व्यवहारिक ज्ञान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यवहारिक ज्ञान :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संपूर्ण सृष्टि में आदिकाल से लेकर आज तक अनेकों विद्वान हुए हैं जिनकी विद्वता का लोहा संपूर्ण सृष्टि ने माना है | अपनी विद्वता से संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने वाले हमारे महापुरुष पूर्वजों ने आजकल की तरह पुस्तकीय ज्ञान तो नहीं प्राप्त किया था परंतु उनकी विद्वता उनके लेखों एवं साहित्य से प्रस्फुटित होती है | कबीरदास , सूरदास , तुलसीदास , मीराबाई आदि ने कितनी पुस्तकें पढ़ी थी ?? यह विचारणीय विषय है | परंतु उनके लिखे साहित्य एवं उनके गाए हुए पद आज भी अपनी अमिट छाप छोड़ते हैं | इन महापुरुषों ने पुस्तकीय ज्ञान की अपेक्षा जगत में व्यावहारिक ज्ञान अधिक प्राप्त किया था | पुस्तकों का भंडार लगा लेने मात्र से यदि विद्वता आने लगती तो शायद उपरोक्त विद्वान कालजयी रचना न कर पाते | पुस्तकीय ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण होता है अनुभव एवं समाज में ऊंच-नीच का ज्ञान होना | जिसके पास समाज का ज्ञान नहीं है , अपने आसपास के वातावरण का अनुभव नहीं है वह सैकड़ों किताबें पढ़ने के बाद विद्वान नहीं हो सकता | आदिकाल में जब मनुष्य इतना शिक्षित नहीं था तब ऐसे ऐसे ग्रंथ लिखे गए जिनका कोई जवाब ही नहीं , उन महापुरुषों को ज्ञान कहां से प्राप्त हुआ ? उनके ज्ञान का एक ही आधार था सद्गुरु से मिली शिक्षा एवं व्यावहारिक ज्ञान | समाज के परिवेश को देखते हुए अपने अनुभव के आधार पर मनुष्य जो कर सकता है वह शायद पुस्तकों को पढ़कर के कदापि नहीं कर सकता , क्योंकि पुस्तकों में विषयवद्ध सामग्री होती है और समाज में प्रतिपल नई घटनाएं घटा करती हैं जिसका अनुभव मनुष्य एकत्रित करता रहता है | जिसने सामाजिक परिवेश से परे हटकर पुस्तकें पढ़ने में ही सारा जीवन व्यतीत कर दिया उसको डिग्रियां भले मिल सकती हैं परंतु वह विद्वता कभी नहीं आ सकती जिसके कारण मनुष्य को विद्वान कहा जाता है |*


*आज के युग में प्राय: युवा व्यावहारिक ज्ञान प्राप्त करने की बजाय मोटी-मोटी पुस्तकें पढ़ते रहते हैं | यदि वे परम लक्ष्य की प्राप्ति करना चाहते हैं तो उन्हें विद्या के वास्तविक उद्देश्य को समझना होगा | शास्त्र या ग्रंथ लक्ष्य के निकट पहुंचने का मार्ग भर बताते हैं | एक बार यदि आप सही मार्ग जान लेते हैं, तो फिर शास्त्रों-ग्रंथों की जरूरत न के बराबर रह जाती है | तदुपरांत व्यावहारिक ज्ञान ही काम आता है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का अनुभव है कि जिस प्रकार आम को खाए बिना रखे रहने से उसका स्वाद नहीं पता चलता है उसी प्रकार शिक्षा और ज्ञान का व्यवहार किए बिना उसका कोई उपयोग नहीं है | पठन-पाठन और वाचन का ज्ञान चाहे जितना अधिक क्यों ना हो वह अंत में पुस्तक में ही रह जाता है | इसकी अपेक्षा जो ज्ञान हमें जीवन की प्रत्यक्ष बातों से अनुभव के माध्यम से मिलता है वही सच्चा ज्ञान है , क्योंकि एक कहावत कही जाती है कि "रत्ती भर ऐसा ज्ञान सेर भर पण्डिताई से बहुत अच्छा समझा जाता है" कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य संस्कृत , अरबी , फारसी , हिंदी अथवा संसार की कोई भी भाषा के व्याकरणों का जीवन भर विन्यास क्यों न करता रहे परंतु उसकी कार्यशीलता की वृद्धि नहीं हो सकती है , इसी प्रकार मौलिकता तथा नूतनता तर्कशास्त्र के हजारों पृष्ठों को पढ़ने से नहीं आती है | इन सब विद्याओं के लिए प्रत्यक्ष व्यवहार एवं अनुभव का होना बहुत आवश्यक है | प्रत्येक मनुष्य को पुस्तकीय ज्ञान तो प्राप्त करना ही चाहिए परंतु इसके साथ ही सामाजिकता एवं अपने आसपास के परिवेश के अनुसार व्यावहारिक ज्ञान एवं जीवन का अनुभव प्राप्त करना चाहिए , क्योंकि इसी आधार पर मनुष्य आने वाली पीढ़ियों का मार्गदर्शन कर सकता है | यही मनुष्य की विद्वता कही जा सकती है जो कि उसके व्यवहार से परिलक्षित होती है | हमारे बुजुर्ग आज की अपेक्षा भले ही कम पढ़े लिखे हैं परंतु जहां सारी विद्या विफल हो जाती है वहां उनका अनुभव कार्य को संपन्न कर देता है | इसलिए अनुभव एवं व्यावहारिक ज्ञान का होना परम आवश्यक है |*


*पढ़ लिख कर मनुष्य उच्च कोटि की शिक्षा तो प्राप्त कर लेता है परंतु उस विद्या का प्रयोग कैसे किया जाएगा ? कहां पर क्या बोलना है ? कहां पर क्या व्यवहार करना है ? यदि इसका ज्ञान नहीं है तो उसकी उच्च कोटि की शिक्षा व्यर्थ ही है |*

अगला लेख: त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 सितम्बर 2019
*मानव जीवन ही नहीं सृष्टि के सभी अंग - उपांगों मे अनुशासन का विशेष महत्व है | समस्त प्रकृति एक अनुशासन में बंधकर चलती है इसलिए उसके किसी भी क्रियाकलापों में बाधा नहीं आती है | दिन – रात नियमित रूप से आते रहते हैं इससे स्पष्ट है कि अनुशासन के द्वारा ही जीवन को सार्थक बनाया जा सकता है | विचार कीजिए कि
13 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुयायी अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए धर्म और शास्त्रों के अनुसार हविष्ययुक्त पिंड को प्रदान करते हैं यही कर्म श्राद्ध कहलाता है | जब मनुष्य अपने पितरों के लिए श्रद्धा करते हैं तो इससे उनके पितरों को शांति मिलती हैं और वे सदैव प्रसन्न रहते हुए दीर्घायु, प्रसिद्धि एवं कुसलता प्
16 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन ग्रंथों में एक कथानक पढ़ने को मिलता है जो समुद्र मंथन के नाम से जाना जाता है | देवताओं एवं दैत्यों ने अमृत प्राप्त करने के लिए मन्दाराचल को मथानी एवं वासुकि नाग को रस्सी बनाकर समुद्र का मन्थन किया | अथक परिश्रम से मन्थन करने के बाद समुद्र से अमृत निकला परंतु अमृत निकलने के पहले समुद्र स
13 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x