अहोई अष्टमी

19 अक्तूबर 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (432 बार पढ़ा जा चुका है)

अहोई अष्टमी

अहोई अष्टमी व्रत

17 अक्तूबर को करवाचौथ का व्रत था | करवाचौथ के चार दिन बाद और दीपावली से आठ दिन पूर्व यानी 21 अक्तूबर को कार्तिक कृष्ण अष्टमी अहोई अष्टमी के रूप में मनाई जाती है | यह व्रत भी करवाचौथ की ही भाँति उत्तरी और पश्चिमी अंचलों का पर्व है और प्रायः ऐसी मान्यता है कि जिस दिन दीपावली हो उसी इन अहोई अष्टमी का व्रत किया जाना चाहिए | इस वर्ष दीपावली रविवार 27 अक्तूबर की है इसलिए अहोई अष्टमी प्रथा के अनुसार 20 तारीख को होनी चाहिए | लेकिन व्रत के पारायण के समय अष्टमी तिथि का होना अनिवार्य है और 20 तारीख को पूरा दिन ही सप्तमी तिथि है जो अगले दिन प्रातःकाल तक रहेगी | इसलिए 20 को अहोई अष्टमी का व्रत नहीं रखा जा सकता | 21 को प्रातः 6:44 से 22 को सूर्योदय से पूर्व 5:25 तक अष्टमी तिथि रहेगी | इसलिए अहोई अष्टमी का व्रत इस वर्ष 21 अक्तूबर को रखा जाएगा और पारायण भी इसी दिन सायंकाल को होगा |

इस दिन सभी माताएँ अपनी सन्तानों की दीर्घायु, सुख समृद्धि तथा मंगल कामना से सारा दिन उपवास रखकर सायंकाल अहोई माता की पूजा करके लोक परम्परा अथवा अपने अपने परिवार की परम्परा के अनुसार तारों अथवा चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत का पारायण करती हैं | उत्तर भारत में ही कई स्थानों पर नि:सन्तान माताएँ सन्तान प्राप्ति की कामना से भी इस व्रत का पालन करती हैं | पूजा के समय अहोई अष्टमी व्रत से सम्बन्धित कथा सुनने की भी प्रथा है | इस वर्ष सायं छह बजकर दस मिनट के लगभग तारों के दर्शन आरम्भ हो जाएँगे | किन्तु फिर भी जो लोग चन्द्र दर्शन से इस व्रत का पारायण करना चाहते हैं उनके लिए रात्रि 11:29 पर चन्द्रमा का उदय होगा |

मूलतः सभी अष्टमी माँ दुर्गा को समर्पित होती हैं और अहोई माता भी शक्ति का ही एक रूप है जो समस्त कष्टों से परिवार की रक्षा करके सुख समृद्धि प्रदान करती हैं |

वैष्णव इस दिन बहुला अष्टमी मनाते हैं जो मुख्यतः राधा-कृष्ण को समर्पित है | माना जाता है कि वृन्दावन में स्थित राधा कुण्ड और श्याम कुण्ड बहुला अष्टमी के दिन ही प्रकट हुए थे | अहोई अष्टमी की ही तरह इन कुण्डों के विषय में भी मान्यता है कि नि:सन्तान लोग यदि आज के दिन अर्द्धरात्रि को (निशीथ काल में) इन कुण्डों में स्नान करते हैं तो उन्हें सन्तान की प्राप्ति होती है |

एक और बात, केवल भारत में ही नहीं, बल्कि संसार के हर देश में जो भी धार्मिक कथाएँ कही सुनी या पढ़ी जाती हैं उन सबके पीछे कोई न कोई नैतिक शिक्षा अवश्य होती है | कथाओं के माध्यम से जो सीख लोगों को दी जाती है वह सहजगम्य होती है, इसीलिए सम्भवतः इस प्रकार की नैतिक कथाओं को पर्वों के साथ जोड़ा गया होगा | अहोई अष्टमी की भी अलग अलग स्थानीय परम्पराओं – अलग अलग स्थानीय जीवन शैलियों के आधार पर कई तरह की कहानियाँ प्रचार में हैं जिनको व्रत की पूजा के दौरान पढ़ा और सुना जाता है | यदि उन पर ध्यान दें तो पाएँगे कि उन सबमें दो नैतिक शिक्षाएँ प्रमुख रूप से निहित हैं – एक ये कि कोई भी कार्य भली भाँति सोच विचार कर करना चाहिए, बिना सोचे समझे किया गया कार्य अन्त में कष्ट का कारण बनता है | और दूसरी ये कि जीव ह्त्या नहीं करनी चाहिए, यदि भूल से ऐसा हो भी जाए तो उसका पता चलने पर हृदय से उसके लिए पश्चात्ताप तथा प्रायश्चित अवश्य करना चाहिए |

हम सभी सोच विचार कर हर कार्य करते हुए तथा जीव ह्त्या से बचते हुए आगे बढ़ते रहें, इसी भावना के साथ सभी माताओं तथा उनकी सन्तानों को अहोई अष्टमी और बहुला अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2019/10/19/ahoi-ashtami-vrat/

