आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

19 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (458 बार पढ़ा जा चुका है)

आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धाम पर अवतरित हो करके दुष्ट शक्तियों का संहार करके धर्म की स्थापना करते हुए समस्त मानव जाति को एक सूत्र में बांधने का कार्य संपादित करके स्वधाम गमन कर जाते हैं | भगवान के अतिरिक्त सन्त - महंथ , ऋषि - महर्षि एवं महापुरुषों ने हमें जीने के कौन से मार्ग नहीं दिखाए ? मानवता का कौन सा पाठ नहीं पढ़ाया ? जीवनचर्या कैसी होनी चाहिए , परस्पर सामाजिक संबंध कैसे हों , क्या अच्छा-क्या बुरा , क्या पाप तो क्या पुण्य , क्या सद्कर्म तो क्या दुश्कर्म कौन सा क्षेत्र हमारे प्राचीन धर्मगुरुओं अथवा धर्मग्रंथों से अछूता रहा ? शायद कोई भी विषय हमारे महापुरुषों ने अछूता नहीं छोड़ा है | इन महापुरुषों के द्वारा प्रदत्त ज्ञान हमारे धर्म ग्रंथों में भरा पड़ा है जिन्हें पढ़कर उसे जीवन में धारण करके एक साधारण मानव भी महामानव बन सकता है | इस नकलची संसार में पूर्वकाल में भी अनेकों ऐसी महाशक्तियां हुई जो स्वयं को भगवान घोषित करने का प्रयास करती हुई देखी गईं परंतु उनके कर्म मानवता के सर्वदा विरुद्ध थे , यही कारण हुआ की ऐसी अनेक शक्तियां असमय काल के गाल में समाहित हो गई | कहने का तात्पर्य है कि भगवान बन जाना या स्वयं को भगवान कहलवाना तो आसान है परंतु भगवान के तुल्य कर्म करना बहुत कठिन है | यह तथाकथित भगवान यहीं पर परास्त हो जाते हैं और काल कवलित हो जाते हैं |*


*आज कलयुग चल रहा है अभी बहुत समय तो नहीं व्यतीत हुआ है परंतु हमारे धर्म ग्रंथों में कलयुग के विषय में जो लिखा गया है वह धीरे-धीरे घटित होने लगा है | आज के आधुनिक युग में तथाकथित सन्त - महन्थ एवं स्वयंभू भगवान यत्र - तत्र देखने को मिल जा रहे हैं | जहां संतों का कार्य मानव कल्याण बताया गया है वहीं आज के तथाकथित स्वयंभू महंथ / भगवान मानव मात्र की भावनाओं का शोषण करके अपना कल्याण कर रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूं कि आज यदि इन तथाकथित भगवानों एवं संतों का बोलबाला समाज में दिख रहा है तो यह सभ्य समाज की मूर्खता एवं भोलापन ही कहा जाएगा | इसमें यह यमाज भी दोषी है | प्रत्येक व्यक्ति जिस प्रकार इन स्वयंभू भगवानों के बताएं उपायों के चक्कर में फंसकर अनेकों प्रकार के उद्योग करता है उसी प्रकार यदि अपने विवेक का थोड़ा सा प्रयोग करके इन तथाकथित महापुरुषों के पिछले जीवन के विषय में जानने का उद्योग करें तो शायद मानव समाज इन के कुचक्र से बच जाय , परंतु आज अंधभक्ति एवं चमत्कार का बोलबाला है इन तथाकथित महापुरुषों के समक्ष पहुंच जाने के बाद ऐसा लगता है कि मनुष्य विवेक हीन हो जाता है | उसका विवेक तब जागृत होता है जब इन महापुरुषों के पाप समाज में प्रकट होते हैं | आखिर कौन सा ऐसा विषय है जो हमारे धर्म ग्रंथों में नहीं है क्या जानने के लिए ऐसे ढोंगी व्यक्तियों के पास समाज जाता है , यही नहीं समझ में आता | इन तथाकथित महापुरुषों एवं भगवानों से कोई भी धर्म संप्रदाय अछूता नहीं रह गया है | आज प्रत्येक संप्रदाय इनके द्वारा ठगा जा रहा है | आवश्यकता है जागरूक होने की एवं अपने पूर्वज महापुरुषों की बातों को हृदयस्थ करते हुए संत असंत के पहचान करने की |*


*आए दिन देश में किसी न किसी धर्म / संप्रदाय का कोई न कोई तथाकथित धर्माधिकारी अनेक प्रकार के अपराधों में लिप्त होकर के पकड़ा जा रहा है | स्वयं को भगवान घोषित करने वालों का यही परिणाम होता रहा है और आगे भी होता रहेगा |*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अक्तूबर 2019
*दीपावली का पावन पर्व आज हमारे देश में ही नहीं वरन् सम्पूर्ण विश्व में भी यह पर्व मनाया जा रहा है | मान्यता के अनुसार आज दीपमालिकाओं को प्रज्वलित करके धरती से अंधकार भगाने का प्रयास मानव समाज के द्वारा किया जाता है | दीपावली मुख्य रूप से प्रकाश का पर्व है | विचार करना चाहिए कि क्या सिर्फ वाह्य अंधका
27 अक्तूबर 2019
29 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val
29 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
*परमात्मा ने सृष्टि का सृजन करते हुए आकाश , पाताल एवं धरती का निर्माण किया , फिर इसमें पंच तत्वों का समावेश करके जीवन सृजित किया | पृथ्वी पर जीवन तो सृजित हो गया परंतु इस जीवन को संभाल कर उन्नति के पथ पर अग्रसर करने हेतु प्रोत्साहित करने वाले एक योद्धा की आवश्यकता प्रतीत हुई | एक ऐसा योद्धा जो अपनी
21 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*हम उस दिव्य एवं पुण्यभूमि भारत के निवासी हैं जहाँ की संस्कृति एवं सभ्यता को आदर्श मानकर सम्पूर्ण विश्व ने अपनाया था | जहाँ पूर्वकाल में समाज की मान्यताएं थी कि दूसरों की बहन - बेटियों को अपनी बहन -बेटियों की तरह मानो | जहाँ तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा कि :- "जननी सम जानहुँ परनारी ! धन पराव वि
22 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x