"रविवार का सृजन (टूटता परिवार)"

15 सितम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (6843 बार पढ़ा जा चुका है)

*गुम हो गए संयुक्त परिवार*

*एक वो दौर था* जब पति,

*अपनी भाभी को आवाज़ लगाकर*

घर आने की खबर अपनी पत्नी को देता था ।

पत्नी की छनकती पायल और खनकते कंगन बड़े उतावलेपन के साथ पति का स्वागत करते थे ।


बाऊजी की बातों का.. *”हाँ बाऊजी"*

*"जी बाऊजी"*' के अलावा दूसरा जवाब नही होता था ।


*आज बेटा बाप से बड़ा हो गया, रिश्तों का केवल नाम रह गया ।*


ये *"समय-समय"* की नही,

*"समझ-समझ"* की बात है


बीवी से तो दूर, बड़ो के सामने, अपने बच्चों तक से बात नही करते थे

*आज बड़े बैठे रहते हैं हम *सिर्फ बीवी* से बात करते हैं


दादाजी के कंधे तो मानो, पोतों-पोतियों के लिए

आरक्षित होते थे, *काका* ही

*भतीजों के दोस्त हुआ करते थे ।*


आज वही दादू - दादी

*वृद्धाश्रम* की पहचान है,

*चाचा - चाची* बस

*रिश्तेदारों की सूची का नाम है ।*


बड़े पापा सभी का ख्याल रखते थे, अपने बेटे के लिए

जो खिलौना खरीदा वैसा ही खिलौना परिवार के सभी बच्चों के लिए लाते थे ।

*'ताऊजी'*

आज *सिर्फ पहचान* रह गए

और,......

*छोटे के बच्चे*

पता नही *कब जवान* हो गये..??


दादी जब बिलोना करती थी,

बेटों को भले ही छाछ दे

पर *मक्खन* तो

*केवल पोतों में ही बाँटती थी।*


*दादी ने*

*पोतों की आस छोड़ दी*,

क्योंकि,...

*पोतों ने अपनी राह*

*अलग मोड़ दी ।*


राखी पर *बुआ* आती थी,

घर मे नही

*मोहल्ले* में,

*फूफाजी* को

*चाय-नाश्ते पर बुलाते थे।*


अब बुआजी,

बस *दादा-दादी* के

बीमार होने पर आते है,

किसी और को

उनसे मतलब नही

चुपचाप नयननीर बरसाकर

वो भी चले जाते है ।


शायद *मेरे शब्दों* का

कोई *महत्व ना* हो,

पर *कोशिश* करना,

इस *भीड़* में

*खुद को पहचानने की*,

*कि*,.......


*हम "ज़िंदा है"*

या

*बस "जी रहे" हैं"*

अंग्रेजी ने अपना स्वांग रचा दिया,

*"शिक्षा के चक्कर में*

*संस्कारों को ही भुला दिया"।*


बालक की *प्रथम पाठशाला परिवार*

पहला *शिक्षक उसकी माँ* होती थी,

आज

*परिवार ही नही रहे*

*पहली शिक्षक का क्या काम...??*


"ये *समय-समय* की नही,

*समझ-समझ* की बात है"।


अब *परोस कर दे बहु* तो *अहोभाग्य,* वरना उठो, परोस कर खालो और हाँ👉 *मेहरी* मायके गई है, *माँज* कर रख दो भाई। क्या लगता है? *दस-बीस साल* रह गये तो अपना नसीब वरना चला-चली है👍

अगला लेख: विश्व शांति दिवस पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2019
💕💕 *इश्क* 💕💕इश्क कोई अज़ूबा 'रिश्ता' नहींइश्क कोई गहरी साज़िश नहींइश्क कोई बेहिसाब सज़ा नहींइश्क क़ुदरत का एक फ़रमान हैक़ायानात से उतरा हुआ,आशिकों की आन जान हैइश्क क़ायदा है हुश्न फ़रमाने काइश्क उल्फ़त का आइना हैइश्क "चाहत" हैइश्क नेह की डगर हैइश्क "ज़न्नत" का पैगाम हैइश्क हदों के पार दोस्तना है
02 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
13 सितम्बर 2019
अँ
22 सितम्बर 2019
28 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
27 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x