सम्माननीय है नारी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 सितम्बर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (422 बार पढ़ा जा चुका है)

सम्माननीय है नारी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे देश भारत में नारी को आरंभ से ही कोमलता , भावकुता , क्षमाशीलता , सहनशीलता की प्रतिमूर्ति माना जाता रहा है पर यही नारी आवश्यकता पड़ने पर रणचंडी बनने से भी परहेज नहीं करती क्योंकि वह जानती है कि यह कोमल भाव मात्र उन्हें सहानुभूति और सम्मान की नजरों से देख सकता है, पर समानांतर खड़ा होने के लिए अपने को एक मजबूत , स्वावलंबी , अटल स्तंभ बनाना ही होगा | नारी के सम्मान में हमारे धर्मग्रंथों में अनेकों प्रसंग भरे पड़े हैं उनके अनुसार "यद् गृहे रमते नारी लक्ष्मीस्तद गृहवासिनी ! देवता कोटिशो वत्स न त्यज्यंति ग्रहहितत् !!" अर्थात :- जिस घर में सद्गुण सम्पन्न नारी सुखपूर्वक निवास करती है उस घर में लक्ष्मी जी निवास करती हैं | करोड़ों देवता भी उस घर को नहीं छोड़ते | नारी में त्याग एवं उदारता है, इसलिए वह देवी है | परिवार के लिए तपस्या करती है इसलिए उसमें तापसी है | उसमें ममता है इसलिए माँ है | क्षमता है, इसलिए शक्ति है | किसी को किसी प्रकार की कमी नहीं होने देती इसलिए अन्नपूर्णा है | नारी महान् है | वह एक शक्ति है | भारतीय समाज में वह देवी है | मनुस्मृति में कहा गया है :-- "प्रजनार्थ महाभागाः पूजार्हा गृहदीप्तयः ! स्त्रियः श्रियश्य गेहेषु न विशेषोऽस्ति कश्चन !! अर्थात :-- परम सौभाग्यशालिनी स्त्रियाँ सन्तानोत्पादन के लिए हैं | वह सर्वथा सम्मान के योग्य और घर की शोभा हैं | घर की स्त्री और लक्ष्मी में कोई भेद नहीं है | इन सभी प्रसंगों को पढ़कर यह ज्ञात होता है कि हमारे सनातन धर्म में नारियों को पूज्य एवं सम्माननीय माना गया है |*


*आज के समाज में जहाँ कुछ समुदायों में नारी को मात्र भोग्या समझा जाता है वहीं नारी ने स्वयं को स्थापित करते हुए समाज के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता के शिखर को छूने का उद्योग किया है | देश की सरकारों ने भी नारी सम्मान के लिए अनेकों योजनायें प्रारम्भ की है जिसका लाभ लेकर आज नारी पुरुष के कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है | इतना सब कुछ होने के बाद भी मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज समाज में कुछ विकृत मानसिकता के लोगों को देखकर विचार करने पर विवश हो जाता हूँ कि पुरुष प्रधान समाज का हवाला देने वाले कुछ लोग नारी को अभी भी मात्र अपनी सेविका एवं भोग्या समझ रहे हैं | नारी यदि पुरुष का सम्मान करके उसके द्वारा प्रताड़ित हो रही है तो यह उसकी कायरता या भय नहीं अपितु उसका पुरुष के प्रति प्रेम है जो विरोध नहीं करने देता | नारी जब बिना विरोध किये लोकलज्जा के भय से पुरुष के सभी कृत्यों को सहन करती है तो पुरुष इसे अपना पुरुषत्व समझकर स्वयं का गौरव समझने लगता है | परंतु उसी नारी के हृदय से जब उस पुरुष के प्रति प्रेम समाप्त हो जाता है और वह उग्रस्वरूप धारण कर लेती तब पुरुष त्राहि त्राहि करने लगता है | इसीलिए पुरुषों को चाहिए कि नारियों के कोमल मन पर कभी आघात न करते हुए उनको यथोचित सम्मान एवं अधिकार देते रहें | ऐसा करते रहने से नारी जीवन के सभी क्षेत्रों में स्थापित होकर आपका ही सम्मान बढ़ायेगी |*


*सौम्यस्वरूपा दुर्गा जी का पूजन बड़े धूमधाम से किया जाता है परंतु जब वही उग्रस्वरूपा महाकाली के रूप में होती हैं तो भय लगता है | सदैव ऐसे कर्म करते रहना चाहिए कि नारी सौम्य बनी रहे उसका उग्र स्वरूप यदि हो गया तो यह समाज के लिए हितकर नहीं हो सकता |*

