गुप्त मन का भय आत्मविश्वास की कमी

15 अक्तूबर 2019   |  हर्षित कृष्ण शुक्ल   (3916 बार पढ़ा जा चुका है)

🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹🏵💐🌼🌹


*श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम*

🌼🌹🌼🌹🌼🌹🌼

*जय श्रीमन्नारायण*


सभी मित्रों को की श्री सीताराम --------------

आज जीवन में ना जाने कितने उतार-चढ़ाव आते रहते हैं और अक्सर देखा जाता है की एकता अत्यधिक चिंता ग्रस्त होकर अपने जीवन को समाप्त करने तक की योजना बना डालता है ना जाने कितने परिवार ऐसे हैं जो इन कारणों से आज जूझ रहे हैं ध्यान देने योग्य बात यह है कि यह भाव व्यक्ति के मन में क्यों उत्पन्न होते हैं खुद मैं हीनता लज्जा अपने आप को कमजोर व छोटा महसूस करना जरा जरा सी बात में घबराहट होना अनेक प्रकार की काल्पनिक फिजूल की बातों को सोच कर मिथ्या भय में डूबे रहना यही सब जीवन को अस्त व्यस्त कर रहे हैं देखिए मैं"- आचार्य हर्षित कृष्ण शुक्ल" जहां तक मेरा मानना है जीवन के हर क्षेत्र में घबराहट हानिकारक है घबराना भी एक प्रकार की मानसिक कमजोरी है अतः मनुष्य को अच्छी तरह से उससे बचने का प्रयास करना चाहिए अन्यथा समाज में भयानक परिस्थितियां उत्पन्न होती है अस्थिरता असंतोष रोग चंचलता इत्यादि वाही जगत पर निर्भर ना होकर अस्वस्थ वातावरण पर निर्भर है ध्यान देंगे जब बचपन में किसी बच्चे को अधिक डराया जाए दबाया जाए धमकाया जाए मारा जाए तो आगे चलकर उसके सामने इस प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होती हैं समाज में उसकी बात का मजाक बनाना आने वाले समय में उसको समाज में लज्जा महसूस होने लगती है वह अपनी बात ठीक तरीके से नहीं रख पाता उसके मन में गुप्त भय बना रहता है कि मेरा मजाक बनाया जाएगा प्रसिद्ध मनोविज्ञान के शास्त्री श्री लालजी राम जी शुक्ल ने लिखा है कि छोटे बच्चे को किसी काम के लिए लज्जित कर देना उसमें घबराने की मनोवृति पैदा कर देना अपने मन का विश्लेषण करें विचार करें की गुप्त मन में जो भय है वह हमारे आत्मविश्वास के टूट जाने के कारण पैदा हुआ है और अगर ऐसा है तो हमारा आत्मविश्वास कैसे टूटा बचपन में हमारे साथ क्या हुआ किसने कैसे डराया इन सब चीजों को ध्यान दें और मित्र साथी परिवार के लोग उसका उत्साहवर्धन करें जिससे कि उसका आत्मबल पुनः अपनी स्थिति में वापस आ सके सबल हो सके जिससे उस व्यक्ति के मन में अपने जीवन में आने वाली परिस्थितियों का डटकर मुकाबला करने की क्षमता बने संघर्ष का सामना कर सके आइए संकल्प लें कि हम किसी को निर उत्साहित नहीं करेंगे मजाक नहीं बनाएंगे और हर संभव मदद करेंगे


*जय जय श्री राधे जय जय श्रीमन्नारायण*

*आचार्य*

*हर्षित कृष्ण शुक्ल*

*प्रवक्ता*

*श्रीमद् भागवत कथा एवं संगीतमय श्री राम कथा*

*लखीमपुर खीरी*

*(उत्तर प्रदेश*

अगला लेख: सन्त का स्वभाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2019
सीए कोर्स को लेकर छात्रों और उनके माता पिता की यह धारणा है की यह एक बहुत ही महंगा कोर्स है और इस कोर्स की फीस बहुत अधिक है | लेकिन यह बिलकुल ही गलत धारणा है | इस कोर्स की फीस को इतना सामान्य रखा गया है की किसी भी वर्ग का सामान्य छात्र भी यह कोर्स कर सकता है और CA बनने के अपने सपनों को पूरा कर सकता
24 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
वर्ष 1925 में विजयादशमी के पावन दिवस पर डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार द्वारा एक शाखा प्रांरभ कर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना की गई थी। वर्ष 2025 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अपनी सौवीं वर्षगांठ मनाने जा रहा है। किसी भी संगठन के लिये 100 वर्ष पूर्ण करने का अत्यधिक महत्व होता है, क्योंकि इतने लम्बे सम
21 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
विप्र धेनु सुर संत हित लीन्ह मनुज अवतार डॉ शोभा भारद्वाज रावण के भय से सम्पूर्ण ब्रह्मांड थर्राने लगा दस सिर बीस भुजाओं एवं ब्रह्मा जी से अमरत्वका वरदान प्राप्त राक्षस राज रावण निर्भय निशंक विचर रहा था हरेक को युद्ध मेंललकारता |रावण का पुत्र मेघनाथमहत्वकांक्षी ,रावण के समान बलशाली पिताको समर्पित
04 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
🌹🏵🌹🏵🌹🏵🌹🏵 *जय श्रीमन्नारायण**श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम*💐🌷💐🌷💐🌷💐🌷 *सन्त का स्वभाव एवं गुण*🌲🌳🌲🌳🌲🌳🌲🌳🌲 मनुष्य इस जीवन में सदैव अनुकूलता को चाहता है पर प्रतिकूलता नहीं चाहता यह उसकी कायरता है अनुकूलता को चाहना ही खास बंधन है इसके सिवाय और कोई बंधन नहीं इस चाहना को मिटाने के
24 अक्तूबर 2019
06 अक्तूबर 2019
★★★★★★★★★★★★★★आजूबाजू में हैं- मोबाइल खेलते हैं!चाँद है पास हमिमून तक भूलते हैं!!★★★★★★★★★★★★★★दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं- बहकते।।ठहर जाना हीं काबलियत है।खुशबुओं में बह जाना हीं ज़िंदगी है।।दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं बहकते।।★★डॉ. कवि कुमार निर्मल★★
06 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x