हाल ए दर्द

22 अक्तूबर 2019   |  pradeep   (3912 बार पढ़ा जा चुका है)

आसमां वाले को जो सुनाया हाल-ए-दर्द अपना,

ज़मीं पर ज़िन्दगी कुछ और मुश्किल हो गई.

शायद दर्द में कुछ कमी नज़र आई उसको,

अब तो बेहाल यूँ अपनी ज़िंदगी हो गई .

बताया उसको था उन बिन ना मैं जी सकूंगा,

उसके बाद वो हमसे और भी दूर हो गई, (आलिम)

अगला लेख: दर्दे-इश्क



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अक्तूबर 2019
बे
जब बेख़ौफ़ को जीना पड़े ख़ौफ़ में, उस दौर में बेख़ौफ़ भी क्या चीज़ है. जिंदगी मिलना बड़ी बात नहीं, बड़ी बात तो जीना है ज़िंदगी. इम्तिहान उनका भी होता है, जो इम्तिहान से डरते है, ना जाने फिर भी लोग क्यों इम्तिहान से डरते है. मौत का आना कोई नई बात नहीं ' आलिम '
07 अक्तूबर 2019
14 अक्तूबर 2019
इं
इंतज़ार करता रहा और शाम हो गई, ना जाने उनके आने में क्यों देर हो गई. बाकी है कुछ लम्हे यूँही ना गुज़र जाये,आने तक तेरे जिंदगी की ना रात हो जाए. (आलिम)
14 अक्तूबर 2019
12 अक्तूबर 2019
पुराणों के अनुसार 10 भाइयों ने १हज़ार साल समुन्द्र के अंदर तपस्या की थी एक पत्नी की प्राप्ति के लिए जब वो तपस्या करके पृथ्वी पर आये तो पृथ्वी पूरी तरह पेड़ पौधो से ढकी हुई थी जहाँ रहना असंभव था. पूरी पृथ्वी पर वनस्पति का अधिकार
12 अक्तूबर 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x