अगला लेख: त्रिपिण्डी श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने पितरों का श्राद्ध तर्पण करना अनिवार्य बताया गया है | जो व्यक्ति तर्पण / श्राद्ध नहीं कर पाता है उसके पितर उससे अप्रसन्न होकर के अनेकों बाधाएं खड़ी करते हैं | जिस प्रकार प्रत्येक व्यक्ति के लिए श्राद्ध एवं तर्पण अनिवार्य है उसी प्रकार श्राद्ध पक्ष के कुछ न
21 सितम्बर 2019
22 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में व्रत व त्यौहारों को मनाने का विशेष एक महत्व व एक विशेष उद्देश्य होता है | कुछ व्रत त्यौहार सामाजिक कल्याण से जुड़े होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत व पारिवारिक हितों से | आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में जहां पितर शांति के लिये श्राद्ध पक्ष मनाया जाता है तो वहीं शुक्ल पक्ष के आरंभ होते ही आदिशक
22 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है | इन्हीं नौ रूपों में पूरा जीवन समाहित है | प्रथम रूप शैलपुत्री के रूप में जन्म लेकर महामाया का दूसरा स्वरूप "ब्रह्मचारिणी" है | ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | कन्या रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना
30 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति के नौ रूपों की आराधना की जाती है | इन्हीं नौ रूपों में पूरा जीवन समाहित है | प्रथम रूप शैलपुत्री के रूप में जन्म लेकर महामाया का दूसरा स्वरूप "ब्रह्मचारिणी" है | ब्रह्मचारिणी का अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | कन्या रूप में ब्रह्मचर्य का पालन करना
30 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में पितरों के लिए श्राद्ध की अनेक विधियां बताई गई हैं , इन सभी विधियों में सबसे सरल दो विधि बताई गई है :- पिंडदान एवं ब्राह्मण भोजन | मृत्यु के बाद जो लोग देवलोक या पितृलोक में पहुंचते हैं वह मंत्रों के द्वारा बुलाये जाने पर उन लोकों से तत्क्षण श्राद्घदेश में आ जाते हैं और निमंत्रित ब्
20 सितम्बर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*आदिशक्ति पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के पूजन का पर्व नवरात्रि प्रारम्भ होते ही पूरे देश में मातृशक्ति की आराधना घर घर में प्रारम्भ हो गयी है | जिनके बिना सृष्टि की संकल्पना नहीं की जा सकती , जो उत्पत्ति , सृजन एवं संहार की कारक हैं ऐसी महामाया का पूजन करके मनुष्य अद्भुत शक्तियां , सिद्
29 सितम्बर 2019
26 सितम्बर 2019
*हमारे सनातन धर्म-दर्शन के अनुसार जिस प्रकार जिसका जन्म हुआ है, उसकी मृत्यु भी निश्चित है; उसी प्रकार जिसकी मृत्यु हुई है, उसका जन्म भी निश्चित है | ऐसे कुछ विरले ही होते हैं जिन्हें मोक्ष प्राप्ति हो जाती है | पितृपक्ष में तीन पीढ़ियों तक के पिता पक्ष के तथा तीन पीढ़ियों तक के माता पक्ष के पूर्वजों
26 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म इतना बृहद एवं विस्तृत है कि इसके विषय में जितना जानने का प्रयास करो उतनी ही नवीनता प्राप्त होती है | सनातन धर्म के संपूर्ण विधान को जान पाना असंभव सा प्रतीत होता है | जिस प्रकार गहरे समुद्र की थाह पाना एवं उसे तैरकर पार करना असंभव है उसी प्रकार सनातन धर्म की व्यापकता का अनुमान लगा पाना
21 सितम्बर 2019
25 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म एक विशाल वृक्ष है जिसकी कई शाखायें हैं | विश्व के जितने भी धर्म या सनातन के जितने भी सम्प्रदाय हैं सबका मूल सनातन ही है | सृष्टि के प्रारम्भ में जब वेदों का प्राकट्य हुआ तो "एको ब्रह्म द्वितीयो नास्ति" की भावना के अन्तर्गत एक ही ईश्वर एवं एक ही धर्म था जिसे वैदिक धर्म कहा जाता था | धीरे
25 सितम्बर 2019
22 सितम्बर 2019
*सनातन धर्म में व्रत व त्यौहारों को मनाने का विशेष एक महत्व व एक विशेष उद्देश्य होता है | कुछ व्रत त्यौहार सामाजिक कल्याण से जुड़े होते हैं तो कुछ व्यक्तिगत व पारिवारिक हितों से | आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में जहां पितर शांति के लिये श्राद्ध पक्ष मनाया जाता है तो वहीं शुक्ल पक्ष के आरंभ होते ही आदिशक
22 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x