ब्रह्म

21 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

ब्रह्म

ब्रह्म पूर्ण है!
यह जगत् भी पूर्ण है,
पूर्ण जगत् की उत्पत्ति
पूर्ण ब्रह्म से हुई है!
पूर्ण ब्रह्म से
पूर्ण जगत् की
उत्पत्ति होने पर भी
ब्रह्म की पूर्णता में
कोई न्यूनता नहीं
आती!
वह शेष रूप में भी
पूर्ण ही रहता है,
यही सनातन सत्य है!
जो तत्व सदा, सर्वदा,
निर्लेप, निरंजन,
निर्विकार और सदैव
स्वरूप में स्थित रहता
है उसे सनातन या
शाश्वत सत्य कहते हैं।
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

अगला लेख: भक्ति



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 नवम्बर 2019
📱 📱📱📱📱 #मोबाइल_एरा 📱📱📱📱 📱मोबाइल ने घर - घर में धनधोर "संग्राम" छेड़ रखा है।नवजात शिशु उफ़! मोबाइल की ओर अरे! लपका है।।रिश्ते सिमट कर सारे एन्ड्राइड से चिपक गुम हुए हैं।आस - पास बैठे हैं मगर, "मिनी केक" सेंड किए हैं।।पति - पत्नी को गुड - नाइट कर शाम ढ़ले सुलाता है।हूर कि परियों से इस्टाग्रा
01 नवम्बर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनवंतरी आयुर्वेदाचार्य मृत्युंजीवि औषधि आजीवन बाँटे।आज हम भौतिकता मे लिपट24 कैरेट का खालिस सोना चाटें।।मृत्युदेव तन की हर कोषिका-उतक में शांत छुपा सोया है।मन जीर्ण तन से ऊब कर देखोनूतन भ्रूण खोज रहा है।।लक्ष्मी अँधेरी रात्रि देख आदीपकों की माला सजवाती है।गरीब के झोपड़ में चुल्हे मेंलकड़ी भी नहीं जल प
25 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
स्वप्न की गहराई में देखा कितुम मेरे बारे में सोच रहे हो!🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ओ’ मेरे परम प्रिय,ओ’ परम पुरुष! तुम्हारी कृपा सेमैंने अपनी प्रगाढ़ निद्रा की गहराई में देखा कितुम मेरे बारे में सोच रहे हो!हे मेरे परम अराध्य!तुम सचमुच कितने कृपालु हो!! अब तक मैं तुम्हारीप्राप्ति हेतु तरस रहा था!अपने आप को तुम
22 अक्तूबर 2019
01 नवम्बर 2019
😭😭😭😭😭😭अश्कों से परेशान न होसमझ जैसे मेहमान होगम गतल करना हो तोखुदा संग जरा बात हो🤓🤓🤓🤓🤓🤓डॉ. कवि कुमार निर्मल
01 नवम्बर 2019
19 अक्तूबर 2019
रावण हर साल जल कर राख से जी उठता हैराम का तरकश खाली हो फिर भरता रहता हैयह राम रावण का युद्ध अनवरत मन में चलता हैखूँटे से बँधा स्वतंत्र हो लक्ष्मी संग विचरण करता हैसुर्य अस्त हो नित्य आभा बिखेर आलोकित करता हैअष्ट-पाश सट्-ऋपुओं के समन हेतु हमें यज्ञ करना हैसाघना-सेवा-त्याग से दग्ध मानवता को त्राण देना
19 अक्तूबर 2019
08 अक्तूबर 2019
युद्ध देव दानव का युगों से चलता आया है"कुरुक्षेत्र" बार - बार रक्तिम होता आया हैसंधर्ष यह "मन" का है, ग्रंथों में बाँचा जाता हैमृत्यु काल में मन में वही भाव समक्ष आता हैमन खोज अनुकूल देह भ्रूण में समा जाता हैसंस्कार क्षय कर पूर्ण- दिव्यात्मा कहलाता हैनाशवान इह जगत् से मुक्त हो 'मोक्ष' पाता हैराम
08 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
धनवंतरी आयुर्वेदाचार्य मृत्युंजीवि औषधि आजीवन बाँटे।आज हम भौतिकता मे लिपट24 कैरेट का खालिस सोना चाटें।।मृत्युदेव तन की हर कोषिका-उतक में शांत छुपा सोया है।मन जीर्ण तन से ऊब कर देखोनूतन भ्रूण खोज रहा है।।लक्ष्मी अँधेरी रात्रि देख आदीपकों की माला सजवाती है।गरीब के झोपड़ में चुल्हे मेंलकड़ी भी नहीं जल प
25 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
सृ
साहित्य श्रिंखलाअद्भुत हैअभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
28 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
23 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x