त्यौहार के नाम पर मुस्लिम मासूम बच्चों पर क्यों चलाई जाती है तलवार?

18 सितम्बर 2019   |  स्नेहा दुबे   (461 बार पढ़ा जा चुका है)

त्यौहार के नाम पर मुस्लिम मासूम बच्चों पर क्यों चलाई जाती है तलवार?

दुनिया में बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं जो हर किसी के लिए समझना मुश्किल होता है। हर धर्म की अपनी बातें और कहानियां हैं फिर वो हिंदू हो, मुस्लिम हों या फिर कोई भी लेकिन धर्म को लेकर उनकी कहानियां अलग-अलग हैं। इसी तरह इस्लाम धर्म के शिया लोगों द्वारा मनाया जाने वाला खास पर्व मुहर्रम क्या सच में कोई पर्व है? एक ऐसा समय जिसमें लोग खुद को खून से लथपथ कर देते हैं और अपने हुसैन को याद करते हैं तो ये कोई पर्व तो नहीं हो सकता क्योंकि त्यौहार का मतलब ही खुशी होती है। यहां हम आपको एक ऐसी बात बताने जा रहे हैं जो मुस्लिम धर्म के मासूम बच्चों खासकर लड़कों को सहनी होती है। ऐसा मुहर्रम के दौरान होता है जब मासूम बच्चों को तलवार की नोक पर रखकर अपने इस रीत को पूरा किया जाता है।


मुस्लिम मासूम बच्चों के साथ क्या होता है?


मुहर्रम

इराक की राजधानी बगदाद से करीब 100 किलोमीटर दूर उत्तर-पूर्व में एक छोटा सा कस्बा है जिसका नाम कर्बला है। यहां पर तारीख-ए-इस्लाम की एक भयंकर जंग छड़ गई थी, इसमें इस्लाम का पूरा इतिहास ही बदल गया था। ये वही कर्बला है जिसके नाम के बने स्थान पर लोग एकट्ठा होकर मुहर्रम मनाते हैं। हिजरी संवत के पहले माह मुहर्रम की 10 तारीख को हजरत मुहम्मद साहब के छोटे नवासे इमाम हुसैन यजीद की फौज से लड़ते हुए शहीद हो गए थे। इस दिन को यौम आशुरा के नाम से भी इस्लामिक लोग जानते हैं। मुहर्रम मुस्लिम का कोई त्यौहार नहीं होता बल्कि अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक माना जाता है। यह दिन पैगम्बर मोहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली की मौत की याद में मनाया जाता है। उन्हें याद करते हुए मुस्लिम लोग मातम मनाते हैं और उनका धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने इस्लाम के लिए खुद को कुर्बान कर दिया।


मुहर्रम

हजारों साल से सिया उपासक उनकी याद में एक बड़ी संख्या में उपस्थित होकर पैगम्बर मोहम्मद के पोते हुसैन इब्न अली को याद करके उनकी मृत्यु पर शोक प्रकट करते हैं। अफगानिस्तान के इस शहर में शोक व्यक्त करने का तरीका ही कुछ अलग तरह से होता है। यहां के उपासक इस्लामिक कैलेंडर में पहले महीने के दसवें दिन में आशूरा के दिन अपने शरीर का रक्त निकालकर अपना दुख व्यक्त करते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं यहां पर खून की होली खेलने जैसा माहौल भी बनता है लोग अपने बच्चों के सिर पर तलवार चलाकर खून निकालने से भी नहीं चूकते हैं। एक बार तो लेबनान में एक शिया मुस्लिम ने असुरों की याद में अपने सिर को तलवार से ही काट दिया था। 10 अक्टूबर 680AD का दिन मातम मनाने और धर्म की रक्षा करने वाले हजरत इमाम हुसैन की शहादत को याद दिलाने का दिन माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि 10नें मोहर्रम के दिन इस्लाम की रक्षा के लिए हजरत इमाम हुसैन ने अपने प्राण त्यागे थे। वैसे तो मुहर्रम इस्लामी कैलेंडर का महीना होता है लेकिन आमतौर पर लोग 10वें मोहर्रम को सबसे ज्यादा तरीजह देते हैं। इस दिन हर साल अफगानिस्तान, ईरान, इराक, लेबनान, बहरीन और पाकिस्तान में एक दिन का राष्ट्रीय अवकाश होता है और वे अपनी हर खुशी का त्याग कर देते हैं।


क्या होता है आशुरा का महत्व?


