ब्रह्म

21 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

ब्रह्म

ब्रह्म पूर्ण है!
यह जगत् भी पूर्ण है,
पूर्ण जगत् की उत्पत्ति
पूर्ण ब्रह्म से हुई है!
पूर्ण ब्रह्म से
पूर्ण जगत् की
उत्पत्ति होने पर भी
ब्रह्म की पूर्णता में
कोई न्यूनता नहीं
आती!
वह शेष रूप में भी
पूर्ण ही रहता है,
यही सनातन सत्य है!
जो तत्व सदा, सर्वदा,
निर्लेप, निरंजन,
निर्विकार और सदैव
स्वरूप में स्थित रहता
है उसे सनातन या
शाश्वत सत्य कहते हैं।
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

अगला लेख: भक्ति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺मनुष्य के अंदर सब कुछ जाननेवाला जो बैठा है वही है भगवान्।ओत-प्रोत योग से वे हर क्षण हमारे साथ हैं।याने, हम अकेले कदापि नहीं।जब अनंत शक्तिशाली हमारे साथ हैंतो हम असहाय कैसे हो सकते हैं?डर की भावना कभी नहीं रहनी चाहिए--जैसे एक परमाणु है जिसमें एकनाभि है तथा एलेक्ट्रोन्स अपनीधूरि पर
09 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनवंतरी आयुर्वेदाचार्य मृत्युंजीवि औषधि आजीवन बाँटे।आज हम भौतिकता मे लिपट24 कैरेट का खालिस सोना चाटें।।मृत्युदेव तन की हर कोषिका-उतक में शांत छुपा सोया है।मन जीर्ण तन से ऊब कर देखोनूतन भ्रूण खोज रहा है।।लक्ष्मी अँधेरी रात्रि देख आदीपकों की माला सजवाती है।गरीब के झोपड़ में चुल्हे मेंलकड़ी भी नहीं जल प
25 अक्तूबर 2019
20 अक्तूबर 2019
69 वें "जन्म दिन" पर मेरा शुभकारी "फलादेशसूर्य में राहु का उपद्रव- 2020 के बाद सुधार💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐कहते सुना सबसे कि मैंने खोया हीं खोया।टघरते आँसुओं की धार- पीया हीं पीया।।दिल हुआ छलनी, वज़ूद ज़ार - ज़ार हुआ।सब खोया मगर, तेरा मैं तेरा "प्यार" हुआ।।शौहरत-दौलत की- कत्तई ख़्वाहिश न थी,आफ़ताब के आग
20 अक्तूबर 2019
08 अक्तूबर 2019
युद्ध देव दानव का युगों से चलता आया है"कुरुक्षेत्र" बार - बार रक्तिम होता आया हैसंधर्ष यह "मन" का है, ग्रंथों में बाँचा जाता हैमृत्यु काल में मन में वही भाव समक्ष आता हैमन खोज अनुकूल देह भ्रूण में समा जाता हैसंस्कार क्षय कर पूर्ण- दिव्यात्मा कहलाता हैनाशवान इह जगत् से मुक्त हो 'मोक्ष' पाता हैराम
08 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
स्वप्न की गहराई में देखा कितुम मेरे बारे में सोच रहे हो!🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ओ’ मेरे परम प्रिय,ओ’ परम पुरुष! तुम्हारी कृपा सेमैंने अपनी प्रगाढ़ निद्रा की गहराई में देखा कितुम मेरे बारे में सोच रहे हो!हे मेरे परम अराध्य!तुम सचमुच कितने कृपालु हो!! अब तक मैं तुम्हारीप्राप्ति हेतु तरस रहा था!अपने आप को तुम
22 अक्तूबर 2019
18 अक्तूबर 2019
🌹🌹🌹🌹🌹🌹मन बनाया है आज,तुम्हें जैसे भी हो, मना लूँ।दीपवाली के नावें,सारी रात रौशन कर निकाल दूँ!सुबह की खुमारी पुरजोर,गुस्ताखी कोई है मुमक़िऩचुप रहना जरा आज भर,ग़ुजारिस है- तोहफ़ों को बाँट दूँ!!🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷नज़रों का दोष कहें कि मुकद्दर का सौदागर।हर नज़्म लग रहीं है उनको, उम्दा बहर।।🌴
18 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृजनात्मकतासाहित्य श्रिंखला अद्भुत हैअभिव्यक्ति की स्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x