कभी टैंपो चलाने वाला शख्स कैसे बना IPS ऑफिसर?

19 अक्तूबर 2019   |  स्नेहा दुबे   (480 बार पढ़ा जा चुका है)

कभी टैंपो चलाने वाला शख्स कैसे बना IPS ऑफिसर?

इंसान की किस्मत कब बदल जाए इसके लिए कुछ कहा नहीं जा सकता है। ईश्वर हर इंसान की मेहनत का फल देता है और अगर सफलता के पहले असफलता मिले तो सफलता मिलने की खुशी भी अलग होती है। ऐसा ही कुछ मध्यप्रदेश के इस राज्य के डीएम की भी कहानी है। 12वीं में फेल होने के बाद इनकी बहुत सी आलोचनाएं हुई लेकिन आज ये जिस मुकाम पर हैं वहां पहुंचने में हर किसी को बहुत तगड़ी मेहनत होती है। '12th फेल, हारा वही जो लड़ा नहीं' शीर्षक के साथ ये किताब अनुराग पाठक नाम के लेखक ने अपने दोस्त के लिए लिखी है। जिसमें उनके संघर्ष की कहानी है और इसे पढ़कर आपको एक अच्छी सीख मिलेगी..


ये डीएम कैसे बना 12वीं फेल ?


आईएएस

कभी 12वीं में फेल हुए आईपीएस मनोज शर्मा ने अपनी गर्लफ्रेंड को वादा किया था कि वे आईपीएस बनेंगे और वो वादा भी किया। मनोज शर्मा का जन्म मध्यप्रदेश के मुरैना में हुआ था और वे 9वीं, 10वीं और 11वीं में तीसरे स्थान पर रहे और उन्होंने बताया कि इसके लिए उन्होंने नकल का सहारा लिया है। मगर 12वीं परीक्षा में नकल करना मुश्किल था तो वे फेल हो गए थे। सूत्रों के अनुसार, उन्होने बताया कि 12वीं परीक्षा में पास होने के लिए उन्होने नकल की सारी तैयारी कर ली थी और उस समय वे एसडीएम ने स्कूल में नकल ना होने के लिए ज्यादा से ज्यादा अच्छे इंतजाम करवाए थे। एसडीएम की पावर को देखते हुए मनोज के मन में ऐसा ही पावरफुल बनने का ख्याल आया, क्योंकि वे 12वीं में फेल थे तो इसलिए उन्होंने और उनके भाईयों ने टैंपो चलाया। एक बार की ऐसी घटना है कि उनका टैंपो पकड़ा गया तो मनोज एसडीएम से मदद मांगने गए और जब वे उनसे मिले तो उन्होंने एक ही प्रश्न पूछा कि उन्होने तैयारी कैसे की?


आईएएस

उस समय मनोज ने एसडीएम को नहीं बताया था कि वे 12वीं में फेल हो गए थे और उनसे मिलने ग्वालियर आ गए। मनोज के पास पैसे नहीं थे तो वे मंदिर में भिखारियों के पास सोते थे। उस दौरान उन्हे लाइब्रेरी में चपरासी की नौकरी मिल गई थी। लाइब्रेरी में गोर्की और अब्राहम लिंकन से लेकर मुक्तबोध जैसे कई लोगों के बारे में पढ़ा और उनके कामों को भी समझा। वे एक लड़की से प्यार भी करते थे लेकिन 12वीं फेल होने के कारण वे अपनी दिल की बात कहने में डरते थे। मगर जब कहा तो उन्हें ये जवाब मिला कि वे आईएएस ऑफिसर ही पसंद है। फिर वे ग्वालियर से दिल्ली आए क्योंकि वहां भी मनोज के पास पैसे नहीं थे इसलिए उन्हें कुत्ते टहलाने की नौकरी मिल गई। उस समय उन्हें चार सौ रुपये प्रति कुत्ते मिलते थे। मगर उनके साथ उन्होंने पढाई की और आज वे दिन आ गया जिसके लिए उन्होंने खूब मेहनत की थी।

