जीवित्पुत्रिका व्रत :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (443 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवित्पुत्रिका व्रत :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में व्रत व त्यौहारों को मनाने का विशेष एक महत्व व एक विशेष उद्देश्य होता है | कुछ व्रत त्यौहार सामाजिक कल्याण से जुड़े होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत व पारिवारिक हितों से | आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में जहां पितर शांति के लिये श्राद्ध पक्ष मनाया जाता है तो वहीं शुक्ल पक्ष के आरंभ होते ही आदिशक्ति पराम्बा जगदम्बा का पूजन पर्व नवरात्र का उत्सव प्रारम्भ होता है , जिसका समापन शुक्ल पक्ष की दशमी को दुर्गा प्रतिमा विसर्जन , दशहरे आदि के रूप में होता है | इस दृष्टि से वैसे तो आश्विन मास की प्रत्येक तिथि बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है लेकिन जब संतान की सुरक्षा , स्वास्थ्य और दीर्घायु की कामना का प्रश्न हो जो कि प्रत्येक मां की इच्छा होती है तो आश्विन मास की कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है | इसका कारण है इस दिन संतान के सुखी , स्वस्थ और दीर्घायु जीवन की कामना पूरी करने हेतु रखा जाने वाला व्रत | इस व्रत को जितिया , जिउतिया या "जीवित्पुत्रिका व्रत" कहा जाता है | यह व्रत वैसे तो आश्विन मास की अष्टमी को रखा जाता है लेकिन इसका उत्सव तीन दिनों का होता है | सप्तमी का दिन नहाई खाय के रूप में मनाया जाता है तो अष्टमी को निर्जला उपवास रखना होता है | व्रत का पारण नवमी के दिन किया जाता है | वहीं अष्टमी को सांय प्रदोषकाल में पुत्रवती स्त्रियां जीमूतवाहन की पूजा करती हैं और व्रत कथा का श्रवण करती हैं | श्रद्धा व सामर्थ्य के अनुसार ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा भी दी जाती है | इस प्रकार संतान के सुखद भविष्य के लिए मातायें तीन दिन का यह कठिन व्रत धारण करती हैं | जिससे कि उनकी संतान का जीवन ऐश्वर्यशाली , सुखी एवं निरोगी हो |*


*आज के व्रत के विषय में प्रायः दो कथाएं प्रचलित हैं | एक प्रसंग तो महाभारत का है जहाँ अश्वत्थामा के द्वारा पाण्डव कुल के विनाश के उद्देश्श्य से किये गये ब्रह्मास्त्र के प्रहार से गर्भ में जल रहे बाल शिशु की रक्षा के लिए उत्तरा ने किया था | दूसरा प्रसंग शालिवाहन के पुत्र जीमूतवाहन से सम्बन्धित है | जीमूतवाहन ने नागवंशी वृद्धा के पुत्र की रक्षा के लिए अपने प्राणों का मोह त्यागकर स्वयं को गरुड़ के भोजन के रूप में प्रस्तुत कर दिया था | उनकी इस उपकार की भावना से गरुड़ बहुत प्रसन्न हुए और जीमूतवाहन को प्राणदान दिया | तभी से मातायें अपने पुत्र की रक्षा के लिए यह कठिन व्रत का पालन करने लगीं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" पुरुष प्रधान समाज एवं उन पुत्रों से पूंछना चाहता हूँ जिन्होंने अपनी माँ को या तो वृद्धाश्रम में छोड़ दिया है या फिर घर के किसी कोने में घुट घुटकर मरने के लिए | जिस माँ ने पुत्रों के लिए समय - समय पर कठिन व्रतों को अपनाया क्या उस पुत्र ने कभी कोई व्रत अपनी मां के लिए भी किया है ?? नारी बहन के रूप में भाई के लिए , पत्नी के रूप में पति के लिए एवं माँ के रूप में पुत्र के लिए समय - समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन करने को तत्पर रहती है ! क्या कभी पुरुषों ने भी बहन , पत्नी या माँ के लिए कोई व्रत किया ?? इसका एक ही उत्तर होगा कि नहीं | क्योंकि जो त्याग एवं अपनत्व की भावना नारी में है वह पुरुष में कभी न रही और न ही होगी | यदि पुरुष प्रधान समाज अपना हित चाहने वाली नारी के लिए कोई व्रत नहीं रह सकता तो कम से कम उनके सम्मान की रक्षा , सुरक्षा एवं संरक्षा का व्रत तो कर ही सकता है ? परंतु यह नारी का ही नहीं अपितु मानव जाति का दुर्भाग्य है कि मनुष्य इस व्रत का पालन भी नहीं कर पा रहा है | परंतु नारी अनेकों झिड़कियां , गालियां एवं तिरस्कार पाने के बाद भी पुरुषों (भाई , पति , पुत्र) के लिए कठिन व्रतों का पालन करती चली आ रही है | ऐसी महान नारियों को कोटिश: प्रणाम |*


*यद्यपि माँ यह जानती है कि जिस पुत्र के लिए वह यह कठिन व्रत करने का संकल्प ले रही है उसी ने उसे घर से दुत्कार दिया है परंतु वाह रे नारी ! फिर भी वह निष्काम भाव से इन व्रतों को करती है क्योंकि नारी त्याग की जीवंत प्रतिमा है |*

अगला लेख: त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
09 सितम्बर 2019
*इस धरती पर मनुष्य को अनेक मूल्यवान संपदायें प्राप्त हुई हैं | किसी को पैतृक तो किसी ने अपने बाहुबल से यह अमूल्य संपदायें अपने नाम की हैं | संसार में एक से बढ़कर एक मूल्यवान वस्तुएं विद्यमान हैं परंतु इन सबसे ऊपर यदि देखा जाए तो सबसे मूल्यवान समय ही होता है | समय ही मानव जीवन का पर्याय है , मनुष्य क
09 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*मानव जीवन ही नहीं सृष्टि के सभी अंग - उपांगों मे अनुशासन का विशेष महत्व है | समस्त प्रकृति एक अनुशासन में बंधकर चलती है इसलिए उसके किसी भी क्रियाकलापों में बाधा नहीं आती है | दिन – रात नियमित रूप से आते रहते हैं इससे स्पष्ट है कि अनुशासन के द्वारा ही जीवन को सार्थक बनाया जा सकता है | विचार कीजिए कि
13 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*इस संपूर्ण सृष्टि में आदिकाल से लेकर आज तक अनेकों विद्वान हुए हैं जिनकी विद्वता का लोहा संपूर्ण सृष्टि ने माना है | अपनी विद्वता से संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने वाले हमारे महापुरुष पूर्वजों ने आजकल की तरह पुस्तकीय ज्ञान तो नहीं प्राप्त किया था परंतु उनकी विद्वता उनके लेखों एवं साहित्य से प्रस्फ
20 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में मानव कल्याण के लिए अनेकों व्रत विधान की एक लंबी श्रृंखला है जो कि जो मानव जीवन के कष्टों को हरण करते हुए मनुष्य को मोक्ष दिलाने का साधन भी है | इसी क्रम में भाद्रपद शुक्लपक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" का व्रत किया जाता है | भगवान श्री हरि विष्णु को समर्पित है यह व्रत | अनन्त अर्
12 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x