त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (437 बार पढ़ा जा चुका है)

त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के अनुयायी अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए धर्म और शास्त्रों के अनुसार हविष्ययुक्त पिंड को प्रदान करते हैं यही कर्म श्राद्ध कहलाता है | जब मनुष्य अपने पितरों के लिए श्रद्धा करते हैं तो इससे उनके पितरों को शांति मिलती हैं और वे सदैव प्रसन्न रहते हुए दीर्घायु, प्रसिद्धि एवं कुसलता प्रदान करते हैं | प्रत्येक पितृपक्ष व प्रत्येक अमावस्या को पितरों का श्राद्ध किये जाने का विधान है | जब किसी मृतक की अंत्येष्टि कर्म से लेकर सपिण्डन तक विधिवत नहीं हो पाता है तो मृतक पितर प्रेतत्व को प्राप्त हो जाते हैं | अपनी वंश परंपरा में होने वाले अनेक प्रकार के दैहिक , दैविक तथा भौतिक तापो के उपशमन के लिए "त्रिपिंडी श्राद्ध" करने की लोकमान्य परंपरा है | वंश में मृत असद्गति प्राप्त प्राणियों के द्वारा अनेक प्रकार के शारीरिक , मानसिक पीड़ा के साथ ही संतान परंपरा की वृद्धि हो ना इत्यादि अनेक ऐसे उपद्रव है जिनको विवश होकर के मनुष्य सहता रहता है | यह उपर्युक्त प्रेत बाधाएं अपने कुल में अथवा अन्य कुल में उत्पन्न असद्गति प्राप्त प्रेतों के द्वारा की गई होती है | यहां पर यह आवश्यक नहीं है यह प्रेत अपने ही कुल के हों | अन्य जाति वंश परंपरा में उत्पन्न हुए जीव भी जिनसे द्वेष - प्रीति तथा धन-धान्य आदि का संबंध रहा हो वह भी भूत-प्रेत , पिशाच आदि योनियों को प्राप्त होकर के उपर्युक्त उपद्रवों को करते हैं | इस प्रकार पीड़ा पहुंचाने वाले भूत प्रेत आदि के रूप में होकर सात्विक , राजस तथा तामस के रूप में द्युलोक , अंतरिक्ष तथा पृथ्वीलोक में अतृप्त होकर भ्रमण करते रहते हैं | उनमें सतोगुण प्रधान प्रेत विष्णुमय , रजोगुण प्रधान प्रेत ब्रह्ममय एवं तमोगुण प्रधान प्रेत रुद्रमय कहलाते हैं | त्रिपिंडी श्राद्ध के माध्यम से इन्हें उत्तम लोग प्राप्त कराने की विधि है | त्रिपिंडी श्राद्ध के लिए मुख्य रूप से काशी में पिशाचमोचन तीर्थ , गया में प्रेतशिला तीर्थ तथा अन्यान्य तीर्थ स्थल उपयुक्त होते हैं | इसके अतिरिक्त किसी भी पुण्य सलिला नदी अथवा सरोवर के तट पर इसे संपन्न किया जाता है | यदि यह स्थान भी सुगमता से सुलभ न हो तो यह श्राद्ध शिवालय , तुलसी अथवा पीपल के वृक्ष के समीप किया जा सकता है |*


*आज के आधुनिक युग में जहां मनुष्य अपने नित्य कर्म को भूलता चला जा रहा है वहीं वह कुछ मानना भी नहीं चाह रहा है , जिसके परिणामस्वरूप देवताओं , ऋषियों एवं पितरों के द्वारा उनको अनेकों कष्ट भी प्राप्त हो रहे हैं | यथासमय पितरों को तर्पण श्राद्ध आदि न करने वाले प्राय: यह कहते हैं कि हमने तो अपने पिताजी का गया श्राद्ध कर दिया है उसके बाद फिर हमारी कुंडली में पितृदोष क्यों है ? हमको त्रिपिंडी श्राद्ध कराने की क्या आवश्यकता है ? हमारे पितर प्रेत योनि में कैसे जा सकते हैं ? ऐसे सभी लोगों को मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि जिन पितरों के किसी कारणवश अंतिम संस्कार एवं उसके बाद के कृत्य विधि विधान के साथ नहीं हो पाते हैं तथा जिन पितरों को लगातार तीन वर्षों तक तर्पण एवं श्राद्ध आदि नहीं प्राप्त होता है वही पितर प्रेत योनि में चले जाते हैं | इसके अतिरिक्त यदि किसी ने किसी की जमीन पर कब्जा कर लिया है , आपके पूर्वजों ने किसी की हत्या कर दी है या आपके द्वारा जिसे बहुत प्रेम दिया जा रहा है ऐसे मनुष्य भी जब मृत्यु को प्राप्त होते हैं तो उनकी आत्मा अतृप्त होती है और वह प्रेत योनि को प्राप्त करके आपके आसपास ही रहते हुए आपकी क्षति करते रहते हैं | ऐसी पीड़ा से पीड़ित मनुष्य को त्रिपिंडी श्राद्ध करके अतृप्त आत्माओं (न तो जिनके कुल का पता होता है ना ही गोत्र का पता होता है ) को सद्गति प्राप्त कराके पितृदोष प्रेत दोष से मुक्ति पाने का उपयोग करना चाहिए | त्रिपिंडी श्राद्ध के क्रम में किसी नदी या सरोवर में जाकर के स्नान करके पितरों का तर्पण , ऋषि तर्पण देव तर्पण करने के बाद भगवान शालिग्राम का विधिवत पूजन करें , उसके बाद त्रिपिंडी श्राद्ध का प्रतिज्ञा संकल्प करके ब्रह्मा विष्णु एवं रूद्र कलश की स्थापना करके उसपर प्रेत मूर्तियों की प्रतिष्ठा करके उनका विधिवत पूजन करें | तदन्तर अतृप्त प्रेतों के लिए जौ , चावल एवं काले तिल का पिंड बनाकर के पिंडदान करें | सतोगुणी प्रेत के लिए बिजौरा निंबू , रजोगुणी प्रेत के लिए जंभीर फल तथा तामस प्रेतों के लिए खजूर के फल के साथ अर्घ्य दिया जाता है | वैदिक मंत्रों के द्वारा भगवान शालग्राम की मूर्ति एवं प्रेत मूर्तियों का तर्पण होता है | इस प्रकार विधि विधान के साथ त्रिपिंडी श्राद्ध करने से मनुष्य के ज्ञाताज्ञात पितर उत्तम लोक को प्राप्त करते हैं |*