मुहर्रम

आशुरा मुहर्रम के महीने में मुसलमान शोक मनाने को कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि बादशाह यजीद ने अपनी सत्ता कायम करने के लिए हुसैन और उनके परिवार वालों पर काफी जुल्म किया था। 10 मुहर्रम को इन्हें बेदर्दी से मौत के घाट उतार दिया गया था। हुसैन का मकसद खुद को मिटाकर इस्लाम और इंसानियत को जिंदा रखना था। अधर्म पर धर्म की जीत हासिल करने वाले पैगंबर को इतिहास कभी भी भूल नहीं सकता और शिया लोगों के लिए उनसे अच्छा आजतक कोई नहीं हुआ है।

त्यौहार के नाम पर मुस्लिम मासूम बच्चों पर क्यों चलाई जाती है तलवार?

अगला लेख: गणपति पूजन में बिना शादी के बच्चे और गर्लफ्रेंड को लेकर अर्जुन पहुंचे एक्स पत्नी के घर!



शोभा भारद्वाज
25 सितम्बर 2019

वर्षों ईरान में रही हूँ ें मातमी दिनों शिया हंसना भी पसंद नहीं करते हैं

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 सितम्बर 2019
यह सोचना स्वाभाविक है कि बहुमत से चुनाव जीतनेवाला व्यक्ति बाकी लोगों की तुलना में अधिक लोकप्रियहोगा। तब यहस्वाभाविक है कि मैंआश्चर्यचकित हो जाऊं जब इस व्यक्ति को राष्ट्रीय मीडिया में अधिकतम बुरा-भला कहा जाए।दूसरी ओर, दुनिया भर में होने वाली उसकी प्रशंसा भी मुझे आश्च
14 सितम्बर 2019
11 सितम्बर 2019
पुर्तगाली कप्तान क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने 93 गोल करने के बाद अपनी अंतरराष्ट्रीय बढ़त बना ली. उन्होंने मंगलवार को यूरो 2020 के क्वालीफाइंग में पुर्तगाल के लिए चार ज्यादा गोल करके लिथुआनिया के मुकाबले 5-1 के स्कोर को प्राप्त कर पुरुषों के सर्वकालिक अंतरराष्ट्रीय गोल रिकॉर्
11 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
भारत का सबसे लोकप्रिय क्विज शो 'कौन बनेगा करोड़पति' इन दिनों छोटे पर्दे की शोभा बना हुआ है। देश के ज्यादातर लोग इस शो को अपना ज्ञान बढ़ाने के लिए देखते हैं और इससे बहुत कुछ सीखते हैं। इसी शो में दो कंटेस्टेंट्स करोड़पति बन गए हैं और ये उनके शो के लिए गर्व की बात है क्योंकि इसमें से एक महिला हैं। मगर
23 सितम्बर 2019
24 सितम्बर 2019
आजकल चालान को लेकर खूब चर्चाएं हर तरफ हो रही हैं और हो भी क्यों ना भारतीय इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है जब हेलमेट, आरसी या गाड़ी का कोई पेपर नहीं होने पर लंबा-चौड़ा चालान काटा जा रहा है। इसकी शुरुआत 5 हजार से लेकर एक लाख तक है और इस अमाउंट के अंदर स्कूटी से लेकर ट्रक तक शामिल हैं। ऐसे कई मामले सामन
24 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
जबसे नोटबंदी हुई है तबसे एक नहीं बल्कि कई ऐसे नेता सामने आए हैं जिनके पास अरबों-खरबों की प्रॉपर्टी थी। पिछले कई समय से कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार इनकम टैक्स के घेरे में फंसे हुए हैं और अब उनकी बेटी भी इस घेरे में आ गई है। डीके शिवकुमार ने अपनी बेटी ऐश्वर्या शिवकुमर के नाम से कई कंपनियों में अलग-अलग
12 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
