अज्ञात में उतरना है श्रद्धा

19 सितम्बर 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (5542 बार पढ़ा जा चुका है)

अज्ञात में उतरना है श्रद्धा

श्रद्धा, प्रेम, विश्वास और समर्पण

आज बात करते हैं श्रद्धा की – प्रेम की – विश्वास की – समर्पण की | क्योंकि ये सभी केवल शब्द मात्र नहीं हैं, वरन इनमें बहुत गहरे भाव छिपे हुए हैं | श्रद्धा की ही बात करें तो हमारी समझ से तो अज्ञात में उतरने का नाम श्रद्धा होता है | किसी ऐसे के प्रेम में पड़ जाना श्रद्धा होता है जिसके विषय में पूर्ण रूप से कुछ भी ज्ञान न हो और न जानने की कोई इच्छा ही हो और न जाना ही जा सकता हो | कितनी अद्भुत बात है न ? जिससे हमारा कोई परिचय ही नहीं, जिसे हम कभी जान भी नहीं सकते, उसी के प्रति प्रेम उपज गया... उसी के प्रति मन में विश्वास उत्पन्न हो गया और समर्पित हो गए उसके प्रति... वही प्रेम, विश्वास और समर्पण वास्तविक श्रद्धा है... और ये सभी एक दूसरे के पूरक भी हैं... और वहाँ फिर किसी प्रकार के आडम्बर अथवा औपचारिकता के लिए भी कोई स्थान नहीं रह जाता...

सीधी सरल सी बात है, जिसे हम जान गए पूर्ण रूप से उसके तो फिर गुणों और दुर्गुणों दोनों की ही ओर हमारा ध्यान जाएगा | हम भले ही कहते रहें कि किसी के दुर्गुणों से हम पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, क्योंकि हम तो गुणों के पारखी हैं और केवल दूसरे के गुण ही देखते हैं | किन्तु ऐसा सम्भव ही नहीं है | सिक्के के एक पहलू को देखें और दूसरे को अनदेखा कर दें ऐसा भला कभी सम्भव है ? और जब दूसरे पहलू को देखेंगे तो उस पर क्या चित्र उकेरा हुआ है अथवा क्या लिखा हुआ उस पर भी ध्यान अवश्य जाएगा ही | बस वहीं हम उसके असली और नकली की जाँच परख में लग जाते हैं |

यही बात प्रेम और श्रद्धा के विषय में भी सत्य है | यदि किसी को हमने पूर्ण रूप में जान लिया तो उसके प्रत्येक पक्ष पर हमारा ध्यान जाएगा, और फिर हम उसे गुणों और दुर्गुणों के तराजू पर तौलने लगेंगे | और जब इस प्रकार का आकलन आरम्भ हो जाता है तो वहाँ श्रद्धा का प्रश्न ही उत्पन्न नहीं होता, क्योंकि वहाँ तो हम उसकी सत्यता और असत्यता – वास्तविकता और अवास्तविकता के फेर में पड़ गए... वहाँ मित्रता हो सकती है, किन्तु मित्र के प्रति श्रद्धानत हों यह आवश्यक नहीं...

अस्तु, श्रद्धा उसी के प्रति हो सकती है जिसका हमें पूर्ण ज्ञान न हो | और वही समर्पण का भाव होता है | ये समर्पण – श्रद्धा – प्रेम – उस व्यक्ति अथवा वस्तु के प्रति भी हो सकता है जिसे हम पूर्ण रूप से जानते नहीं हैं | प्रकृति के प्रति भी हो सकता है – क्योंकि प्रकृति स्वयं में कितने रहस्य समेटे हुए है इसे आज तक कोई भी पूर्ण रूप से नहीं जान सका है | हमारे वैज्ञानिक भी अभी शोधकार्यों में ही लगे हुए हैं | समस्त वैदिक ऋचाएँ प्रकृति के अनसुलझे रहस्यों की साक्षी हैं | प्रकृति के रहस्यों से – उसके परिवर्तनशील रूपों से - हमारे ऋषि मुनि इतने अधिक आश्चर्यचकित हो गए - और कदाचित भयभीत भी हो गए - कि श्रद्धानत होकर उनके कण्ठों से प्रकृति के सम्मान में ऋचाएँ प्रस्फुटित हो उठीं और बड़े बड़े सूक्त उन्होंने रच दिए |

और ये श्रद्धा हमारी अपनी आत्मा – जिसे हम परमात्मतत्व अथवा परमात्मा भी कहते हैं – के प्रति भी हो सकती है – क्योंकि जिस दिन आत्मा से साक्षात्कार हो गया उस दिन फिर मोक्ष की – निर्वाण की स्थिति प्राप्त हो जाएगी... उस दिन हम उसी में लीन हो जाएँगे... क्योंकि वही तो हमारा ध्येय है... जब ध्येय को प्राप्त कर लिया... एकाकार हो गए उसके साथ... तो श्रद्धा – प्रेम – विश्वास – समर्पण – सारे शब्द निरर्थक हो जाएँगे – सारे भाव अभाव बन जाएँगे – क्योंकि तद्रूप हो जाना अर्थात पूर्ण रूप से उसका ज्ञान हो जाना...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/09/19/shraddha-love-faith-and-devotion/

अगला लेख: २३ से २९ सितम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल



रेणु
19 सितम्बर 2019

अज्ञात में उतरना है श्रद्धा
शीर्षक ही इतना प्यारा है पूर्णिमा जी | बहुत ज्ञानवर्धक लिख आपने | सस्नेह

आभार आपका रेणु जी इतनी अच्छी टिप्पणी के लिए. ..

