थम जाये पहिया समय का....!

25 सितम्बर 2019   |  कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह   (3555 बार पढ़ा जा चुका है)

 थम जाये पहिया समय का....!

थम जाये पहिया समय का....!

_______________________________


बोल दो प्रिये कुछ मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का

साँसों में सरगम भर जाती हो हरपल

धड़कन में वीणा बजाती हो हर क्षण

पलकों तले आके गुनगुनाती हो हरदम

वो स्वप्न-गीत गा दो मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का


बोल दो प्रिये कुछ मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का


वाणी में मधु गंध भरके

छंदों का श्रृंगार करके

अधरों को खोल दो तुम

शब्द में बहार भरके

जम ही गया हूँ पाषाण सा मैं

तुम बूँद बनके धार बहा दो

राग सुना दो मधुर सा

कि थम जाए पहिया समय का


बोल दो प्रिये कुछ मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का


फूल सुगंधा, रजनीगंधा

कुछ-कुछ छुई-मुई सी

तारों का गुलशन, अम्बर की चंदा

रजनी की तू चाँदनी सी

साकी सी चहके मयखानों में

हाला को भरके पैमानों में

मदिरा पिला दो जरा सा

कि थम जाये पहिया समय का


बोल दो प्रिये कुछ मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का


नैनों में नैनों को को खोने जरा दो

सपनों में प्राणों को सोने जरा दो

कजरा लहके गजरा महके

कुंदन सा तेरा तन दहके

भूचालों सा मन ये बहके

प्रेम के तालों पे तन मेरा थिरके

सुर तुम सजा दो मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का


बोल दो प्रिये कुछ मधुर सा

कि थम जाये पहिया समय का



—कुँवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह


*यह मेरी स्वरचित रचना है |


अगला लेख: लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x