द्वितीयं ब्रह्मचारिणी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (397 बार पढ़ा जा चुका है)

द्वितीयं ब्रह्मचारिणी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है | इन्हीं नौ रूपों में पूरा जीवन समाहित है | प्रथम रूप शैलपुत्री के रूप में जन्म लेकर महामाया का दूसरा स्वरूप "ब्रह्मचारिणी" है | ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | कन्या रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना तपस्या करने के बराबर है | हिमालय के यहाँ जन्म लेकर भगवान शिव को प्राप्त करने के लिए महामाया ने अखण्ड ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए कठोर तपस्या करते हुए भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त करके यह दिखाने का प्रयास किया है कि अबला कही जाने वाली नारी यदि नियम पूर्वक किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने का संकल्प ले ले तो असंभव कुछ भी नहीं है | अपनी तपश्चर्या को आधार बनाकर महामाया ने भगवान को प्राप्त करके उनके वामभाग में विराजित होकर पवित्रताओं में अग्रगण्य बनीं | एक नारी का जीवन तपश्चारिणी का ही होता है | एक नारी का सम्पूर्ण जीवन तपस्या करते ही व्यतीत हो जाता है | जो ब्रह्मचर्य का पालन नहीं कर पाती हैं उनका समाज में सम्मान नहीं होता है | अपने शील , संस्कार एवं तपश्चर्या के बल पर ही हमारी मातृशक्तियों ने सूर्य की गति को भी स्तम्भित कर दिया था | उसी प्रकार नियम संयम का पालन करके प्रत्येक नारी ब्रह्मचारिणी हो सकती है |*


*आज का समाज जिस प्रकार होता जा रहा है उसमें महामाया के पदचिन्हों का अनुसरण करने वाली मातृशक्तियां बिरले ही मिलेंगी | हो सकता है कि हमारी बातें थोड़ी कड़वी लगें परंतु जिस प्रकार का समाज बनता जा रहा है उस परिवेश में सत्यता यही है | वैसे तो आज भी नारी अपना पूरा जीवन एक तपस्विनी की ही भाँति व्यतीत करती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह कह सकता हूँ कि अपने जनेम से ही कन्यारूप में अपने छोटे भाईयों को सम्हालना एवं घर के छोटे - मोटे कार्य करना प्रारम्भ करने वाली नारी अपने बालरूप से ही तपस्यारत हो जाती है | विवाहोपरांत जब वह एक अन्जान परिवार में जा मिलती है तो वहाँ के अनुसार स्वयं को ढालने में उसे अपनी कई आदतों एवं इच्छाओं का त्याग करना पड़ता है | तपस्या का दूसपा रूप त्याग ही है | त्याग एवं तपस्या का अनूठा उदाहरण तब देखने को मिलता है जब एक नारी माँ बनकर अपने शिशु का पालन करते समय अपनी भूख - प्यास एवं आवश्यक आवश्यकताओं का भी त्यीग करके एकाग्रता से करती है | यही ब्रह्मचारिणी का वास्तविक अर्थ है जो कि प्रत्येक नारी में परिलक्षित होता है | ब्रह्मचारिणी स्वरूपा सभी मातृशक्तियाँ वन्दनीय एवं पूज्यनीय हैं | हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि :- "यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता" अर्थात जहाँ नारी के समस्त स्वरूपों का सम्मान एवं आदर होता है वहां के लोग देवस्वरूप होते हैं | नारी अपने सभी स्वरूपों में पूज्यनीय है |*


*नवरात्रि का पर्व मनाते समय साधकों को महामाया के एक - एक स्वरूप की पूजा करते समय उसके रहस्य को भी समझने की आवश्यकता है , क्योंकि इसका रहस्य जाने बिना पूजन करना व्यर्थ ही है |*

अगला लेख: त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 सितम्बर 2019
*हमारे देश भारत में नारी को आरंभ से ही कोमलता , भावकुता , क्षमाशीलता , सहनशीलता की प्रतिमूर्ति माना जाता रहा है पर यही नारी आवश्यकता पड़ने पर रणचंडी बनने से भी परहेज नहीं करती क्योंकि वह जानती है कि यह कोमल भाव मात्र उन्हें सहानुभूति और सम्मान की नजरों से देख सकता है, पर समानांतर खड़ा होने के लिए अपने
30 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में पितरों के लिए श्राद्ध की अनेक विधियां बताई गई हैं , इन सभी विधियों में सबसे सरल दो विधि बताई गई है :- पिंडदान एवं ब्राह्मण भोजन | मृत्यु के बाद जो लोग देवलोक या पितृलोक में पहुंचते हैं वह मंत्रों के द्वारा बुलाये जाने पर उन लोकों से तत्क्षण श्राद्घदेश में आ जाते हैं और निमंत्रित ब्
20 सितम्बर 2019
27 सितम्बर 2019
🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸🌞🌸 ‼ *भगवत्कृपा हि केवलम्* ‼ 🔴 *आज का सांध्य संदेश* 🔴🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻☘🌻 *संसार में मनुष्य सहित जितने भी जीव हैं सब अपने सारे क्रिया कलाप स्वार्थवश ही करते हैं | तुलसीदास जी ने तो अपने मानस के माध्यम से इस संसार से ऊपर उठकर देवत
27 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x