स्वार्थ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (471 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वार्थ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🔴 *आज का सांध्य संदेश* 🔴


🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*संसार में मनुष्य सहित जितने भी जीव हैं सब अपने सारे क्रिया कलाप स्वार्थवश ही करते हैं | तुलसीदास जी ने तो अपने मानस के माध्यम से इस संसार से ऊपर उठकर देवताओं तक के लिए लिख दिया है कि – “सुर नर मुनि सब कर यह रीती | स्वारथ लाइ करइं सब प्रीती ||” अर्थात – देव , दानव, मानव कोई भी इस असाध्य रोग से बच नहीं पाया है | नि:स्वार्थ प्रेम बिरले ही देखने को, या सुनने को मिलता है | जब मनुष्य मां के गर्भ में होता है तभी से वह भगवान से कहने लगता है , भगवान से सौदा करने लगता है कि – हे भगवन ! हमें इस नर्क से बाहर निकालो , मैं आपका भजन संसार में पहुंचकर करूँगा | अब सोंचिए कि – वह गर्भस्थ शिशु भी यदि भगवान का भजन करने की प्रतिज्ञा लेता है तो उसमें भी उसका स्वार्थ होता है कि इसके बदले हमें इस गर्भरूपी नर्क से मुक्ति मिल जायेगी | कहने का तात्पर्य यह है कि भगवान की माया तो मनुष्य के जन्म लेने के बाद उसे घेरती है परंतु स्वार्थ तो उसके पास इस संसार को देखने के पहले ही आ जाता है | इस स्वार्थ से आज तक किसी को बचते हुए नहीं देखा गया है | सारा संसार ही स्वार्थमय है | स्वार्थ होना कोई गलत नहीं है | गलत है नकारात्मक विषयों में स्वार्थ की पराकाष्ठा का उल्लंघन कर देना |*


*आज स्वार्थ को समाज में अनुचित समझा जाता है किसी को स्वार्थी कहना उसके लिए अपशब्द के समान है | जबकि संसार का प्रत्येक मनुष्य स्वयं स्वार्थी होता है ! क्योंकि मनुष्य द्वारा कर्म करने का आरम्भ ही स्वार्थ के कारण है यदि मनुष्य का स्वार्थ समाप्त हो जाए तो उसे कर्म करने की आवश्यकता ही क्या है ? मनुष्य को जब अपने तथा अपने परिवार के पोषण के लिए अनेकों वस्तुओं की आवश्यकता होती है तो उसमे स्वार्थ उत्पन्न होता है जिसके कारण वह कर्म करके अपने स्वार्थ सिद्ध करता है अर्थात मनुष्य की आवश्यकता ही स्वार्थ है एंव स्वार्थ ही कर्म है | यदि आवश्यकता ना हो तो स्वार्थ समाप्त एंव स्वार्थ ना हो तो कर्म समाप्त अर्थात स्वार्थ के कारण ही संसार का प्रत्येक प्राणी कर्म करता है इसीलिए संसार को स्वार्थी संसार कहा जाता है | यह मनुष्य एवं अन्य जीवों का जीवन निर्वाह करने का स्वार्थ सिद्ध करना स्वभाविक तथा मर्यादित कार्य है जो संसार का संचालन अथवा कर्म है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि स्वार्थ जब तक संतुलित है तब तक ही उचित है अन्यथा स्वार्थ की अधिकता होते ही जीवन में तथा समाज में अनेकों समस्याएँ उत्पन्न होने लगती हैं | अपितु संसार में जितनी भी समस्याएँ हैं सभी मनुष्य के स्वार्थ की अधिकता के कारण ही उत्पन्न हैं | मनुष्य में जब स्वार्थ की अधिकता उत्पन्न होनी आरम्भ होती है तो वह स्वार्थ पूर्ति के लिए अनुचित कार्यों को अंजाम देने लगता है जिससे उसके जीवन में भ्रष्टाचार का आरम्भ होता है | जिसके अधिक बढने से मनुष्य धीरे धीरे अपराध की ओर बढने लगता है | मनुष्य के स्वार्थ में लोभ का जितना अधिक मिश्रण होता है मनुष्य उतना ही अधिक भयंकर अपराध करने पर उतारू हो जाता है | यह स्थिति मनुष्य में विवेक की कमी अथवा विवेकहीनता होने पर अधिक भयंकर होती है , क्योंकि मनुष्य परिणाम की परवाह करना छोड़ देता है या परिणाम से बेखबर हो जाता है जो उसके विनाश का कारण बन जाता है।*


*मनुष्य में स्वार्थ की अधिकता का कारण मन की चंचलता है , जो मनुष्य को जगह जगह पर अपमानित कराती है।अत: सम्मानित जीवन जीना है तो स्वार्थ का संतुलन बनाकर रखना होगा।*


🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺


🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥


सभी भगवत्प्रेमियों को *"शुभ संध्या वन्दन"*----🙏🏻🙏🏻🌹


♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻


*सनातन धर्म से जुड़े किसी भी विषय पर चर्चा (सतसंग) करने के लिए हमारे व्हाट्सऐप समूह----*

*‼ भगवत्कृपा हि केवलम् ‼ से जुड़ें या सम्पर्क करें---*


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: अनुशासन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में पितरों के लिए श्राद्ध की अनेक विधियां बताई गई हैं , इन सभी विधियों में सबसे सरल दो विधि बताई गई है :- पिंडदान एवं ब्राह्मण भोजन | मृत्यु के बाद जो लोग देवलोक या पितृलोक में पहुंचते हैं वह मंत्रों के द्वारा बुलाये जाने पर उन लोकों से तत्क्षण श्राद्घदेश में आ जाते हैं और निमंत्रित ब्
20 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*इस संपूर्ण सृष्टि में आदिकाल से लेकर आज तक अनेकों विद्वान हुए हैं जिनकी विद्वता का लोहा संपूर्ण सृष्टि ने माना है | अपनी विद्वता से संपूर्ण विश्व का मार्गदर्शन करने वाले हमारे महापुरुष पूर्वजों ने आजकल की तरह पुस्तकीय ज्ञान तो नहीं प्राप्त किया था परंतु उनकी विद्वता उनके लेखों एवं साहित्य से प्रस्फ
20 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है | इन्हीं नौ रूपों में पूरा जीवन समाहित है | प्रथम रूप शैलपुत्री के रूप में जन्म लेकर महामाया का दूसरा स्वरूप "ब्रह्मचारिणी" है | ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | कन्या रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना
30 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
22 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में व्रत व त्यौहारों को मनाने का विशेष एक महत्व व एक विशेष उद्देश्य होता है | कुछ व्रत त्यौहार सामाजिक कल्याण से जुड़े होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत व पारिवारिक हितों से | आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में जहां पितर शांति के लिये श्राद्ध पक्ष मनाया जाता है तो वहीं शुक्ल पक्ष के आरंभ होते ही आदिशक
22 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x