यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स कटोरा लेकर मांग रहे हैं भीख, वजह आपको गुस्से से भर सकता है

18 अक्तूबर 2019   |  स्नेहा दुबे   (431 बार पढ़ा जा चुका है)

यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स कटोरा लेकर मांग रहे हैं भीख, वजह आपको गुस्से से भर सकता है

शिक्षा वो शस्त्र है जिसे प्राप्त करके हम दुनिया की हर लड़ाई जीत सकते हैं लेकिन जब इस शस्त्र को पाने के लिए हमें मेहनत और तपस्या के अलावा पैसे भी खर्च करने पड़े तो इसे कैसे पाया जा सकता है? ये सोचने वाली बात है क्योंकि आज के दौर में शिक्षा एक कारोबार बन गया है और लोग शिक्षा जरूरी है इसका फायदा उठाकर संस्थान वाले फीस में इतनी बढ़त ला देते हैं कि ये आम लोगों के लिए मुश्किल पैदा कर देता है। ये एक बड़ा सवाल है कि शिक्षा की कीमत इतनी क्यों नहीं रखी जाती जिसे हर कोई ग्रहण कर सके ना कि उसकी हाई फीस को जानकर उसे छोड़ने का फैसला कर लिया जाए। कुछ ऐसा ही उत्तराखंड में भी हो रहा है जब शिक्षा का कारोबार हर जगह जोरों पर हो रहा है और ये बहुत सोचने वाली बात है कि ऐसा करना काफी गलत है। चलिए बताते हैं क्या है पूरा मामला?


मेडिकल छात्रों को मांगनी पड़ रही है भीख


देहरादून

उत्तराखंड के देहरादून में मेडिकल की पढ़ाई करने वाले 3500 स्टूडेंट्स ने विरोध प्रदर्शन किया है और वे विरोध करने के इस अनोखे तरीके को अपनाते हुए काम कर रहे हैं। वे सड़कों पर कटोरा लेकर भीख मांग रहे हैं, जिसमें आने जाने वालों से लेकर कारों में बैठे लोगों से भी पैसा मांग रहे हैं। दरअसल ये सभी आयुर्वेद के स्टूडेंट्स हैं और इनका विरोध इसलिए है क्योंकि कॉलेज ने उनकी फीस दो से तीन गुना बढ़ा दी है। इतनी फीस देकर वे आगे पढ़ेंगे तो उनके परिवार का सबकुछ बिक जाएगा और इसके लिए उन्होंने हाई कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई और इसके बाद कोर्ट ने कॉलेजों को आदेश दिया कि वे बढ़ी हुई फीस कम करें और जिनसे अब तक बढ़ी फीस ली जा चुकी है उसे भी वापस करें।


उत्तराखंड

रिपोर्ट्स के मुताबिक कोर्ट के आदेश के बाद भी कॉलेज फीस वापस नहीं कर रह है और इसके बाद स्टूडेंट्स ने विरोध का नया रास्ता ढूंढ लिया और वे सड़को पर कटोरा लेकर भीख मांगने लगे। उत्तराखंड सरकार प्राइवेट आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेजों के आगे काफी बेबस हो गई है और कोर्ट के आदेश के बाद भी एक्शन नहीं लिया जा रहा। इससे पहले तो स्टूडेंट्स कॉलेज परिसर में ही विरोध कर रहे थे और जब इनपर ध्यान नहीं दिया गया तो वे लोग देहरादून सचिवालय के पास बने पवेलियन ग्राउंड में बैठ गए। मगर बात इससे भी नहीं बनी तो स्टूडेंट्स सड़क पर आ गए और उनके मुताबिक वे आुयष मंत्री कर्पशन फंड में पैसा जमा करने के लिए भीख मांग रहे हैं। मीडिया ने उन छात्रों से बात करने की कोशिश की लेकिन स्टूडेंट्स प्रशासन के साथ ही अब किसी से बात नहीं कर रहे हैं। उन्हें बस अपनी मांग पूरी करनी है किसी भी तरह।

यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स कटोरा लेकर मांग रहे हैं भीख, वजह आपको गुस्से से भर सकता है

अगला लेख: बड़ा खुलासा: निर्भया की दर्दनाक कहानी सुनाने के लिए एक लाख रुपये चार्ज करता है उसका दोस्त



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2019
अक्सर आम लोगों में पेट्रोल और डीज़ल के भाव को लेकर सरकार से नाराजगी होती है। पेट्रोल और डीजल से लोगों की भावनाएं जैसे जुड़ी रहती हैं क्योंकि इसके बिना लोगों को काफी समस्या होती है खासकर जिनके पास अपनी गाड़ी होती है। सरकार ने अब नई पेट्रोल और डीजल की कीमत बताई है जो आपको जरूर जाननी चाहिए। आम आदमी को
11 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
नागालैंड की राजधानी कोहिमा में 5 अक्टूबर को मिस कोहिमा ब्यूटी पीजेंट 2019 का फाइनल राउंड आयोजित हुआ ता। इनमें तीन विनर्स को चुना गया और उनसे अलग-अलग तरह के सवाल किए जा रहे थे। अब इनमें एक कंटेस्टेंट से ऐसा सवाल पूछा गया जिसका जवाब उसने अपनी सूझ-बूझ के साथ दिया। ये सवाल भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र म
16 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
आज के समय में महिलाओं की दशा काफी चिंताजनक है, क्योंकि जितना खुलापन आज के दौर में महिलाओं में देखने को मिल रहा है उतनी ही वारदातें उनमें हो रही हैं। सबसे ज्यादा पर्दा मुस्लिम धर्म में होता है और ये बहुत पुरानी प्रथा है जो आज तक चल रही है। मगर विदेशी लड़कियों में खुलापन आज से नहीं बल्कि उस समय से है
14 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
साल 1992 से राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद चल रहा है और इसपर आज तक कोई फैसला नहीं लिया गया। अयोध्या में उस स्थान पर मंदिर बनेगा या मस्जिद होगी ये कहा जाना अभी मुश्किल है लेकिन बहुत जल्द ऐसा समय आने वाला जब किसी एक के हक में फैसला आ जाएगा। अभी सुनवाई का दौर सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और इस संभाव
14 अक्तूबर 2019
16 अक्तूबर 2019
इस दुनिया में अच्छे और बुरे दोनों तरह के लोग होते हैं और कलयुग में हर किसी के साथ बुरा होता है। मगर अच्छे लोग भी इस दुनिया में हैं जो खुद से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचते हैं। ऐसा ही एक काम उत्तराखंड के चमोली जिले की डीएम ने किया है। इन्होने गांव के बच्चों की सुविधा के लिए एक ऐसा काम किया है जिसे
16 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
आज के दौर में हर किसी को पहचान पाना मुश्किल है। महिला हो या पुरुष किसी का भी दिमाग गलत रास्ते पर निकल सकता है और आमतौर पर हम सभी पुरुष को ही गलत समझते हैं जबकि महिलाएं भी कुछ कम नहीं होती है। ऐसा ही एक किस्सा बिहार की राजधानी पटना में न
14 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
बॉलीवुड में हर कोई अमिताभ बच्चन जैसा मुकाम हासिल करना चाहता है और हर कोई उनके साथ एक बार काम भी करना चाहता है लेकिन ऐसा होना थोडी मुश्किल बात है। फिल्मों में अमिताभ बच्चन ने साल 1969 में फिल्म सात हिंदुस्तानी से अपने करियर की शुरुआत की थी, फिर इसके बाद कुछ फिल्में भी अमिताभ बच्चन की आई लेकिन उन्हें
11 अक्तूबर 2019
10 अक्तूबर 2019
भारत में चुनाव का जब माहौल होता है तब कुछ ऐसे चेहरे सामने आते हैं जिन्हें आपने पहले कभी नहीं देखा होता है लेकिन चुनाव के दौरान वे आपसे ऐसे बात करते हैं जैसे उनका आपका सदियों का नाता हो। कुछ ऐसा ही अब महार
10 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x