स्वार्थ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (444 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वार्थ :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸


‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼


🔴 *आज का सांध्य संदेश* 🔴


🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻


*संसार में मनुष्य सहित जितने भी जीव हैं सब अपने सारे क्रिया कलाप स्वार्थवश ही करते हैं | तुलसीदास जी ने तो अपने मानस के माध्यम से इस संसार से ऊपर उठकर देवताओं तक के लिए लिख दिया है कि – “सुर नर मुनि सब कर यह रीती | स्वारथ लाइ करइं सब प्रीती ||” अर्थात – देव , दानव, मानव कोई भी इस असाध्य रोग से बच नहीं पाया है | नि:स्वार्थ प्रेम बिरले ही देखने को, या सुनने को मिलता है | जब मनुष्य मां के गर्भ में होता है तभी से वह भगवान से कहने लगता है , भगवान से सौदा करने लगता है कि – हे भगवन ! हमें इस नर्क से बाहर निकालो , मैं आपका भजन संसार में पहुंचकर करूँगा | अब सोंचिए कि – वह गर्भस्थ शिशु भी यदि भगवान का भजन करने की प्रतिज्ञा लेता है तो उसमें भी उसका स्वार्थ होता है कि इसके बदले हमें इस गर्भरूपी नर्क से मुक्ति मिल जायेगी | कहने का तात्पर्य यह है कि भगवान की माया तो मनुष्य के जन्म लेने के बाद उसे घेरती है परंतु स्वार्थ तो उसके पास इस संसार को देखने के पहले ही आ जाता है | इस स्वार्थ से आज तक किसी को बचते हुए नहीं देखा गया है | सारा संसार ही स्वार्थमय है | स्वार्थ होना कोई गलत नहीं है | गलत है नकारात्मक विषयों में स्वार्थ की पराकाष्ठा का उल्लंघन कर देना |*


*आज स्वार्थ को समाज में अनुचित समझा जाता है किसी को स्वार्थी कहना उसके लिए अपशब्द के समान है | जबकि संसार का प्रत्येक मनुष्य स्वयं स्वार्थी होता है ! क्योंकि मनुष्य द्वारा कर्म करने का आरम्भ ही स्वार्थ के कारण है यदि मनुष्य का स्वार्थ समाप्त हो जाए तो उसे कर्म करने की आवश्यकता ही क्या है ? मनुष्य को जब अपने तथा अपने परिवार के पोषण के लिए अनेकों वस्तुओं की आवश्यकता होती है तो उसमे स्वार्थ उत्पन्न होता है जिसके कारण वह कर्म करके अपने स्वार्थ सिद्ध करता है अर्थात मनुष्य की आवश्यकता ही स्वार्थ है एंव स्वार्थ ही कर्म है | यदि आवश्यकता ना हो तो स्वार्थ समाप्त एंव स्वार्थ ना हो तो कर्म समाप्त अर्थात स्वार्थ के कारण ही संसार का प्रत्येक प्राणी कर्म करता है इसीलिए संसार को स्वार्थी संसार कहा जाता है | यह मनुष्य एवं अन्य जीवों का जीवन निर्वाह करने का स्वार्थ सिद्ध करना स्वभाविक तथा मर्यादित कार्य है जो संसार का संचालन अथवा कर्म है | मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि स्वार्थ जब तक संतुलित है तब तक ही उचित है अन्यथा स्वार्थ की अधिकता होते ही जीवन में तथा समाज में अनेकों समस्याएँ उत्पन्न होने लगती हैं | अपितु संसार में जितनी भी समस्याएँ हैं सभी मनुष्य के स्वार्थ की अधिकता के कारण ही उत्पन्न हैं | मनुष्य में जब स्वार्थ की अधिकता उत्पन्न होनी आरम्भ होती है तो वह स्वार्थ पूर्ति के लिए अनुचित कार्यों को अंजाम देने लगता है जिससे उसके जीवन में भ्रष्टाचार का आरम्भ होता है | जिसके अधिक बढने से मनुष्य धीरे धीरे अपराध की ओर बढने लगता है | मनुष्य के स्वार्थ में लोभ का जितना अधिक मिश्रण होता है मनुष्य उतना ही अधिक भयंकर अपराध करने पर उतारू हो जाता है | यह स्थिति मनुष्य में विवेक की कमी अथवा विवेकहीनता होने पर अधिक भयंकर होती है , क्योंकि मनुष्य परिणाम की परवाह करना छोड़ देता है या परिणाम से बेखबर हो जाता है जो उसके विनाश का कारण बन जाता है।*