अगला लेख: बड़ा खुलासा: निर्भया की दर्दनाक कहानी सुनाने के लिए एक लाख रुपये चार्ज करता है उसका दोस्त



अति सुंदर प्रशंसनीय

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2019
दिल्ली मेट्रो भारत की सबसे बड़ी बड़ी मेट्रो लाइन है और ऐसे में दिल्ली सरकार कई तरह की स्कीम इसमें चलाती रहती है। पिछले दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने महिलाओं के लिए मेट्रो का सफर फ्री कर दिया है हालांकि अभी ये लागू नहीं किया गया है। अब दिल्ली मेट्रो से एक ऐसी खबर आ रही है जिससे मेट्र
11 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
आज के दौर में हर किसी को पहचान पाना मुश्किल है। महिला हो या पुरुष किसी का भी दिमाग गलत रास्ते पर निकल सकता है और आमतौर पर हम सभी पुरुष को ही गलत समझते हैं जबकि महिलाएं भी कुछ कम नहीं होती है। ऐसा ही एक किस्सा बिहार की राजधानी पटना में न
14 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
बॉलीवुड में हर कोई अमिताभ बच्चन जैसा मुकाम हासिल करना चाहता है और हर कोई उनके साथ एक बार काम भी करना चाहता है लेकिन ऐसा होना थोडी मुश्किल बात है। फिल्मों में अमिताभ बच्चन ने साल 1969 में फिल्म सात हिंदुस्तानी से अपने करियर की शुरुआत की थी, फिर इसके बाद कुछ फिल्में भी अमिताभ बच्चन की आई लेकिन उन्हें
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
अक्सर आम लोगों में पेट्रोल और डीज़ल के भाव को लेकर सरकार से नाराजगी होती है। पेट्रोल और डीजल से लोगों की भावनाएं जैसे जुड़ी रहती हैं क्योंकि इसके बिना लोगों को काफी समस्या होती है खासकर जिनके पास अपनी गाड़ी होती है। सरकार ने अब नई पेट्रोल और डीजल की कीमत बताई है जो आपको जरूर जाननी चाहिए। आम आदमी को
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
बॉलीवुड में हर कोई अमिताभ बच्चन जैसा मुकाम हासिल करना चाहता है और हर कोई उनके साथ एक बार काम भी करना चाहता है लेकिन ऐसा होना थोडी मुश्किल बात है। फिल्मों में अमिताभ बच्चन ने साल 1969 में फिल्म सात हिंदुस्तानी से अपने करियर की शुरुआत की थी, फिर इसके बाद कुछ फिल्में भी अमिताभ बच्चन की आई लेकिन उन्हें
11 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
साल 1992 से राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद चल रहा है और इसपर आज तक कोई फैसला नहीं लिया गया। अयोध्या में उस स्थान पर मंदिर बनेगा या मस्जिद होगी ये कहा जाना अभी मुश्किल है लेकिन बहुत जल्द ऐसा समय आने वाला जब किसी एक के हक में फैसला आ जाएगा। अभी सुनवाई का दौर सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और इस संभाव
14 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
आधुनिक भारत में बहुत सारी चीजें बदल रही हैं, चीजें डिजिटल हो रही हैं। हर जगह आधुनिकता ही काम हो रहे हैं, रेलवे हो या सिनेमाहॉल जगह डिजिटल भारत अपना परचम लहरा रहा है। अब तक लोगों को जानकारी थी कि अगर लंबी दूरियां तय करनी है तो फ्लाइट का सहारा लिया जाता है लेकिन अगर दिल्ली से वैष्णों देवी जाना है तो
04 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
अक्सर आम लोगों में पेट्रोल और डीज़ल के भाव को लेकर सरकार से नाराजगी होती है। पेट्रोल और डीजल से लोगों की भावनाएं जैसे जुड़ी रहती हैं क्योंकि इसके बिना लोगों को काफी समस्या होती है खासकर जिनके पास अपनी गाड़ी होती है। सरकार ने अब नई पेट्रोल और डीजल की कीमत बताई है जो आपको जरूर जाननी चाहिए। आम आदमी को
11 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x