नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (413 बार पढ़ा जा चुका है)

नारी का त्याग / अहोई अष्टमी :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्यौहार एवं पर्व देखने को मिलते हैं | अभी चार दिन पहले सौभाग्यवती महिलाओं ने अपने पति की लंबी आयु के लिए करवा चौथ का निर्जल एवं कठिन व्रत संपन्न किया है | पुन: आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को माताएं अपने पुत्र की लंबी आयु एवं संतानोत्पत्ति के लिए अहोई अष्टमी का कठिन व्रत करेंगी | अहोई अर्थात अनहोनी से बचाने वाला व्रत | अपनी संतान को किसी भी अनिष्ट से बचाने के लिए यह निर्जल व्रत किया जाता है | दिन भर निर्जल व्रत रहकर के सायंकाल को पूजन करके तारों के उदय होने पर इस व्रत को समाप्त किया जाता है | इसका विधान तो चंद्रोदय पर व्रत समाप्त करने का है परंतु प्रायः महिलाएं तारों के उदय होने पर ही अर्घ्य देकर व्रत का समापन कर देती हैं | आज के दिन मातायें अपनी संतानों की लम्बी आयु और स्वास्थ्य के लिए यह कठिन व्रत करती हैं | करवा चौथ की ही भाँति प्रात:काल स्नान - ध्यान कर , स्वच्छ वस्त्र धारण करते मिट्टी के मटके में पानी भरकर अहोई माता का वूजन करने का विधान है | दिन भर निर्जल रहकर सायंकाल को पूजन करके पूरी , हलवा , चना आदि का भोग समर्पित करके अहोई माता से अपनी संतान के सुखद जीवन एवं लम्बी आयु की प्रार्थना की जाती है | पुरुष किसी भी रुप में नारी को माने या न माने , सम्मान करे या न करे परंतु नारी अपने सभी रूपों में सदैव पुरुषों के लिए मंगल कामना ही करती है |*


*आज जिस प्रकार अपने माता पिता को छोड़ कर के संतानें उनसे अलग एकल परिवार बना रही हैं , उससे माता-पिता को कष्ट तो होता है परंतु इतना होने के बाद भी स्वयं को छोड़कर चली गई संतान के लिए भी यह व्रत माताएं बड़ी श्रद्धा से मनाती हैं | पुत्र के द्वारा तिरस्कृत एवं उपेक्षित कर देने के बाद भी उसी पुत्र के लिए कठिन व्रत करना यह दर्शाता है कि नारियां कितनी ममतामयी एवं त्याग की मूर्ति होती है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज में देख रहा हूं कि किस प्रकार संतान अपनी मां को अपनी पत्नी की झूठी शिकायत पर उसी पत्नी के सामने तिरस्कृत करता है वह यह भूल जाता है कि पत्नी तो युवावस्था में प्राप्त हुई है परंतु जन्म से लेकर पत्नी प्राप्त होने तक इसी माता ने अपने ममता के आँचल तले उसका पालन पोषण किया है | परंतु पत्नी के मोहपाश में अंततोगत्वा पुत्र या तो माँ को घर से निकाल देता है या फिर ले जाकर वृद्ध आश्रम में छोड़ आता है | पुत्र के द्वारा ऐसा कृत्य किए जाने के बाद भी माताएं अपने पुत्र की कुशल कामना के लिए पुत्र से संबंधित कोई भी व्रत करना छोड़ती नहीं | विचार कीजिए इतना बड़ा त्याग इतनी बड़ी तपस्या एक नारी केअतिरिक्त कोई पुरुष भी कर सकता है ?? शायद ऐसा कहीं देखने को नहीं मिलता है | संतान के द्वारा मिले तिरस्कार एवं उपेक्षा कुछ ही समय बाद कोमल हृदय वाली माताएं भूल जाती हैं तथा वही प्रेम दर्शाती हुई इन कठिन व्रतों का पालन करती हैं | नारियों के कठिन व्रतों को देखते हुए पुरुष समाज को भी विचार करना चाहिए कि जिस नारी को इतनी उपेक्षा की दृष्टि से देखते हैं वही पुरुष समाज के लिए यदि कठिन से कठिन व्रत का पालन कर रही है तो पुरुष समाज भी उनको सम्मान देने के लिए उत्तरदायी है |*


