व्यक्ति की अधिक पाने की लालसा

12 अक्तूबर 2019   |  हर्षित कृष्ण शुक्ल   (410 बार पढ़ा जा चुका है)

*🌹श्री राधे कृपा ही सर्वस्वम🌷*

*जय श्रीमन्नारायण*

आज समाज की दयनीय स्थिति जीवन में अधिक पाने की लालसा का खत्म ना होना जीवन को ऐसे मोड़ पर लाकर खड़ा कर देता है की अंततोगत्वा कोई भी साथ में चलना पसंद नहीं करता दोष दूसरों को देते हैं और अपनी तरफ कभी ध्यान नहीं देते एक दृष्टांत याद आ रहा है एक राजा था उसने एक दिन नगर भ्रमण पर निकलने से पहले विचार किया की आज जो भी सबसे पहले मिलेगा हम उसको इतना कुछ देंगे क्यों उसकी सारी इच्छाएं पूर्ण हो जाएं उसे किसी के आगे हाथ न फैलाना पड़े झुकना ना पड़े मांगना ना पड़े राजा नगर में निकला सामने एक बहुत ही गरीब वृद्ध पर उसकी नजर पड़ी जो भीख मांग रहा था राजा ने विचार किया किसको कुछ दे दिया जाए राजा ने उसे अपने पास बुलाया अपने पास से एक तांबे का सिक्का उसकी तरफ उछाला परंतु वह सिक्का नाली में जाकर गिर गया राजा ने देखा वह आदमी नाली से सिक्का निकालने के लिए दौड़ा तब तक राजा को प्रातः की अपनी बात याद आ गई राजा ने उसे पुनः बुलाया और जेब से पुन्हा एक सिक्का तांबे का उसे दे दिया तांबे का सिक्का लेकर के जो आदमी फिर से नाली की तरफ बढ़ा राजा ने फिर बुलाया और चांदी का सिक्का उसके हाथ में दे दिया राजा ने सोचा शायद इसे पैसों की अधिक जरूरत है इसीलिए यह नाली से सिक्का निकालने का प्रयास कर रहा है इसीलिए राजा ने उसे एक स्वर्ण का सिक्का दे दिया वह आदमी फिर नाली की तरफ बढ़ा राजा ने फिर से उसको बुलाया और बोले देखो तुम्हें पैसों की अधिक जरूरत है आज मैं तुम्हें अपना आधा राज्य धन दौलत प्रदान करता हूं अब तो तुम्हारी लालसा समाप्त हुई वह आदमी बोला महाराज प्रसन्नता तो तब होगी जब नाली में पड़ा तांबे का सिक्का मुझे मिल जाए इसका मतलब आज समाज में कुछ ऐसे लोग हैं जिनको कुछ भी दे दो आगे बढ़ाने का प्रयास करो उनकी उन्नति का प्रयास करो अपने कार्य रोक दो अपना पद छोड़ कर उनका साथ दो लेकिन वह तब तक आपकी बात नहीं मानेंगे जब तक नाली में पड़ा तांबे का सिक्का नहीं मिलता क्योंकि उनकी मानसिकता अलग है उनका मानना है कि जितना अधिक मिल जाए जैसी भी मिले छल कपट आदि जिस प्रकार से दूसरे से मतलब निकल सकें दूसरे का धन प्राप्त हो और क्या कहें बहुत दुख होता है जब हमारे विद्वत समाज के अच्छे-अच्छे वरिष्ठ तम लोग यह कहकर कार्य करते हैं कि अगर एक बार में किसी का कार्य हो गया तो दोबारा पैसे कौन देगा कौन चाहेगा दोबारा से हमारा खर्च हो मैं "आचार्य हर्षित कृष्ण शुक्ल" समाज को देखकर पुणे दृश्यों को समझते हुए देखते हुए अंततोगत्वा यह कहने पर मजबूर होता हूं पर *उपदेश कुशल बहुतेरे। जे आचरहिं ते नरना घने रे।*

क्या अधिक पाने की लालसा में हम अपनी संस्कृति अपने दायित्व अपनी परिपाटी अपनी परंपरा सभी को बुलाकर केवल धन के लोभी बने रहेंगे आज हमें फिर से अपनी सनातनी परंपरा का सनातन कर्तव्यों का पूर्ण निष्ठा के साथ ईमानदारी से निभाना है आज जो भी हम लालच के वशीभूत होकर यजमान का संकल्प लेकर पूर्णरूपेण उसे संपादित नहीं करते ध्यान रहे हम उसके कर्जदार होते जा रहे हैं हमें वह कर जा चुकाना होगा अंत में फिर कहना चाहूंगा कि हम इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए *सियाराम मय सब जग जानी* की परंपरा को निभाते हुए अपने कर्तव्यों और दायित्वों को पूरी ईमानदारी के साथ संपादित करें यही निवेदन है

*जय श्री सीताराम जय श्रीमन्नारायण जय श्री राधे कृष्णा*

*आचार्य*

*हर्षित कृष्ण शुक्ल*

*प्रवक्ता*

*श्रीमद् भागवत एवं श्री राम कथा*


🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌹🌷🌹🌹🌹

अगला लेख: जीवन का आनन्द अमृत



बहुत ही सुंदर संदेश शास्त्री जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 अक्तूबर 2019
हमें काटते जा रहे ,पारा हुआ पचास।नित्य नई परियोजना, क्यों भोगें हम त्रास।।धरती बंजर हो रही ,बचा न खग का ठौर।बढ़ा प्रदूषण रोग दे ,करिये इस पर गौर ।।भोजन का निर्माण कर ,हम करते उपकार।स्वच्छ प्राण वायु दिये , जो जीवन आधार ।।देव रुप में पूज्य हम ,धरती का सिंगार ।है गुण का भंडार ले औषध की भरमार ।।संतति
10 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
तु
यह कविता मेरी दूसरी पुस्तक " क़यामत की रात " से है . इसमें प्रेम औ रदाम्पत्य जीवन के उतार-चढ़ाव पर जीवनसाथी द्वारा साथ छोड़ देने पर उत्पन्न हुए दुःख का वर्णन है .तुमने ऐसा क्यों किया जीवन की इस फुलवारी में, इस उम्र की चारदीवारी में।आकर वसंत भी चले गये, पतझड़ भी आकर चले गय
18 अक्तूबर 2019
15 अक्तूबर 2019
गु
🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹 *श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम*🌼🌹🌼🌹🌼🌹🌼 *जय श्रीमन्नारायण* सभी मित्रों को की श्री सीताराम -------------- आज जीवन में ना जाने कितने उतार-चढ़ाव आते रहते हैं और अक्सर देखा जाता है की एकता अत्यधिक चिंता ग्रस्त होकर अपने जीवन को समाप्त करने तक की योजना
15 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x