भ्रूण हत्या व देहज दानव

16 अक्तूबर 2019   |  हर्षित कृष्ण शुक्ल   (3558 बार पढ़ा जा चुका है)

🌳🦚🦜☘🍀🌴🌲🎍🌲

*जय श्रीमन्नारायण*

*🌹श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम🌷*


*भ्रूण हत्या समाज का कलंक*

🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚

आइए आज विचार करें जो यह एक

कलंक रूपी अभिशाप लगा हुआ है इसका कारण क्या है ऐसी मानसिकता क्यों बन गई जरा विचार करिए चैनलों पर मीडिया के सामने समाज में हर कोई इसका विरोध करता हुआ दिखाई पड़ता है उसमें चाहे पुरुष हो या महिला दोनों बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं लेकिन सबसे अहम बात यह है की क्या वास्तव में हम उसका विरोध कर रहे हैं ऐसा तो नहीं केवल प्रसिद्धि पाने के लिए ही हम नाटक मात्र करते हैं मैं :-"आचार्य हर्षित कृष्ण शुक्ल" जहां तक मैंने देखा है जो लोग समाज के सामने इसका विरोध करते हैं अक्सर ऐसा होता है जब उनके घर में बेटी के आने की सूचना मिलती है तो सबसे पहले हमारे घरों की महिलाएं ही उस पुत्री रत्न का स्वागत करने के बजाए मन में गुस्सा शब्दों में कड़वाहट लेकर उसके दुनिया में आने से पहले शत्रु बन जाती है तब वह यह विचार नहीं करती कि आज अगर लड़की न होती तो हम भी इस संसार में नहीं होते वही मां है दादी है नानी है बहन है पुत्री है एक ही व्यक्ति के इतने सारे रूप हैं फिर उससे बैर कैसा हम क्यों अजन्मी मां बहन बेटी स्वरूपा रत्न की कोख में ही हत्या कर देते हैं बड़ा दुख होता है यह सब सोचकर देखकर जब एक मां ही मां का जीवन नष्ट करती है अथवा सलाह देती है प्रश्न यह उठता है यह विचार हमारे मन में आती क्यों है जरा गंभीरता से मनन करें उत्तर मिलता है सबसे प्रथम और अहम बात यह है फैली दहेज की गंभीर समस्या कुछ परिवार जो अपना पेट भी नहीं पाल पाते घर में पुत्री को देख कर उनके मन में हर समय एक डर बना रहता है अपनी पुत्री के हाथ कैसे पीले करेंगे कहां जाएंगे कौन शादी करेगा कहां से लाएंगे इतना धन फिर उस दुखी मन में एक विचार आता है बेटी तूने जन्म क्यों लिया आइए आज एक संकल्प लें हम इस समाज में जैसे भी हो सके इस दहेज दानव को समाप्त करके ही दम लेंगे जिससे हमारी माताएं बहने बेटियां सुरक्षित रहें सुखी रहें हंसती और मुस्कुराती रहे ऐसा कार्य करें ना दहेज ले ना दहेज दे जिससे कोई भी बेटी ना कोख में मारी जाए ना ससुराल में ।।।


*जय श्रीमन्नारायण जय जय श्री राधे जय जय श्री सीताराम*

*आचार्य*

*हर्षित कृष्ण शुक्ल*

*प्रवक्ता*

*श्रीमद् भागवत कथा एवं संगीतमय श्री राम कथा*

*लखीमपुर खीरी*

*( उत्तर प्रदेश)*

अगला लेख: सन्त का स्वभाव



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x