जीवन में शान्ति :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (2732 बार पढ़ा जा चुका है)

जीवन में शान्ति :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जन्म लेने के बाद मनुष्य सबकुछ प्राप्त करना चाहता है | परमात्मा की इस सृष्टि में यदि गुण हैं तो दोष भी हैं क्योंकि परमात्मा गुण एवं दोष बराबर सृजित किये हैं | यह मनुष्य के ऊपर निर्भर करता है कि वह क्या ग्रहण करना चाहता है | जीवन भर अनेक सांसारिक सुख साधन के लिए भटकने वाला मनुष्य सबकुछ प्राप्त कर लेने के बाद भी शांति का अनुभव नहीं कर पाता | हमारे महापुरुषों ने शांति का अनुभव करके मानवमात्र को इसे ग्रहण करने का उपदेश दिया है | जीवन में बिना शांति के अनेक वाह्य सुख का अनुभव तो हो सकता है परंतु आंतरिक सुख का अनुभव मनुष्य शांति प्राप्त होने बाद ही कर सकता है | मनुष्य को शान्ति का अनुभव कैसे हो सकता है इस विषय में योगेश्वर श्रीकृष्ण ने गीता में बताया है :--"आपूर्यमाणमचलप्रतिष्ठं समुद्रमाप: प्रविशान्ति यद्वत् ! तद्वत्कामा यं प्रविशन्ति सर्वे स शान्तिमाप्रोन्ति न कामकामी !!" अर्थात :- जैसे सभी नदियों के जल समुद्र को विचलित किए बिना पूर्ण रूप से समुद्र में समा जाते हैं वैसे ही सभी प्रकार के भोग- विलास जिस संयमी मनुष्य में विकार उत्पन्न किए बिना समा जाते हैं | वहीं मनुष्य शांति प्राप्त करता है | भोगों की कामना करने वाले व्यक्ति को शांति नहीं मिलती है | जिस प्रकार नदियां अपने मार्ग में आने वाली सभी प्रकार की वस्तुओं को बहा कर समुद्र में ले जाती हैं , उसी प्रकार कामनाओं की नदी की प्रचंडधारा का तेज आवेग भी भौतिकवादी व्यक्ति के मन को बहाकर ले जाता है | धीर - गम्भीर , योगी का मन उस महासागर की तरह है जिसमें कामना रूपी सरिताएं बिना आंदोलित किए समाहित हो जाती है | मानव कामनाएं अनंत हैं | मन को जीते बिना शांति की कामना करना व्यर्थ है | यदि शांति प्राप्त करने की कामना है तो सर्वप्रथम अपने मन में उत्पन्न भोग - विलास रूपी कामना पर विजय प्राप्त करना होगा अन्यथा मनुष्य के मन को शांति नहीं मिल सकती |*


*आज मनुष्य के पास अनेकों सुख सुविधायें तो हैं परंतु उसको शांति नहीं है | शांति न मिलने का कारण यही है कि आज मनुष्य के मन की कामनायें असीम हो गयी हैं | कुछ प्राप्त कर लेने के बाद मनुष्य और कुछ प्राप्त कर लेने के चक्कर में पड़कर अशान्त बना रहता है | आज मनुष्य को संतोष नहीं है और जब तक संतोष रूपी धन मनुष्य को नहीं प्राप्त होता तब तक उसके जीवन में शांति नहीं आ सकती | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देख रहा हूँ कि परिवार से लेकर समाज तक , राष्ट्र से लेकर विश्व पटल तक चारों ही ओर अशांति का वातावरण फैला हुआ है | इसका मुख्य कारण है मनुष्य की असीम नैतिक / अनैतिक कामनायें | आज मनुष्य अपने मन पर नियंत्रण नहीं रख पा रहा है और अशांति के दलदल में धंसते हुए अधोपतन की ओर अग्रसर है | शांति की खोज में मनुष्य अनेक स्थानों का भ्रमण करके अनेक महापुरुषों की शरण में जाता है परंतु उसे शांति का अनुभव नहीं हो पाता | यदि शांति का अनुभव करना है तो कहीं भी जाने की अपेक्षा मनुष्य को अन्तर्मुखी होकप स्वयं में भ्रमण करना चाहिए , अपने मन को झकझोरना चाहिए जिससे मन की कुत्सित भावनायें पतित होकर नष्ट हो जायं | जब मनुष्य को संतोष प्राप्त हो जायेगा तभी शांति का अनुभव किया जा सकता है |*


*मनुष्य जीवन भर भौतिक सम्पदाओं का संचय करने में लगा रहता है ! यह आवश्यक भी है परंतु इन्हीं के साथ मनुष्य को आध्यात्मिक पथ का पथिक बनकर स्वयं के जीवन में सद्गुणों का भी संचय करते रहना चाहिए ! अन्यथा यह दुर्लभ जीवन व्यर्थ व्यतीत हो जायेगा |*

अगला लेख: आज के भगवान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



अनूप दीक्षित
22 अक्तूबर 2019

मनुष्य जीवन सत्य असत्य गुण अवगुण आशा निराशा सरस एवं नीरसता इन सब से परिचित होने के पश्चात ही उसे सही मार्ग चुनने की प्रेरणा केवल उचित मार्गदर्शन से ही प्राप्त हो सकती है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
*इस धराधाम पर परमात्मा द्वारा सृजित सभी प्रकार के जड़ - चेतन में सबसे शक्तिशाली मनुष्स ही है | सब पर विजय प्राप्त कर लेने वाला मनुष्य किसी से पराजित होता है तो वह उसका स्वयं का मन है जो उसको ऐसे निर्णय व कार्य करने के लिए विवश कर देता है जो कि वह कभी भी करना पसंद नहीं करता | कभी - कभी तो मन के बहकाव
02 नवम्बर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
02 नवम्बर 2019
*प्रत्येक शरीर में एक आत्मा निवास करती है जिस प्रकार भगवान शिव के हाथ में सुशोभित त्रिशूल में ती शूल होते हैं उसी प्रकार आत्मा की तुलना भी एक त्रिशूल से की जा सकती है, जिसमें तीन भाग होते हैं- मन, बुद्धि और संस्कार | इनको त्रिदेव भी कहा जा सकता है | मन सृजनकर्ता ब्रह्मा , बुद्धि संहारकारी शिव तथा सं
02 नवम्बर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x