान और सम्मानपूर्वक अपने पितृगणों को “पुनः आगमन” की प्रार्थना के साथविदा किया है और कल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से कलश स्थापना के साथ ही वासन्तिक नवरात्रोंका आरम्भ हो जाएगा | भारतीय दर्शन की “प्रसीद विश्वेश्वरी पाहि विश्वं” की उदात्त भावना के
28 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
हि
"गीत"हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान हैभारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान हैहर बोली में लहजा हिंदी, हर माथे पर सोहे बिंदीघर-घर में इंसान है, आँगन मुख मुस्कान है.......लिखना रुचिकर पढ़ना रुचिकर, रुचिकर है आठो डाँड़ीहिंदी के हर शब्द में बहती, गंगा यमुना की नाड़ीस्वर व्यंजन की आरती, प्रिय प्रतीक माँ
17 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हि
निज भाषा उन्नति अहे,सब उन्नति को मूल महान साहित्यकार भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने अपनी भाषा को सब प्रकार की उन्नति का मूल कारक बताया था।अपनीभाषा अर्थात जिस जगह हम रहते हैं ,उस विस्तृत भूभागमें बोली जाने वाली भाषा।इस प्रकार हिंदी हमारी मातृ-भाषा है,क्योंकि वह विस्तृत भू-भाग में
14 सितम्बर 2019
24 सितम्बर 2019
मंगल का कन्या में गोचरकल 25 सितम्बरयानी आश्विन कृष्ण एकादशी को प्रातः छह बजकर चौंतीस मिनट के लगभग मंगल अपने मित्र सूर्यकी सिंह राशि से निकल कर शत्रु ग्रह बुध की राशि कन्या में प्रस्थान कर जाएगा |मंगल इस समय उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र पर होगा तथा अस्त होगा | इस प्रस्थान के समय बालवकरण और शिव योग होगा | क
24 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
A
ऐसा क्या है जो तुम मुझसेकहने में डरते हो पर मेरे पीछे मेरी बातें करते हो मैं जो कह दूँ कुछ तुमसे तुम उसमें तीन से पांचगढ़ते होऔर उसे चटकारे ले करदूसरों से साँझा करते होमैं तो हूँ खुली किताबबेहद हिम्मती और बेबाक़रोज़ आईने में नज़रमिलाता हूँ अपने भीतर झाँक, फिरऐसा क्या है जो
26 सितम्बर 2019
15 सितम्बर 2019
16 से 22सितम्बर 2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
15 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
ईरानी (पर्शियन )समाज में हिंदी भाषा का महत्व डॉशोभा भारद्वाज मुझेकई वर्ष तक परिवार सहित ईरान में रहने का अनुभव रहा है | ईरान के शाह मोहम्मद रजापहलवी ,पहलवी राजवंश के आखिरी शाह थे उन्होंने शान शौकत के साथ आर्य मिहिर की उपाधिधारण की उनके खिलाफ क्रान्ति का ऐसा म
16 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धासुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी कोपिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधीपाठकों के लिए समर्पित हैं...भरी भीड़ में मन बेचारा खड़ा हुआ कुछ
16 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी है हम वतन है। अपनी अभिव्यक्ति कहने का जतन है, अपनी संस्कृति का न हो पतन, बस यही जतन है। हिंदी है हम वतन है। जुबानें बेहिसाब है जहां में, हम वतन के, खुद के आजाद ख्यालात की, जुबान है हिंदी... अपनेपन का अहसास, खुद के शब्दों की परवाज़ है हिंदी, कोयल की जुबान है हिंदी। हिंदी है हम वतन है...
14 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
कु
मेरे बुझने पे जो तुम हंसने लगेचिराग हूँ, फिर जल जाऊंकुछ मशविरा ऐसा भी दो तो जानेमेरे मुरझाने पे जो तुम हंसने लगेफूल हूँ, फिर खिल जाऊंकुछ मशविरा ऐसा भी दो तो जानेमेरे टूटने पे जो तुम हंसने लगे शीशा हूँ , फिर जुड़ जाऊंकुछ मशविरा ऐसा भी दो तो जाने
26 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
ध्यान और उसका अभ्यासभूमिका पिछले कुछ दशकों में ध्यान हमारे आधुनिक जीवन और हमारेशब्दकोष का एक सदस्य बन गया है | चिकित्सक, मनोवैज्ञानिक और अन्य व्यवसायी तनाव से मुक्ति दिलाने, स्वास्थ्य को सही बनाए रखने और सृजनात्मकता तथा ऊर्जा में वृद्धि के लिएएक प्रभावशाली साधन के रूप में ध्यान का समर्थन करते हैं |
26 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
सूर्य का कन्या में गोचरकल यानी 17 सितम्बर, आश्विन कृष्ण तृतीया को दोपहर एक बजकर तीनमिनट के लगभग विष्टि करण और ध्रुव योग में सूर्यदेव अपनीस्वयं की राशि सिंह से निकल कर कन्या राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | अपने इस गोचरके समय सूर्य उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र पर होंगे,जहाँ से 27 सितम्बर को हस्त नक्षत्र और ग्
16 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x