महालक्ष्मी पूजा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (412 बार पढ़ा जा चुका है)

महालक्ष्मी पूजा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना भी असंभव ही है | हमारे सनातन धर्म के अनुसार वर्ष भर में शायद ही कोई ऐसा दिन हो जो कि मनुष्यों के लिए एक पर्व या त्यौहार के रूप में ना मनाया जाता हो | अनेक व्रत एवं त्यौहार तो ऐसे हैं जिनको आम जनमानस जान ही नहीं पाता है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्ल पक्ष की अष्टमी से प्रारंभ हुआ १६ दिवसीय महालक्ष्मी का व्रत भी है , जिसका समापन अाश्विन कृष्ण पक्ष की अष्टमी अर्थात पितृपक्ष की अष्टमी को होता है | इन १६ दिनों में साधक अन्न का त्याग करके फलाहार रहते हुए महालक्ष्मी को प्रसन्न करने का प्रयास करता है | इस व्रत में विशेष रुप से लाल धागे में १६ गांठ लगाकर पहनने का विधान है | १६ दिन का व्रत रह पाना यदि संभव ना हो सके तो मनुष्य प्रथम दिन आठवें दिन एवं अंतिम १६वें दिन का व्रत अवश्य करें , जिससे उसे संपूर्ण व्रत का फल प्राप्त हो जाता है | सनातन धर्म की यही महानता है कि प्रत्येक व्रत एवं पर्व को सरल से सरलतम विधि से समझाया एवं उसका विधान बनाया गया है | इसी बीच सप्तमी से लेकर नवमी तक (तीन दिवसीय) चलने वाला जीवित्पुत्रिका व्रत भी महालक्ष्मी व्रत के समापन के अवसर पर किया जाता है | अश्विन कृष्ण पक्ष की सप्तमी से जीवित्पुत्रिका (जिउतिया) व्रत प्रारम्भ तो हो जाता है परंतु इसका मुख्य व्रत अष्टमी को ही माना जाता है और इसी दिन विधिपूर्वक महालक्ष्मी का पूजन करने का भी विधान है | यह व्रत करने से भगवान श्री हरि विष्णु तो प्रसन्न होते ही हैं साथ ही धन - धान्य एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है |*


*आज का समाज एवं परिवेश इतना आधुनिक होता जा रहा है की इस आधुनिकता की अंधी दौड़ में हम अपने सनातन धर्म की व्यापकता , विधान , व्रत एवं पर्वों को भूलते चले जा रहे हैं | संसार में समस्याएं बहुत हैं मनुष्य इन समस्याओं के निराकरण के लिए अनेक उपाय किया करता है | कभी-कभी तो मनुष्य एक ही समस्या के लिए कई बार उपाय बदलता रहता है परंतु उसकी समस्या जस की तस बनी रहती है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि कोई भी ऐसी समस्या नहीं है जिसका समाधान हमारे सनातन धर्म में ना बताया गया हो | आज यदि मनुष्य इधर से उधर भटक रहा है उसका एक ही कारण है कि वह आधुनिकता की चकाचौंध में सनातन धर्म के साहित्यों का अध्ययन नहीं कर पा रहा है | यह अकाट्य सत्य है कि संसार की सभी समस्याओं का निदान हमारे महापुरुषों ने अनेकों व्रत एवं अनुष्ठानों के माध्यम से करने का विधान बताया है | परंतु यह अनुष्ठान या इन व्रतों का पालन हम तभी कर सकते हैं जब हमें इनके विषय में ज्ञान होगा | ज्ञान तभी हो सकता है जब हम या तो अपने बुजुर्गों से नित्य चर्चा करते हुए उनका ज्ञान प्राप्त करें या फिर अपने सनातन साहित्य का अध्ययन करें | यह दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि इन दोनों मार्गों में से आज के आधुनिक मनुष्य के पास एक भी मार्ग का अनुसरण करने का समय नहीं बचा है | यही कारण है कि आज हम सर्वगुण संपन्न होने के बाद भी स्वयं को समस्याओं से घिरा मान करके अन्य साधनों की ओर उन्मुख हो रहे हैं |*


*सनातन धर्म में बताए गए अनेक व्रत और पर्व आज की युवा पीढ़ी को पता ही नहीं है | इन्हीं विधानों में एक विधान है महालक्ष्मी का व्रत जो कि १६ दिन तक अनवरत व्रत करके मनाया जाता है | अपने सनातन के व्रत एवं पर्वों को जानने की परम आवश्यकता है |*

अगला लेख: त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 सितम्बर 2019
*इस धरती पर मनुष्य को अनेक मूल्यवान संपदायें प्राप्त हुई हैं | किसी को पैतृक तो किसी ने अपने बाहुबल से यह अमूल्य संपदायें अपने नाम की हैं | संसार में एक से बढ़कर एक मूल्यवान वस्तुएं विद्यमान हैं परंतु इन सबसे ऊपर यदि देखा जाए तो सबसे मूल्यवान समय ही होता है | समय ही मानव जीवन का पर्याय है , मनुष्य क
09 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म ने मानव जीवन में आने वाली प्राय: सभी समस्याओं का निराकरण बताने करने का प्रयास अपने विधानों के माध्यम से किया है | नि:संतान दम्पत्ति या सुसंस्कृत , सदाचारी सन्तति की प्राप्ति के लिए "पयोव्रत" का विधान हमारे शास्त्रों में बताया गया है | दैत्यराजा बलि के आक्रमण से देवता स्वर्ग से पलायन करके
10 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*मानव जीवन ही नहीं सृष्टि के सभी अंग - उपांगों मे अनुशासन का विशेष महत्व है | समस्त प्रकृति एक अनुशासन में बंधकर चलती है इसलिए उसके किसी भी क्रियाकलापों में बाधा नहीं आती है | दिन – रात नियमित रूप से आते रहते हैं इससे स्पष्ट है कि अनुशासन के द्वारा ही जीवन को सार्थक बनाया जा सकता है | विचार कीजिए कि
13 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*हमारे देश भारत में नारी को आरंभ से ही कोमलता , भावकुता , क्षमाशीलता , सहनशीलता की प्रतिमूर्ति माना जाता रहा है पर यही नारी आवश्यकता पड़ने पर रणचंडी बनने से भी परहेज नहीं करती क्योंकि वह जानती है कि यह कोमल भाव मात्र उन्हें सहानुभूति और सम्मान की नजरों से देख सकता है, पर समानांतर खड़ा होने के लिए अपने
30 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
*भारतीय संस्कृति में जन जन का यह अटूट विश्वास है कि मृत्यु के पश्चात जीवन समाप्त नहीं होता | यहां जीवन को एक कड़ी के रूप में माना गया है जिसमें मृत्यु भी एक कड़ी है | प्राय: मृत व्यक्ति के संबंध में यह कामना की जाती है कि अगले जन्म में वह सुसंस्कारवान तथा ज्ञानी बने | इस निमित्त जो कर्मकांड संपन्न
23 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुयायी अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए धर्म और शास्त्रों के अनुसार हविष्ययुक्त पिंड को प्रदान करते हैं यही कर्म श्राद्ध कहलाता है | जब मनुष्य अपने पितरों के लिए श्रद्धा करते हैं तो इससे उनके पितरों को शांति मिलती हैं और वे सदैव प्रसन्न रहते हुए दीर्घायु, प्रसिद्धि एवं कुसलता प्
16 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x