श्री राम चरित मानस :-- आचार्य अजुन तिवारी

11 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (513 बार पढ़ा जा चुका है)

श्री राम चरित मानस :-- आचार्य अजुन तिवारी

*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यहां मर्यादा पुरुषोत्तम के रूप में अवतार धारण करने वाले श्री राम के द्वारा स्थापित की हुई मर्यादा संपूर्ण विश्व के लिए मार्गदर्शक की भूमिका निभाती रही है | भगवान श्री राम के विषय में सर्वप्रथम बाल्मीकि जी ने रचना करके उनके चरित्रों का वर्णन किया , उसके बाद अनेक लेखकों ने श्री राम के विषय में अनेकों रचनायें की और सब का नाम रामायण ही रखा गया , परंतु आम जनमानस से दूर होने के कारण समाज का अधिकतर हिस्सा उसका लाभ नहीं उठा पाया | इसी बीच संवत १६३१ में चैत्रमास शुक्लपक्ष की नवमी से गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान श्री राम के चरित्रों का वर्णन करना प्रारंभ किया और नाम दिया श्रीरामचरितमानस | जिसे आम बोलचाल में रामायण ही कहा जाता है | अवधी भाषा में लिखा गया यह ग्रंथ भारतीय इतिहास में कालजयी रचना बन गई | सनातन हिंदू के घर में कोई ग्रंथ हो ना हो परंतु रामचरितमानस की इतनी लोकप्रियता है कि वह प्रत्येक घर में देखने को मिल जाती है | यह कहा जा सकता है कि गोस्वामी तुलसीदास जी ने रामचरितमानस की रचना करके मानव जीवन सफल कर दिया है | दोहे चौपाई में लिखा गया यह ग्रंथ अपने आप में अनुपम है | रामचरितमानस की एक-एक चौपाई स्वयं में महामंत्र है | यदि मनुष्य इसे हृदय से पढ़ करके उसका अर्थ समझ ले तो उसका जीवन सफल हो सकता है ! इतना ही नहीं इन चौपाइयों को यदि विधिपूर्वक जाप कर लिया जाए तो जीवन की अनेक कठिनाइयां तो दूर होती हैं साथ ही मनुष्य की मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं क्योंकि तुलसी बाबा की लिखी हुई चौपाई साधारण ना हो करके एक अमोघ अस्त्र है | आवश्यकता है इनको समझने की एवं समझकर हृदयंगम करने की |*


*आज के युग में जहां सनातन ग्रंथों पर सनातन विरोधियों के द्वारा कुठाराघात हो रहा है वही कुछ सनातन प्रेमी भी अज्ञानता बस तुलसीदास जी की इन चौपाइयों पर प्रश्नचिन्ह उठा देते हैं | बाबा जी ने रामचरितमानस का समापन करते हुए लिखा है :-- "सत पंच चौपाई मनोहर जानि जो नर उर धरैं" ! इस छंद को पढ़कर की मानव हृदय में जिज्ञासा उत्पन्न हो जाती है कि वह सात और पाँच चौपाईयां कौन सी है जिन्हें पढ़कर के कल्याण हो सकता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अपने अल्प विवेकानुसार इतना ही कह सकता हूं कि मानस कि प्रत्येक चौपाई स्वयं में दुर्लभ है , परंतु यदि सत पंच चौपाई की बात की जाय तो जी पूरे मानस में कहीं की भी सात या पांच चौपाइयां हो सकती हैं | यदि इसका आध्यात्मिक अर्थ निकाला जाय तो सत का अर्थ होता है सच्चा , और पंच का अर्थ होता है निर्णय देने वाला ! अर्थात सच्चा निर्णय देने वाला | कहने का तात्पर्य है मानस कि प्रत्येक चौपाई मनोहर है और जीवन के विषय में निर्णय देने वाली एक सच्चे पंच के रूप में है और कर्तव्याकर्तव्य का बोध कराने वाली है | यदि मानस की सात या पाँच चौपाइयों को भी हृदय से पढ़ कर के उसके अनुसार कृत्य किया जाए तो काम क्रोध मोह एवं अविद्या आदि का हरण मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी स्वयं कर लेते हैं | वैसे तो बाबाजी की चौपाइयों का अर्थ लगाना सागर से मोती ढूंढने के बराबर है परंतु इन चौपाइयों के अर्थ ना समझ पाने के कारण मनुष्य भ्रमित हो जाता है | आश्चर्य तो तब होता है जब विद्वान माने जाने वाले महापुरुषों के द्वारा भ्रम की स्थिति उत्पन्न कर दी जाती है | मैं यह भी मानता हूँ कि यहां उनका भी दोष नहीं है क्योंकि देखने में मानस जितना सरल है समझने में उतना ही कठिन भी है |*


