मिलना

13 अक्तूबर 2019   |  tejaswi यदलपति   (454 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई तकदीर से मिलते हैं

तो कोई दुआ से
कोई चाहत से मिलते हैं

तो कोई तकरार से

कोई कोशिश से मिलते हैं

तो कोई मजबूरी से


ज़िन्दगी की राहों में

मिलना तो तै हैं

चाहे वो कैसे भी हो. ...


अगला लेख: पूजा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
घूरती आखोँ में हँसी तंज की ठिठोली हैंअमानत थोड़ी हैं जो किसी की हो ली है उनकी रुह में भी, छोड़ आया हूँ खुद कोअभी लब्ज बोले हैं, मोहब्बत कहाँ बोली हैं
17 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
रि
चाहतों का पहाड़बनाया पर चढ़ न सकाखून से हुआ जुदा,किस्मत भी दे गई दगाडॉ. कवि कुमार निर्मल
11 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x