*सनातन धर्म में समय-समय पर उत्पन्न हुए अनेक व्यवधानों के लिए उपाय भी बताये गये हैं आवश्यकता हैं इन्हें समझने की |*

अगला लेख: संतान सप्तमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2019
*दान की परिभाषा:-----**द्विहेतु षड्धिष्ठानाम षडंगम च द्विपाक्युक् !* *चतुष्प्रकारं त्रिविधिम त्रिनाशम दान्मुच्याते !!**अर्थात :-- “दान के दो हेतु, छः अधिष्ठान, छः अंग, दो प्रकार के परिणाम (फल), चार प्रकार, तीन भेद और तीन विनाश साधन हैं, ऐसा कहा जाता है ।”**👉 दान के दो हेतु हैं :--- दान का थोडा होना
16 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
*हमारा भारत देश एवं उसकी संस्कृति इतनी दिव्य एवं अलौकिक है यहां नित्य कोई ना कोई पर्व , कोई न कोई व्रत मनाया कि जाता रहता है | हमारे ऋषि - महर्षियों ने मात्र के कल्याण के लिए जीवन के सभी क्षेत्रों में इतने विधान बता दिये हैं कि शायद ही कोई ऐसा दिन हो जिस दिन कोई व्रत - उपवास , पर्व - त्यौहार ना हो
05 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
27 सितम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🔴 *आज का सांध्य संदेश* 🔴🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *संसार में मनुष्य सहित जितने भी जीव हैं सब अपने सारे क्रिया कलाप स्वार्थवश ही करते हैं | तुलसीदास जी ने तो अपने मानस के माध्यम से इस संसार से ऊपर उठकर देवत
27 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मनुष्य की अंतिम क्रिया से लेकर की श्राद्ध आदि करने के विषय में विस्तृत दिशा निर्देश दिया गया है | प्रायः यह सुना जाता है पुत्र के ना होने पर पितरों का श्राद्ध तर्पण या फिर अंत्येष्टि क्रिया कौन कर सकता है ? या किसे करना चाहिए ?? इस विषय पर हमारे धर्म ग्रंथों में विस्तृत व्याख्या दी ह
16 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म ने मानव जीवन में आने वाली प्राय: सभी समस्याओं का निराकरण बताने करने का प्रयास अपने विधानों के माध्यम से किया है | नि:संतान दम्पत्ति या सुसंस्कृत , सदाचारी सन्तति की प्राप्ति के लिए "पयोव्रत" का विधान हमारे शास्त्रों में बताया गया है | दैत्यराजा बलि के आक्रमण से देवता स्वर्ग से पलायन करके
10 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*इस संपूर्ण सृष्टि में आदिकाल से लेकर आज तक अनेकों विद्वान हुए हैं जिनकी विद्वता का लोहा संपूर्ण सृष्टि ने माना है | अपनी विद्वता से संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने वाले हमारे महापुरुष पूर्वजों ने आजकल की तरह पुस्तकीय ज्ञान तो नहीं प्राप्त किया था परंतु उनकी विद्वता उनके लेखों एवं साहित्य से प्रस्फ
20 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
*भारतीय संस्कृति में जन जन का यह अटूट विश्वास है कि मृत्यु के पश्चात जीवन समाप्त नहीं होता | यहां जीवन को एक कड़ी के रूप में माना गया है जिसमें मृत्यु भी एक कड़ी है | प्राय: मृत व्यक्ति के संबंध में यह कामना की जाती है कि अगले जन्म में वह सुसंस्कारवान तथा ज्ञानी बने | इस निमित्त जो कर्मकांड संपन्न
23 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x