*समय-समय पर पुरुष समाज के लिए कठिन व्रत एवं उपवासों के द्वारा सनातन संस्कृति एवं मान्यताओं को संरक्षित करने में नारी के महत्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता |*

अगला लेख: ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 अक्तूबर 2019
ग्रह डालते हैं जीवन पर असर, इनके अनुसार करें बिजनेसअगर आप एक बिजनेस मैन है और आपका बिजनेस ठीक से फल फूल नहीं रहा है तो इसके पीछे उसके ग्रह की स्थिति हो सकती है। आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि किसी भी व्यवसाय के पीछे कोई एक ग्रह जरूर होता है। अगर वह ग्रह अच्छा है तो व्यवस
15 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*इस संसार में जन्म लेने के बाद प्रत्येक जीव का उद्देश्य होता है भगवान की भक्ति करके उनका दर्शन करने एवं मोक्ष प्राप्त करना | इसके लिए अनेक साधन बताये गये हैं , इन सभी प्रकार के साधनों में एक विशेष बात होती है निरन्तरता | अनन्य भाव के साथ निरन्तर प्रयास करने से इस सृष्टि में कुछ भी असम्भव नहीं है | अ
11 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*हमारा देश भारत आध्यात्मिक सांस्कृतिक एवं वैज्ञानिक दृष्टि से आदिकाल से ही सर्वश्रेष्ठ रहा है | संपूर्ण विश्व भारत देश से ही ज्ञान - विज्ञान प्राप्त करता रहा है | संपूर्ण विश्व में भारत ही एक ऐसा देश है जहां समय-समय पर ईश्वरीय शक्तियों ने अवतार धारण किया जिन्हें भगवान की संज्ञा दी गई | भगवान धरा धा
19 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन पा करके मनुष्य लंबी आयु जीता है | जीवन को निरोगी एवं दीर्घ जीवी रखने के लिए मनुष्य की मुख्य आवश्यकता है भोजन करना | पौष्टिक भोजन करके मनुष्य एक सुंदर एवं स्वस्थ शरीर प्राप्त करता है | मानव जीवन में भोजन का क्या महत्व है इसको बताने की आवश्यकता नहीं है , नित्य अपने घरों में अनेकों प्रकार
28 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
सुप्रीमकोर्ट में अब हिंदू और मुस्लिम पक्ष से सारी दलीलें 16 अक्टूबर को ही बंद कर दी गई थी। अब इस राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर फैसला दीवाली की छुट्टियों के बाद आ सकता है। पूरा देश अपने-अपने समर्थन में फैसला आने का इंतजार कर रहे हैं मगर क्या आपको ये मामला पूरी तरह से पता है? अगर पता है तो क्या आपको
24 अक्तूबर 2019
30 अक्तूबर 2019
*मानव जीवन में पवित्रता का बहुत बड़ा महत्त्व है | प्रत्येक मनुष्य स्वयं को स्वच्छ एवं पवित्र रखना चाहता है | नित्य अनेक प्रकार से संसाधनों से स्वयं के शरीर को चमकाने का प्रयास मनुष्य द्वारा किया जाता है | क्या पवित्रता का यही अर्थ हो सकता है ?? हमारे मनीषियों ने बताया है कि प्रत्येक तन के भीतर एक मन
30 अक्तूबर 2019
28 अक्तूबर 2019
*कार्तिक माह में चल रहे "पंच महापर्वों" के चौथे दिन आज अन्नकूट एवं गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाएगा | भारतीय सनातन त्योहारों की यह दिव्यता रही है कि उसमें प्राकृतिक , वैज्ञानिक कारण भी रहते हैं | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे हुए सनातन धर्म के त्योहार आम जनमानस पर अपना अमिट प्रभाव छोड़ते हैं
28 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
उज्जैन (मध्यप्रदेश) निवासी आदरणीय पंडित सूर्य नारायण व्यास वह मूर्धन्य विद्वान ज्योतिषी थे जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का मुहूर्त 14 अगस्त की रात्रिकालीन अभिजीत (12 बजे ) या ये कहें की 15 अगस्त की सुबह 00 बजे का निकला था l स्वतंत्र भारत का जन्म 15 अगस्त 1947 को मध्यरात्रि दिल्ली में हुआ था और कुंडल
24 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x