*मनुष्य में स्वार्थ की अधिकता का कारण मन की चंचलता है , जो मनुष्य को जगह जगह पर अपमानित कराती है।अत: सम्मानित जीवन जीना है तो स्वार्थ का संतुलन बनाकर रखना होगा।*


🌺💥🌺 *जय श्री हरि* 🌺💥🌺


🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥🌳🔥


सभी भगवत्प्रेमियों को *"शुभ संध्या वन्दन"*----🙏🏻🙏🏻🌹


♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻🏵♻


*सनातन धर्म से जुड़े किसी भी विषय पर चर्चा (सतसंग) करने के लिए हमारे व्हाट्सऐप समूह----*

*‼ भगवत्कृपा हि केवलम् ‼ से जुड़ें या सम्पर्क करें---*


आचार्य अर्जुन तिवारी

प्रवक्ता

श्रीमद्भागवत/श्रीरामकथा

संरक्षक

संकटमोचन हनुमानमंदिर

बड़ागाँव श्रीअयोध्याजी

(उत्तर-प्रदेश)

9935328830


🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀🌟🍀

अगला लेख: अनुशासन :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुयायी अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए धर्म और शास्त्रों के अनुसार हविष्ययुक्त पिंड को प्रदान करते हैं यही कर्म श्राद्ध कहलाता है | जब मनुष्य अपने पितरों के लिए श्रद्धा करते हैं तो इससे उनके पितरों को शांति मिलती हैं और वे सदैव प्रसन्न रहते हुए दीर्घायु, प्रसिद्धि एवं कुसलता प्
16 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*हमारे देश भारत में नारी को आरंभ से ही कोमलता , भावकुता , क्षमाशीलता , सहनशीलता की प्रतिमूर्ति माना जाता रहा है पर यही नारी आवश्यकता पड़ने पर रणचंडी बनने से भी परहेज नहीं करती क्योंकि वह जानती है कि यह कोमल भाव मात्र उन्हें सहानुभूति और सम्मान की नजरों से देख सकता है, पर समानांतर खड़ा होने के लिए अपने
30 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
23 सितम्बर 2019
*इस संसार में सबसे कठिन और दुष्कर कार्य है मानव जीवन का प्राप्त होना , क्योंकि हमारे शास्त्रों का कथन है कि अनेक योनियों में भ्रमण करने के बाद बड़ी मुश्किल से मनुष्य का शरीर जीव को प्राप्त होता है | मनुष्य सृष्टि की सर्वश्रेष्ठ रचना है | मनुष्य के लिए अपनी इच्छा से मानव जीवन पाना तो असंभव है परंतु म
23 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन ग्रंथों में एक कथानक पढ़ने को मिलता है जो समुद्र मंथन के नाम से जाना जाता है | देवताओं एवं दैत्यों ने अमृत प्राप्त करने के लिए मन्दाराचल को मथानी एवं वासुकि नाग को रस्सी बनाकर समुद्र का मन्थन किया | अथक परिश्रम से मन्थन करने के बाद समुद्र से अमृत निकला परंतु अमृत निकलने के पहले समुद्र स
13 सितम्बर 2019
24 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म के अनुसार श्राद्ध का अर्थ है :- श्रद्धा पूर्वक अपने पितरों को प्रसन्न करना | "सर्वश्रद्धया दत्त श्राद्धम्" अर्थात जो कुछ श्रद्धा से किया जाय वह श्राद्ध कहलाता है | इसी श्राद्ध नामक वृत्ति को धारण करने के उद्देश्य से आश्विन कृष्णपक्ष श्राद्धपक्ष कहलाता है | इसमें परिजन अपने पितरों को अपनी
24 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x