अगला लेख: ध्यान - खोज मन के भीतर - स्वामी वेदभारती जी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
13 अक्तूबर 2019
14 से 20 अक्टूबर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर
13 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
ध्यानऔर इसका अभ्यासकिसी विषय पर मनन करना अथवा सोचनाध्यान नहीं है :चिन्तन, मनन – विशेष रूप से कुछप्रेरणादायक विषयों जैसे सत्य, शान्ति और प्रेम आदिके विषय में सोचना विचारना अर्थात मनन करना – चिन्तन करना – सहायक हो सकता है, किन्तु यह ध्यान की प्रक्रिया से भिन्न प्रक्रिया है | मनन करने में आपअपने मन को
12 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
दिल्ली मेट्रो भारत की सबसे बड़ी बड़ी मेट्रो लाइन है और ऐसे में दिल्ली सरकार कई तरह की स्कीम इसमें चलाती रहती है। पिछले दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने महिलाओं के लिए मेट्रो का सफर फ्री कर दिया है हालांकि अभी ये लागू नहीं किया गया है। अब दिल्ली मेट्रो से एक ऐसी खबर आ रही है जिससे मेट्र
11 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
सुधी पाठकों के लिए प्रस्तुत है मेरी ही एक पुरानी रचना....पुष्प बनकर क्या करूँगी, पुष्पका सौरभ मुझे दो |दीप बनकर क्या करूँगी, दीप का आलोक दे दो ||हर नयन में देखना चाहूँ अभय मैं,हर भवन में बाँटना चाहूँ हृदय मैं |बंध सके ना वृन्त डाल पात से जो,थक सके ना धूप वारि वात से जो |भ्रमर बनकर क्या करू
09 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
दु
दुनिया युद्ध के महाविनाश की ओर जा रही है।यदि ऐसा हुआ तो किसी न किसी रुप में हम सभी प्रभावित होंगे।वैसे ही दुनिया में लोग अनेकानेक कारणों से दुखी हैं।हम में से बहुत लोग ऐसे हैं जिन्हे कोई न कोई दुख है।हम मिलकर उनका समाधान खोज सकते हैं और दुखों से बचाव कर सकते हैं।कम से कम हम चर्चा तो करें।कोई न कोई स
12 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
सप्तम कालरात्रि नवदुर्गा – सप्तम नवरात्र –देवी के कालरात्रि रूप की उपासनात्रैलोक्यमेतदखिलं रिपुनाशनेन त्रातंसमरमूर्धनि तेSपि हत्वा ।नीता दिवं रिपुगणाभयमप्यपास्तमस्माकमुन्मदसुरारि भवन्न्मस्ते ।।देवी का सातवाँ रूप कालरात्रि है | सबका अन्त करने वाले कालकी भी रात्रि अर्थात् विनाशिका होने के कारण इनका ना
04 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
जब से भारत ने जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाया है तब से पाकिस्तान में खलबली मची है। ऐसा लग रहा है कि भारत ने उनके देश के लिए कोई फैसला ले लिया हो। तब से भरात पर कोई ना कोई बयान कसते हुए ये देश अपनी हरकतों से बाज नहीं आया। हमेशा उल्टे-सीधे बयान देकर पाकिस्तान पूरी दुनिया मेंं हंसी के पात्र बन गया लेकि
11 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
ध्यान धर्म नहीं है :पिछले अध्याय में हम चर्चा कर रहे थेकि भ्रमवश कुछ अन्य स्थितियों को भी ध्यान समझ लिया जाता है | जैसे चिन्तन मननअथवा सम्मोहन आदि की स्थिति को भी ध्यान समझ लिया जाता है | किन्तु हम आपको बता दें कि ध्यान न तोचिन्तन मनन है और न ही किसी प्रकार की सम्मोहन अथवा आत्म विमोहन की स्थिति है |
14 अक्तूबर 2019
05 अक्तूबर 2019
नवरात्र और कन्या पूजनशारदीय नवरात्र हों या चैत्र नवरात्र – माँ भगवती को उनके नौ रूपोंके साथ आमन्त्रित करके उन्हें स्थापित किया जाता है और फिर कन्या अथवा कुमारी पूजनके साथ उन्हें विदा किया जाता है | कन्या पूजन किये बिना नवरात्रों की पूजा अधूरीमानी जाती है | प्रायः अष्टमी और नवमी को कन्या पूजन का विधा
05 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
आज के दौर में हर किसी को पहचान पाना मुश्किल है। महिला हो या पुरुष किसी का भी दिमाग गलत रास्ते पर निकल सकता है और आमतौर पर हम सभी पुरुष को ही गलत समझते हैं जबकि महिलाएं भी कुछ कम नहीं होती है। ऐसा ही एक किस्सा बिहार की राजधानी पटना में न
14 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
साल 1992 से राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद चल रहा है और इसपर आज तक कोई फैसला नहीं लिया गया। अयोध्या में उस स्थान पर मंदिर बनेगा या मस्जिद होगी ये कहा जाना अभी मुश्किल है लेकिन बहुत जल्द ऐसा समय आने वाला जब किसी एक के हक में फैसला आ जाएगा। अभी सुनवाई का दौर सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और इस संभाव
14 अक्तूबर 2019
06 अक्तूबर 2019
7 से 13 अक्टूबर2019 तक का साप्ताहिकराशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आ
06 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
अभी मुझे खिलते जाना है नहींअभी है पूर्ण साधना, अभी मुझे बढ़ते जाना है |जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खिलते जाना है ||मैं प्रथमकिरण के रथ पर चढ़ निकली थी इस निर्जन पथ पर ग्रहनक्षत्रों पर छोड़ रही अपने पदचिह्नों को अविचल |नहींप्रश्न दो चार दिवस का, मुझको बड़ी दूर जाना है जगमें नेह गन्ध फैलाते अभी मुझे खि
12 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
05 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x