आखिर ऐसा क्यों?

18 अक्तूबर 2019   |  व्यंजना आनंद   (451 बार पढ़ा जा चुका है)

🙏🏻आखिर ऐसा क्यों? 🙏🏻

"""""""""""""""""""""""""""""""""


अचानक से मेरे मन मस्तिष्क पर वह दृश्य नाच गया।घर के चौतरे पर एक घूँटे से बंधी थी वह लाचार माँ। उनकी हृदय को झकझोर देने वाली आवाज ।अब भी रौंगटे खड़े हो जाते हैं उन दर्दनाक दृश्य को याद कर ।उन दिनों मैं छोटी बच्ची थी ,दर्द हुआ था पर समझ न पाई थी ।आखिर वह क्या था? क्या कोई इतना निर्दयी हो सकता हैं ?

हमेंशा से यह प्रश्न मेरे मन में मुझे आहत देता था। अचानक से एक दिन उनके सुपुत्र जी से मेरी मुलाकात हो गई ।दुर्भाग्य से मैं उन्हें ताऊजी कहती थी ।मैं उनसे पूछ बैठी ।क्या हाल है ताऊजी ।उन्होंने कहा कि एक तो लाड़ेसर हुआ बूढ़ापे में ।वो भी कोई काम का नहीं ।दिन भर अपनी पत्नी के साथ हा-हा-हि-हि करता रहता है पर पूछने तक नहीं आता बाबूजी खाना खाएं हैं कि नहीं ।तेरी ताई की तबियत भी बहुत खराब रहती है ................... और अपना बहुत दुःखडा सुनाने लगे।

मैं यह कह कर वहां से चली गईं -सब ईश्वर की मर्जी है कोई कुछ नहीं कर सकता।।।।

बस कहानी खत्म होती है, ऐसा बिलकुल नहीं है।

यही जीवन चक्र है प्यारों ।हर कर्म का प्रतिकर्म हमें भोगना ही है ।उन्होंने अपनी लकवा से ग्रसित माँ को खूँटे से बाँध कर एक छोटी सी कटोरी में दाल चावल सान कर दे दिया करते थे। दिन भर वो चिखती -चिल्लाती रहती थी ,जब उन पर कीड़े चलते थे..............।आह! कितना भयावह दृश्य ..........।

काल का यह खेल देख ।

प्रकृति की लीला अनेक ।

नहीं छोड़ती वो किसी को ,

प्रकृति दी तुम्हें फेक।।


मत कर कुछ ऐसा जिसका परिणाम बहुत दर्दनाक हो।जो हम करते हैं आपकी संतानें भी उसे देखती है।

इन्सानियत के नाते नहीं तो खुद की खातिर अब तो संभल जाओ।

""""""""""""""""""""""":"""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""

व्यंजना आनंद ✍

अगला लेख: 16 मात्रा पर कविता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
मा
🌸मानवता🌸 ************मानवता को शब्दों और परिभाषा में बाँधना वक्त बर्बाद करने के सिवा और कुछ भी नहीं ।बड़े -बड़े समाजशास्त्रियों ने अनेक मानवता के रूप प्रस्तुत किए हैं ।पर हमें उन बड़ी- बड़ी बातों के चक्रभ्यू में फँसने की आवश्यकता नहीं । बहुत ही सरल भाषा में हम कह सकते हैं कि जो मानव
09 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
शा
कुछ तो तड़प शांत हो जाएंगी हमारी।जब तेरे पहलू में कुछ पल सुकून के बिताया हम करें ।।💓💓💓💓💓💓💓मिथ्या ✍
01 नवम्बर 2019
05 अक्तूबर 2019
🙏🏻 🙏🏻🌹जलती रही बाती 🌹""""""""""""****""""""""""""रात भर तेरे इन्तजार में- जलती रही बाती । बुझती रही बाती।।इधर लौ जल रहे थे, भौरें मचल रहे थे। क्या करती वह बाती मन मोम गल रहे थे।। रात भर तेरे इन्तजार में , जलती रही बाती बुझती रही बाती ।अकेली क्या करेंगी
05 अक्तूबर 2019
10 अक्तूबर 2019
🌹सिंहावलोकनी दोहा मुक्तक🌹"""""""""""""""""""""""शरद ऋतु करे आगमन, मन होए उल्लास ।जूही की खुशबू उड़े, पिया मिलन की आस।।आस किसी की मैं करूँ , जो ना आएं पास ।नित देखू राह उसकी, जाता अब विश्वास ।।🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹व्यंजना आनंद ✍
10 अक्तूबर 2019
10 अक्तूबर 2019
Chhath Puja २०१९ Date . छठ पूजा २०१९ Chhath Puja Story छठ पूजा की कथाChhath Puja उत्तर भारत का महापर्व है. जिसे खासकर बिहार, उत्तरप्रदेश और झारखण्ड में मनाया जाता है. इस वर्ष २०१९ में छठ २ नवम्बर शनिवार को है. इस पर्व में जाती-पांति, धर्म, वर्ग, सम्प्रदाय का कोई भे
10 अक्तूबर 2019
05 अक्तूबर 2019
पु
🌹पुनीत छंद 🌹विधान---मात्रिक, 15 मात्रा संयोजक- -- 2 2 3 3 2 2 1 🌻सागर वेग बहुत है धार। पावन प्रेम परम है सार।। कैसे बोल रहीं साकार। प्यारी लगे सहज आचार।।तुमरी प्रीत करे है धाँव । हिय में बसे प्रेम के भाव।। आकर हमपर कुछ तो वार। तू बन जा प्रेमी अवतार।।सब से पा
05 अक्तूबर 2019
10 अक्तूबर 2019
Durvasa Rishi ki Jivni कौन थे दुर्वासा ऋषिDurvasa महर्षि दुर्वासा एक महान ऋषि थे और उन्हें इसीलिए “महर्षि ” की उपाधि प्राप्त थी. महर्षि दुर्वासा माता अनुसुइया और ऋषि अत्री के पुत्र थे.महर्षि दुर्वासा सतयुग, द्वापर और त्रेता तीनो ही युगों में थे. उनके दिए हुए श्राप और आशी
10 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
प्
मात्रा---15, 12 🌹प्रेम पावनी 🌹 **""**""** टकटकी लगा निहार रहे, एक दूजे में लीन । मन के भीतर चलता रहा, ख्वाबो का एक सीन।।तेरे दर से न जाएंगे मन में जगी है आस। उठ रही दिलों में सैकड़ों दबी हुई मिठी प्यास।।पाकर प्रेम पावनी पिया , पीकर होती निहाल।
30 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
Panchatantra Stories in Hindi – पंचतंत्र की कहानियां हिंदी में Panchatantra Stories in hindi एक कंजूस धोबी के पास एक गधा था. धोबी उस गधे से खूब काम लेता, लेकिन गधे के चारे का कोई प्रबंध नहीं करता. बस रात को गधे को चरने के लिए खुला छोड़ देता. निकट में कोई चारागाह नहीं था.जं
18 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
Stories for Kids in Hindi डाक्टर सिन्हा अभी सुबह का नाश्ता करने ही जा रहे थे कि उनका पर्सनल फोन बज उठा . उन्हें यह समझते देर कि कोई सीरियस केस है . उन्होंने फोन रिसीव किया .उधर से नर्स ने घबराते हुए बोला …सर जल्दी हास्पिटल आईये …बहुत ही सीरियस केस है . हास्पिटल डाक्टर सि
16 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
11 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x