नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (422 बार पढ़ा जा चुका है)

नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्यौहार एवं पर्व देखने को मिलते हैं | अभी चार दिन पहले सौभाग्यवती महिलाओं ने अपने पति की लंबी आयु के लिए करवा चौथ का निर्जल एवं कठिन व्रत संपन्न किया है | पुन: आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को माताएं अपने पुत्र की लंबी आयु एवं संतानोत्पत्ति के लिए अहोई अष्टमी का कठिन व्रत करेंगी | अहोई अर्थात अनहोनी से बचाने वाला व्रत | अपनी संतान को किसी भी अनिष्ट से बचाने के लिए यह निर्जल व्रत किया जाता है | दिन भर निर्जल व्रत रहकर के सायंकाल को पूजन करके तारों के उदय होने पर इस व्रत को समाप्त किया जाता है | इसका विधान तो चंद्रोदय पर व्रत समाप्त करने का है परंतु प्रायः महिलाएं तारों के उदय होने पर ही अर्घ्य देकर व्रत का समापन कर देती हैं | आज के दिन मातायें अपनी संतानों की लम्बी आयु और स्वास्थ्य के लिए यह कठिन व्रत करती हैं | करवा चौथ की ही भाँति प्रात:काल स्नान - ध्यान कर , स्वच्छ वस्त्र धारण करते मिट्टी के मटके में पानी भरकर अहोई माता का वूजन करने का विधान है | दिन भर निर्जल रहकर सायंकाल को पूजन करके पूरी , हलवा , चना आदि का भोग समर्पित करके अहोई माता से अपनी संतान के सुखद जीवन एवं लम्बी आयु की प्रार्थना की जाती है | पुरुष किसी भी रुप में नारी को माने या न माने , सम्मान करे या न करे परंतु नारी अपने सभी रूपों में सदैव पुरुषों के लिए मंगल कामना ही करती है |*


*आज जिस प्रकार अपने माता पिता को छोड़ कर के संतानें उनसे अलग एकल परिवार बना रही हैं , उससे माता-पिता को कष्ट तो होता है परंतु इतना होने के बाद भी स्वयं को छोड़कर चली गई संतान के लिए भी यह व्रत माताएं बड़ी श्रद्धा से मनाती हैं | पुत्र के द्वारा तिरस्कृत एवं उपेक्षित कर देने के बाद भी उसी पुत्र के लिए कठिन व्रत करना यह दर्शाता है कि नारियां कितनी ममतामयी एवं त्याग की मूर्ति होती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज में देख रहा हूं कि किस प्रकार संतान अपनी मां को अपनी पत्नी की झूठी शिकायत पर उसी पत्नी के सामने तिरस्कृत करता है वह यह भूल जाता है कि पत्नी तो युवावस्था में प्राप्त हुई है परंतु जन्म से लेकर पत्नी प्राप्त होने तक इसी माता ने अपने ममता के आँचल तले उसका पालन पोषण किया है | परंतु पत्नी के मोहपाश में अंततोगत्वा पुत्र या तो माँ को घर से निकाल देता है या फिर ले जाकर वृद्ध आश्रम में छोड़ आता है | पुत्र के द्वारा ऐसा कृत्य किए जाने के बाद भी माताएं अपने पुत्र की कुशल कामना के लिए पुत्र से संबंधित कोई भी व्रत करना छोड़ती नहीं | विचार कीजिए इतना बड़ा त्याग इतनी बड़ी तपस्या एक नारी केअतिरिक्त कोई पुरुष भी कर सकता है ?? शायद ऐसा कहीं देखने को नहीं मिलता है | संतान के द्वारा मिले तिरस्कार एवं उपेक्षा कुछ ही समय बाद कोमल हृदय वाली माताएं भूल जाती हैं तथा वही प्रेम दर्शाती हुई इन कठिन व्रतों का पालन करती हैं | नारियों के कठिन व्रतों को देखते हुए पुरुष समाज को भी विचार करना चाहिए कि जिस नारी को इतनी उपेक्षा की दृष्टि से देखते हैं वही पुरुष समाज के लिए यदि कठिन से कठिन व्रत का पालन कर रही है तो पुरुष समाज भी उनको सम्मान देने के लिए उत्तरदायी है |*


*समय-समय पर पुरुष समाज के लिए कठिन व्रत एवं उपवासों के द्वारा सनातन संस्कृति एवं मान्यताओं को संरक्षित करने में नारी के महत्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता |*

अगला लेख: ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 अक्तूबर 2019
27 अक्टूबर के दिन पूरा देश दीपावली का शुभ त्यौहार मनाएगा। हर कोई इसकी खरीदारी और तैयारी में लगा हुआ है लेकिन अगर इनमें सबसे अहम बात को जाना जाए तो पूजा सबसे अहम होती है। अगर दीपावली वाले दिन पूजा नहीं हो तो ये दिन मनाने का कोई मतलब नहीं होता है। यहां हम आपको दीपावली मनाने का तरीका और शुभ मुहूर्त के
24 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
इस संसार में महिलाओं का जीवन सरल नहीं है और हर पग पर उन्हें कोई ना कोई परीक्षा देनी होती है। उनके ही कारण रमायण, महाभारत जैसे कई युद्ध हुए लेकिन फिर भी हिंदू धर्म में कहीं ना कहीं महिलाओं को देवी का दर्जा दिया गया है। मगर इस्लामिक धर्म
22 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
भारत में जितने भी बड़े-बड़े व्यापारी और सेलिब्रिटीज हैं उनके अपने पर्सनल पंडितजी होते हैं। जिनसे पूछकर ही वे अपने सारे शुभ काम करते हैं। ऐसा हर कोई करता है और धार्मिक गुरु पर उनका ये विश्वास ही उन्हें सच्ची सफलता प्रदान करता है। ज्योतिषीयों के बारे में बहुत सारी बातें होती हैं जिन्हें समझने के लिए ज
24 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
31 अक्तूबर 2019
..... इंसानियत ही सबसे पहले धर्म है, इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का......"जय हिन्द"
31 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x