भरी भीड़ में मन बेचारा

16 सितम्बर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (494 बार पढ़ा जा चुका है)

भरी भीड़ में मन बेचारा

पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धा सुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी को पिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधी पाठकों के लिए समर्पित हैं...

भरी भीड़ में मन बेचारा

खड़ा हुआ कुछ सहमा कुछ सकुचाया सा

द्विविधाओं की लहरों में डूबता उतराता सा...
घिरा हुआ कुछ कुछ जाने कुछ अजाने / कुछ चाहे कुछ अनचाहे / नातों से...

कभी झूम उठता है देखकर इतने अपनो को

होता है गर्वित और हर्षित / देखकर उनके स्नेह को

सोचने लगता है / नहीं है कोई उससे अधिक धनवान इस संसार में...
होता है स्पन्दित / बज उठता है मन का एकतारा

जब सहलाते हैं कितने ही स्पर्श प्रेम से / अनुराग से...
किन्तु फिर तभी उपजती है कहीं अवचेतन में

एक अपरिचित सी आशंका / कहीं ये सब स्वप्नमात्र तो नहीं...

हो जाता है प्रफुल्लित गर्व से

जब कोई करता है गुणगान / उछाह में भर
लेकिन साथ ही होती है एक अजीब सी सिहरन भी / अविश्वास की...
क्योंकि कहीं गहरे / बहुत गहराई में है भान
मुखौटे चढ़ाए हुए उन "अपनों" की प्रकृति का...
तभी तो बहाता है अश्रु / घिरा हुआ अपनों की भीड़ में भी...
हो जाता है उदास / "अपनों" के स्नेहिल स्पर्शों से भी...
और तब बस याद आता है एक ही ठौर
और व्याकुल मन छिप जाता है चुपके से

कहीं पीछे उस ठौर के द्वार के
जो है वात्सल्य के आँचल से ढकी
ममतामयी गोद जनयित्री की...
जहाँ पहुँच मिलता है मन को आश्वासन

विश्वास से परिपूर्ण नेत्रों का जनक के भी...
नहीं हैं जो आज शरीर रूप में निकट मेरे...
किन्तु तब भी मन को है बस एक ही विश्वास

कि निहार रहे हैं एकटक मुझे स्नेह से / कहीं दूर बैठे

और करते हैं मान मेरे हर प्रयास पर...

बनते हैं अवलम्ब मेरा / हर पल / हर घड़ी

ताकि बढ़ती रहूँ मैं निज पथ पर आगे / और आगे

और प्राप्त कर सकूँ लक्ष्य को अपने / बिना किसी बाधा के...

