बिन नारी सब सून :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (4108 बार पढ़ा जा चुका है)

बिन नारी सब सून :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा ने सृष्टि का सृजन करते हुए आकाश , पाताल एवं धरती का निर्माण किया , फिर इसमें पंच तत्वों का समावेश करके जीवन सृजित किया | पृथ्वी पर जीवन तो सृजित हो गया परंतु इस जीवन को संभाल कर उन्नति के पथ पर अग्रसर करने हेतु प्रोत्साहित करने वाले एक योद्धा की आवश्यकता प्रतीत हुई | एक ऐसा योद्धा जो अपनी चिंता न करते हुए जीवन में अनेकों त्याग और बलिदान देते हुए मानव जीवन को सतत पुष्पित पल्लवित करता रहे | परमात्मा ने नारी के रूप में उस योद्धा का चुनाव किया | जिस प्रकार किसी बगीचे को सजाने एवं संवारने में एक माली अपनी नींद , भूख के साथ-साथ धूप , शीत एवं बरसात की चिंता किए बिना लगा रहता है उसी प्रकार एक नारी भी अपनी आवश्यक आवश्यकताओं / अपनी कामनाओं का दमन करके मानव समाज रूपी उपवन को सदैव पुष्पित पल्लवित करने में लगी रहती है | जिस प्रकार माली के बिना कोई बगीचा उजाड़ हो जाता है उसी प्रकार नारी के बिना मानव जीवन भी शमशान की तरह वीरान हो जाता है | ईश्वर की अनुपम कृति नारी इस सृष्टि का मूल है जिसका सम्मान देवताओं ने किया है उसका सम्मान मनुष्य नहीं कर पा रहा है | जब जब मनुष्य पर कोई संकट आया है तब तब नारी शक्ति उनके कंधे से कंधा मिलाकर जीवन के युद्ध में सैनिक की भूमिका निभाती आई है | कभी महालक्ष्मी के रूप में धन-धान्य से परिपूर्ण कर देती है तो कभी मैया सरस्वती के रूप में आकरके विद्या ज्ञान प्रदान करने वाली दुष्टों का संहार करने के लिए महाकाली भी बन जाती है | इन महाशक्तियों का स्वरूप नारी में भी देखने को मिल ही जाता है आवश्यकता है सकारात्मक दृष्टिकोण की |*


*आज चारों और आधुनिकता ने अपने पांव पसार लिए हैं | पश्चिमी सभ्यता को जीवन में उतारने की होड़ सी लगी हुई है | ऐसे में पुण्यभूमि भारत के देव तुल्य प्राणी भी अपनी संस्कृति और संस्कार को भूलते हुए दिखाई पड़ रहे हैं | जिस भारत देश में नारियों को सदैव देवी की संज्ञा दी गई है आज उसी देश में स्थान स्थान पर नारी की अस्मिता दांव पर लगी हुई है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज देख रहा हूं कि वर्तमान समय में पुरुष प्रधान समाज नारी को दलित एवं पतित कहने से भी नहीं चूकता | वह यह भूल जाता है कि उनको जन्म देने वाली माँ भी नारी ही है | घर में कन्या का जन्म होने पर दुर्भाग्य के रूप में , युवती हो जाने पर वासना की दृष्टि से , विवाहोपरांत असमय विधवा हो जाने पर अपशकुन के रूप में एवं वृद्धावस्था में स्वयं की माता को बोझ के रूप में देखने वाला पुरुष प्रधान समाज यह भूल जाता है यदि नारी ना होती तो उनका कोई अस्तित्व नहीं था | आज के युग में जहां नारी पुरुषों के बराबर कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है वहीं कुछ लोग आज भी नारी को हेय दृष्टि से देखते हैं , ऐसे पुरुषों को अपने पुरुषत्व पर मिथ्या अभिमान होता है | आवश्यकता है अपनी मानसिकता बदलने की | मनुष्य को विचार करना चाहिए कि जब भगवान श्रीराम को नारी के बिना यज्ञ करने का अधिकार नहीं प्राप्त हुआ तो साधारण मनुष्यों की क्या बिसात है | नारी प्रेम एवं सम्मान की भूखी होती है , परंतु पुरुष प्रधान समाज नारी को सम्मान ना दे करके सिर्फ उनसे सम्मान पाना चाहता है | यही संभव नहीं हो पा रहा है | सीधा सा अर्थ है सम्मान तभी मिलेगा जब आपमें सम्मानित करने की भी कला होगी |*


*जब नारी के बिना परमात्मा सृष्टि को आगे नहीं बढ़ पाया तुच्छ मनुष्यों को भी विचार करना चाहिए कि नारी की महत्ता क्या है ??*

अगला लेख: नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
27 अक्तूबर 2019
*दीपावली का पावन पर्व आज हमारे देश में ही नहीं वरन् सम्पूर्ण विश्व में भी यह पर्व मनाया जा रहा है | मान्यता के अनुसार आज दीपमालिकाओं को प्रज्वलित करके धरती से अंधकार भगाने का प्रयास मानव समाज के द्वारा किया जाता है | दीपावली मुख्य रूप से प्रकाश का पर्व है | विचार करना चाहिए कि क्या सिर्फ वाह्य अंधका
27 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
*इस संसार में मनुष्य एक चेतन प्राणी है , उसके सारे क्रियाकलाप में चैतन्यता स्पष्ट दिखाई पड़ती है | मनुष्य को चैतन्य रखने में मनुष्य के मन का महत्वपूर्ण स्थान है | मनुष्य का यह मन एक तरफ तो ज्ञान का भंडार है वहीं दूसरी ओर अंधकार का गहरा समुद्र भी कहा जा सकता है | मन के अनेक क्रियाकलापों में सबसे महत्
01 नवम्बर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
पता नहीं ये जो कुछ भी हुआ, वो क्यों हुआ ?पता नहीं क्यों मैं ऐसा होने से नहीं रोक पाया ?मैं जानता था कि ये सब गलत है।लेकिन फिर भी मैं कुछ नहीं कर पाया।आखिर मैं इतना कमजोर क्यों पड़ गया ?मुझमें इतनी बेबसी कैसे आ गयी ?क्यों मेरे दिल ने मुझे लाचार बना दिया ?क्यों इतनी भावनाएं हैंइस दिल में ?क्यों मैंने अ
28 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x