आदमी का चालान कटा और वजह हेलमेट या चप्पल नहीं, बाटी-चोखा थी

26 सितम्बर 2019   |  अभय शंकर   (515 बार पढ़ा जा चुका है)

आदमी का चालान कटा और वजह हेलमेट या चप्पल नहीं, बाटी-चोखा थी

कार में हेलमेट नहीं पहना तो चालान.

चप्पल पहनकर बाइक चलाई तो चालान.

शर्ट की बटन खुली तो चालान.

फुल शर्ट नहीं पहनी तो चालान.

और अब बाटी चोखा देने में देरी की तो चालान.

जी. ये लास्ट फरमान लखनऊ की सिविल पुलिस ने निकाला है. मामला राजाजी पुरम पोस्ट ऑफिस के सामने का है. जहां का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

























माजरा क्या है?

हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक, दरोगा दिनेश चंद बाटी चोखा लेने के लिए दुकान पर आए. दुकानदार से बोला कि दस प्लेट बाटी-चोखा पैक कर दो. दुकानदार पैक भी करने लगा. पर चोखा थोड़ा कम पड़ गया. दुकानदार कन्हैया ने कहा कि सर थोड़ा इंतजार कर लीजिए. पर दरोगा को ये बात पसंद नहीं आई. उनका ईगो हर्ट हो गया. वो वहां से बिना सामान लिए चले गए. दुकानदार के मुताबिक, मंगलवार यानी 25 सितंबर को वह दुकान बंद करके घर जा रहा था. 10 बज रहे थे. साथ में परिवारवाले भी थे.

अब दिनेश चंद ने कन्हैया की गाड़ी रोक ली. और उससे कागज मांगने लगे. कन्हैया ने दिखा दिया. कागज पूरे थे, तो दरोगा ने सीट बेल्ट न पहनने का मुद्दा बनाया. और 2500 रुपए चालान काट दिए. अब कन्हैया माफी मांगने लगा. वहीं खड़े किसी ने वीडियो बना लिया. इसमें दरोगा अपनी गुंडई दिखा रहे हैं.

इस वीडियो में दरोगा कह रहे हैं कि वो रोज चालान काटेंगे. जितना कन्हैया कमाएगा, उतना चालान काटेंगे.

खैर, अब सब इंस्पेक्टर दिनेश को निलंबित कर दिया गया है.


https://www.thelallantop.com/jhamajham/lucknow-police-sub-inspector-suspended-after-cuts-challan-on-bati-chokha-seller-over-seat-belt/

अगला लेख: नासा ने चंद्रयान के बारे में जो बताया है, वो सुनकर अच्छा नहीं लगेगा...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 सितम्बर 2019
भारत में हर रोज़ लाखों लोग ट्रेन से सफ़र करते हैं. उन्हें अपनी मंज़िल तक पहुंचाने के लिए रेल विभाग लगभग 13000 ट्रेनों का संचालन करता है. स्लीपर और जनरल डिब्बों में सफ़र करने वाले यात्रियों की संख्या अधिक होती है. आपने भी कभी न कभी इन दोनों ही श्रेणियों में सफ़र ज़रूर किया
12 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
य लड़कों,चलती है क्या? ओए होए! गंदे-गंदे इशारे! कुछ नज़रों से ही मार देते हैं!ये सारी फ़ब्तियां जो तुम लोग हम लड़कियों पर कसते हो, वो सही है? ऐसा क्या तुम्हें परम सुख मिल जाता है कुछ घटिया शब्द बोलकर?Source: deccanchronicleकभी सोचते हो अगर ये तुम्हें मैं बोलूं? मैं बोलूं
12 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
उत्तर प्रदेश के रायबरेली ज़िले में सालोन नाम की एक तहसील है. इस तहसील के एक गांव में 25 साल की औरत को पीट-पीटकर मार डाला गया. उसे मारने वाले उसके भाई और अंकल ही हैं. औरत अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC) की थी. उसने परिवार वालों के खिलाफ जाकर गांव के ही एक दलित लड़के से लव मैरिज की थी. इस वजह से उसके परिवार वाल
12 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी की पहुंच गांव की चौपाल से लेकर देश की संसद और विधानसभाओं तक हो चुकी है. इसका परफेक्ट उदाहरण बीजेपी नेता विक्रम सिंह सैनी हैं. विक्रम सैनी मुजफ्फरनगर के खतौली से विधायक हैं. उन्होंने जवाहरलाल नेहरु को लेकर एक ऐसा कमेंट किया है जिसका पॉलिटिक्स से कोई
18 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x