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2019
सूर्य का कन्या में गोचरकल यानी 17 सितम्बर, आश्विन कृष्ण तृतीया को दोपहर एक बजकर तीनमिनट के लगभग विष्टि करण और ध्रुव योग में सूर्यदेव अपनीस्वयं की राशि सिंह से निकल कर कन्या राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | अपने इस गोचरके समय सूर्य उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र पर होंगे,जहाँ से 27 सितम्बर को हस्त नक्षत्र और ग्
16 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
भारत के सबसे मजबूत राजनीतिक परिवार में 'गांधी परिवार' का नाम भी आता है। आज भले लोग गांधी परिवार का मजाक बनाने लगे हों लेकिन इनकी शुरुआत जब हुई तो एक खास बात रहती थी। इंदिरा गांधी एक दमदार शख्सियत थीं और उनके बेटे राजीव गांधी ने भी लोगों के दिल में खास जगह बनाई थी लेकिन उनके बेटे राहुल गांधी तो आज की
12 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
Old is Gold...इस बारे में तो आपने सुना ही होगा ? पुरानी चीजों की कद्र एक समय के बाद होती है। 90 के दशक में बड़े होने वाले सभी बच्चों में एक खास तरह का उत्साह रहता था। उस दौर में बच्चों के पास क्रिएटिविटी करने के बहुत मौके हुआ करते थे। 90 के दशक के बच्चों को खाली समय में बहुत कुछ करने को होता था, जिस
05 सितम्बर 2019
22 सितम्बर 2019
23 से 29सितम्बर 2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
22 सितम्बर 2019
06 सितम्बर 2019
मोदी सरकार के कार्यकाल को 100 दिन हो गए हैं और इन दिनो में या फिर अपने पहले कार्यकाल में पीएम नरेंद्र मोदी ने कई ऐतिहासिक फैसले लिए। अब इसमें कुछ लोगों को ये नामंजूर था तो कुछ ने सहमती दी। एबीपी न्यूज ने अगस्त के आखिरी हफ्ते में 11,308 लोगों के साथ एक सर्वे किया जिसमे
06 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
शरद् नवरात्रि की तिथियाँ शनिवार 28 सितम्बर - आश्विन कृष्ण अमावस्या – महालयाके नाम से भी जिसे जाना जाता है - हम सभी अपने समस्त पितृगणों को श्रद्धापूर्वकविदा करेंगे – इस निवेदन के साथ कि हमारा आतिथ्य स्वीकार करने इसी प्रकार आतेरहेंगे और अपना आशीर्वाद हम पर सदा बनाए रखेंगे | उसके दूसरे दिन यानी रविवार
26 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
अंत‌िम संस्कार का शास्‍त्रों में बहुत वर्णन द‌िया गया है क्योंक‌ि इसी से व्यक्त‌ि को परलोक में उत्तम स्थान और अगले जन्म में उत्तम कुल पर‌िवार में जन्म और सुख प्राप्त होता है। गरुड़ पुराण में बताया गया है क‌ि ज‌िस व्यक्त‌ि का अंत‌िम संस्कार नहीं होता है उनकी आत्मा मृत्‍यु के बाद प्रेत बनकर भटकती है औ
13 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
शास्त्रों में मनुष्य के लिए तीन ऋण कहे गये हैं- देव ऋण, ऋषि ऋण व पितृ ऋण। इनमें से पितृ ऋण को श्राद्ध करके उतारना आवश्यक है। क्योंकि जिन माता-पिता ने हमारी आयु, आरोग्यता तथा सुख सौभाग्य की अभिवृद्धि के लिए अनेक प्रयास किये, उनके ऋण से मुक्त न होने पर हमारा जन्म लेना निरर्थक होता है। इसे उतारने में क
13 सितम्बर 2019
07 सितम्बर 2019
शुक्र का कन्या में गोचर मंगलवार नौ सितम्बर भाद्रपद शुक्लद्वादशी को 25:41 (अर्द्धरात्र्योत्तर एक बजकर इकतालीस मिनट के लगभग) बव करण और शोभनयोग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख, कला, शिल्प, सौन्दर्य, बौद्धिकता, राजनीतितथा समाज में मान प्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारकशुक्र शत्रु ग्रह स
07 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धासुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी कोपिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधीपाठकों के लिए समर्पित हैं...भरी भीड़ में मन बेचारा खड़ा हुआ कुछ
16 सितम्बर 2019
08 सितम्बर 2019
9 से 15सितम्बर 2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आ
08 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
जबसे नोटबंदी हुई है तबसे एक नहीं बल्कि कई ऐसे नेता सामने आए हैं जिनके पास अरबों-खरबों की प्रॉपर्टी थी। पिछले कई समय से कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार इनकम टैक्स के घेरे में फंसे हुए हैं और अब उनकी बेटी भी इस घेरे में आ गई है। डीके शिवकुमार ने अपनी बेटी ऐश्वर्या शिवकुमर के नाम से कई कंपनियों में अलग-अलग
12 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x