*मानस को समझ पाना इतना सरल नहीं जितना हम अपने हृदय में सोच लेते है | मानस को समझने के लिए सर्वप्रथम हृदय को मन्दिर बनाकर स्वयं को मानसमय करना होगा |*

अगला लेख: आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
प्
*सम्पूर्ण सृष्टि को परमात्मा ने जोड़े से उत्पन्न किया है | सृष्टि के मूल में नारी को रखते हुए उसका महिमामण्डन स्वयं परमात्मा ने किया है | नारी के बिना सृष्टि की संकल्पना ही व्यर्थ है | नारी की महिमा को प्रतिपादित करते हुए हमारे शास्त्रों में लिखा है :---- "वद नारी विना को$न्यो , निर्माता मनुसन्तते !
29 सितम्बर 2019
17 अक्तूबर 2019
करवा चौथ का व्रत सुहागिन महिलाओ के लिए बहुत खास होता है। यह व्रत हर साल कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को आता है। इस साल यह व्रत गुरूवार 17 अक्टूबर को आ रहा है। करवा चौथ वाले दिन महिलाये पति की लम्बी आ
17 अक्तूबर 2019
29 सितम्बर 2019
*हमारा देश भारत विभिन्न मान्यताओं और मान्यताओं में श्रद्धा व विश्वास रखने वाला देश है | इन्हीं मान्यताओं में एक है पितृयाग | पितृपक्ष में पितरों को दिया जाने वाला तर्पण पिण्डदान व श्राद्ध इसी श्रद्धा व विश्वास की एक मजबूत कड़ी है | पितृ को तर्पण / पिण्डदान करने वाला हर व्यक्ति दीर्घायु , पुत्र-पौत्र
29 सितम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
30 सितम्बर 2019
क्
आजकल दौड़ भाग वाली जिंदगी में सभी लोग परेशान रहते है . किसी न किसी परेशानी से ग्रषित होते है. किसी को नौकरी नहीं मिल रही है , कोई अपने करियर को लेकर परेशान है , कोई पैसो की कमी से परेशान है , तो किसी को शरीर में होने वाली बीमारियों से परेशान है , अब आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है आपको बस अपनी प
30 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
*हमारे देश भारत में नारी को आरंभ से ही कोमलता , भावकुता , क्षमाशीलता , सहनशीलता की प्रतिमूर्ति माना जाता रहा है पर यही नारी आवश्यकता पड़ने पर रणचंडी बनने से भी परहेज नहीं करती क्योंकि वह जानती है कि यह कोमल भाव मात्र उन्हें सहानुभूति और सम्मान की नजरों से देख सकता है, पर समानांतर खड़ा होने के लिए अपने
30 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत बहुत ही समृद्धशाली रहा है | भारत यदि समृद्धिशाली एवं ऐश्वर्यशाली रहा है तो उसका कारण भारत की संस्कृति एवं संस्कार ही रहा है | समय समय पड़ने वाले पर्व एवं त्यौहार भारत एवं भारतवासियों को समृद्धिशाली बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान प्रदान करते हैं | इस समय नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है
01 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
15 अक्तूबर 2019
ग्रह डालते हैं जीवन पर असर, इनके अनुसार करें बिजनेसअगर आप एक बिजनेस मैन है और आपका बिजनेस ठीक से फल फूल नहीं रहा है तो इसके पीछे उसके ग्रह की स्थिति हो सकती है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि किसी भी व्यवसाय के पीछे कोई एक ग्रह जरूर होता है। अगर वह ग्रह अच्छा है तो व्यवस
15 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x