Old is Gold...इस बारे में तो आपने सुना ही होगा ? पुरानी चीजों की कद्र एक समय के बाद होती है। 90 के दशक में बड़े होने वाले सभी बच्चों में एक खास तरह का उत्साह रहता था। उस दौर में बच्चों के पास क्रिएटिविटी करने के बहुत मौके हुआ करते थे। 90 के दशक के बच्चों को खाली समय में बहुत कुछ करने को होता था, जिस
05 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
Mahatma Gandhi Biography- भारत के राष्ट्रपिता के रूप में पहचाने जाने वाले महात्मा गांधी का दर्जा आज भी बहुत ऊंचा है। भारतीय मुद्रा हो या फिर कोई सड़क का नाम हर जगह महात्मा गांधी को आज भी सम्मान दिया जाता है। उनकी तस्वीरें सरकारी भवनों में नजर आती हैं और इसके अलावा 15
16 सितम्बर 2019
06 सितम्बर 2019
मोदी सरकार के कार्यकाल को 100 दिन हो गए हैं और इन दिनो में या फिर अपने पहले कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए। अब इसमें कुछ लोगों को ये नामंजूर था तो कुछ ने सहमती दी। एबीपी न्यूज ने अगस्त के आखिरी हफ्ते में 11,308 लोगों के साथ एक सर्वे किया जिसमे
06 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
दुनिया में बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं जो आम नहीं है और अक्सर उन चीजों के पीछे कोई ना कोई खास मकसद भी होता ही है। आपने फिल्मों में ऐसी कई कहानियां देखी होंगी जिसमें एक जानवर अपने मालिक या अपने किसी खास के साथ गलत हुए का बदला लेने के लिए उस कातिल का पीछा करता ही है। मगर असल में ऐसा शायद ही आपने कहीं स
03 सितम्बर 2019
06 सितम्बर 2019
मोदी सरकार के कार्यकाल को 100 दिन हो गए हैं और इन दिनो में या फिर अपने पहले कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए। अब इसमें कुछ लोगों को ये नामंजूर था तो कुछ ने सहमती दी। एबीपी न्यूज ने अगस्त के आखिरी हफ्ते में 11,308 लोगों के साथ एक सर्वे किया जिसमे
06 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
दुनिया में बहुत सी ऐसी चीजें होती हैं जो आम नहीं है और अक्सर उन चीजों के पीछे कोई ना कोई खास मकसद भी होता ही है। आपने फिल्मों में ऐसी कई कहानियां देखी होंगी जिसमें एक जानवर अपने मालिक या अपने किसी खास के साथ गलत हुए का बदला लेने के लिए उस कातिल का पीछा करता ही है। मगर असल में ऐसा शायद ही आपने कहीं स
03 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
Old is Gold...इस बारे में तो आपने सुना ही होगा ? पुरानी चीजों की कद्र एक समय के बाद होती है। 90 के दशक में बड़े होने वाले सभी बच्चों में एक खास तरह का उत्साह रहता था। उस दौर में बच्चों के पास क्रिएटिविटी करने के बहुत मौके हुआ करते थे। 90 के दशक के बच्चों को खाली समय में बहुत कुछ करने को होता था, जिस
05 सितम्बर 2019
03 सितम्बर 2019
सोशल मीडिया पर बहुत से लोग उसे अपने टाइमपास के लिए इस्तेमाल करते हैं। फेसबुक हो या फिर कोई और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ज्यादातर लोग यहां पर दोहरे चेहरे लगाकर ही घूमते हैं। इंसान अपने मन को खुश रखने के चक्कर में बहुत से लोगों के साथ खेल जा
03 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x