अगला लेख: जीवन की रामकहानी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 सितम्बर 2019
लड़की हैं वोह कोई खिलौना नहीं जज़्बात हैं उसकी भी कोई मज़ाक नहीं जताने के लिए वोह कोई हक़ नहीं इंसान हैं वह कोई अमानत नहीं
13 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
हि
"गीत"हिंदी हिंद की जान है, आन बान और शान हैभारत के हर वासी का, युग-युग से पहचान हैहर बोली में लहजा हिंदी, हर माथे पर सोहे बिंदीघर-घर में इंसान है, आँगन मुख मुस्कान है.......लिखना रुचिकर पढ़ना रुचिकर, रुचिकर है आठो डाँड़ीहिंदी के हर शब्द में बहती, गंगा यमुना की नाड़ीस्वर व्यंजन की आरती, प्रिय प्रतीक माँ
17 सितम्बर 2019
01 सितम्बर 2019
2 से 8 सितम्बर 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
01 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
ईरानी (पर्शियन )समाज में हिंदी भाषा का महत्व डॉशोभा भारद्वाज मुझेकई वर्ष तक परिवार सहित ईरान में रहने का अनुभव रहा है | ईरान के शाह मोहम्मद रजापहलवी ,पहलवी राजवंश के आखिरी शाह थे उन्होंने शान शौकत के साथ आर्य मिहिर की उपाधिधारण की उनके खिलाफ क्रान्ति का ऐसा म
16 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
सूर्य का कन्या में गोचरकल यानी 17 सितम्बर, आश्विन कृष्ण तृतीया को दोपहर एक बजकर तीनमिनट के लगभग विष्टि करण और ध्रुव योग में सूर्यदेव अपनीस्वयं की राशि सिंह से निकल कर कन्या राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | अपने इस गोचरके समय सूर्य उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र पर होंगे,जहाँ से 27 सितम्बर को हस्त नक्षत्र और ग्
16 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
28 सितम्बर 2019
प्रथम नवरात्र - देवी के शैलपुत्री रूपकी उपासनाआज सभी नेविधि विधान और सम्मानपूर्वक अपने पितृगणों को “पुनः आगमन” की प्रार्थना के साथविदा किया है और कल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से कलश स्थापना के साथ ही वासन्तिक नवरात्रोंका आरम्भ हो जाएगा | भारतीय दर्शन की “प्रसीद विश्वेश्वरी पाहि विश्वं” की उदात्त भावना के
28 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
https://duniaabhiabhi.com/how-do-we-celebrate-hindi-day/
14 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी है हम वतन है। अपनी अभिव्यक्ति कहने का जतन है, अपनी संस्कृति का न हो पतन, बस यही जतन है। हिंदी है हम वतन है। जुबानें बेहिसाब है जहां में, हम वतन के, खुद के आजाद ख्यालात की, जुबान है हिंदी... अपनेपन का अहसास, खुद के शब्दों की परवाज़ है हिंदी, कोयल की जुबान है हिंदी। हिंदी है हम वतन है...
14 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
https://duniaabhiabhi.com/heavy-support-to-make-hindi-the-national-language/
10 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी दिवस कीसभी को हार्दिक शुभकामनाएँआप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवसका... पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी... माँ के श्राद्ध का तर्पण... भोजन... ऊपर से“अतिथि देवो भव”... तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखाहिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभ
14 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
नवरात्रोंमें घट स्थापना आश्विन शुक्ल प्रतिपदा यानी 29 सितम्बर रविवार से समस्त हिन्दू सम्प्रदाय में हर घर में माँ भगवती कीपूजा अर्चना का नव दिवसीय उत्सव शारदीय नवरात्र के रूप में आरम्भ हो जाएगा |सर्वप्रथम सभी को शारदीय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ...भारतीय वैदिक परम्परा के अनुसार किसीभी धार्मिक
25 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
A
ऐसा क्या है जो तुम मुझसेकहने में डरते हो पर मेरे पीछे मेरी बातें करते हो मैं जो कह दूँ कुछ तुमसे तुम उसमें तीन से पांचगढ़ते होऔर उसे चटकारे ले करदूसरों से साँझा करते होमैं तो हूँ खुली किताबबेहद हिम्मती और बेबाक़रोज़ आईने में नज़रमिलाता हूँ अपने भीतर झाँक, फिरऐसा क्या है जो
26 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
इस बार अक्टूबर का पूरा महीना व्रत-त्यौहार के नाम है. हिन्दू पंचांग के अनुसार इस महीने में बड़े-बड़े त्यौहार और व्रत मनाये जायेगे. इस महीने में बड़े पर्व में नवरात्रि, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहार है. महीने के शुरुआती दिनों में ही माँ दुर्गा के नवरात्री उत्सव मना रहे है. नवरात
01 अक्तूबर 2019
10 सितम्बर 2019
मैं कई गन्जों को कंघे बेचता हूँएक सौदागर हूँ सपने बेचता हूँकाटता हूँ मूछ पर दाड़ी भी रखता और माथे के तिलक तो साथ रखता नाम अल्ला का भी शंकर का हूँ लेताहै मेरा धंधा तमन्चे बेचता हूँएक सौदागर हूँ ...धर्म का व्यापार मुझसे पल रहा हैदौर अफवाहों का मुझसे चल रहा है यूँ नहीं
10 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
जय हो- अमर सृजन होदग्ध मानवता- रक्षित होअष्टपाश- सट् ऋपु मुर्छित हों''नवचक्र'' आह्वाहन जागृत होंकीर्तित्व उजागर - बर्धित होंशंखनाद् प्रचण्ड, कुण्डल शोभित होंकवि का हृदयांचल अजर - अमर होजय हो! 'वीणा वादनी' की जय हो!! 🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
17 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
ध्यान और उसका अभ्यासभूमिका पिछले कुछ दशकों में ध्यान हमारे आधुनिक जीवन और हमारेशब्दकोष का एक सदस्य बन गया है | चिकित्सक, मनोवैज्ञानिक और अन्य व्यवसायी तनाव से मुक्ति दिलाने, स्वास्थ्य को सही बनाए रखने और सृजनात्मकता तथा ऊर्जा में वृद्धि के लिएएक प्रभावशाली साधन के रूप में ध्यान का समर्थन करते हैं |
26 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
21 सितम्बर 2019
वक़्त में छुपा हैं एक अनोखा राज़ ढूंढा तोह मिला नै वह कल आज पुछा में ने उस से वह बात उसने कहा में ही दर्द का मरहम भी और उसके साथ जीने की वजह भी .
21 सितम्बर 2019
14 सितम्बर 2019
हिंदी दिवस कीसभी को हार्दिक शुभकामनाएँआप सब सोचेंगे कि पूर्णिमा को अब स्मरण हुआ “हिंदी” दिवसका... पर व्यस्तता ही कुछ ऐसी थी... माँ के श्राद्ध का तर्पण... भोजन... ऊपर से“अतिथि देवो भव”... तो अब साँझ को इस सबसे अवकाश पाकर मोबाइल ऑन किया तो देखाहिंदी दिवस के उपलक्ष्य में अनगिनती शुभकामना सन्देश मेरी अभ
14 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x