बढ़ती अश्लीलता / जिम्मेदार कौन ??? :- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 अक्तूबर 2019   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (429 बार पढ़ा जा चुका है)

बढ़ती अश्लीलता / जिम्मेदार कौन ??? :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हम उस दिव्य एवं पुण्यभूमि भारत के निवासी हैं जहाँ की संस्कृति एवं सभ्यता को आदर्श मानकर सम्पूर्ण विश्व ने अपनाया था | जहाँ पूर्वकाल में समाज की मान्यताएं थी कि दूसरों की बहन - बेटियों को अपनी बहन -बेटियों की तरह मानो | जहाँ तुलसीदास जी ने अपने मानस में लिखा कि :- "जननी सम जानहुँ परनारी ! धन पराव विष ते विष भारी !!" अर्थात :- पराई स्त्री में अपनी माँ का स्वरूप देखो | पराये धन को विष के समान जानो | जहाँ यह मान्यता थी कि भाभी माँ के समान होती है | हमें यह सिखाया जाता है कि बुजुर्गों का सम्मान करो , समाजिक बुराइयों का विरोध करो , धर्म की रक्षा अपने प्राण देकर भी करो | मार्ग पर पड़े असहाय घायलों की सहायता करो , अतिथि भगवान् के रूप होते हैं | इसके अतिरिक्त यह भी बताया - सिखाया जाता था कि बड़ो का सम्मान करो , गुरुओं की आज्ञा का पालन करों | हमारे देश में नवरात्रि पर कन्याओं को माँ के रूप में पूजन होता था | यही था हमारा समाज , यही थीं हमारी मान्यतायें , इन्हीं मान्यताओं एवं सभ्यताओं के बल पर हमारा देश भारत विश्वगुरु बना था | फिर अचानक हमारे देश की सभ्यता एवं संस्कृति को क्या हो गया ?? जहाँ कन्या , नारी अपनी मर्यादा का पालन करती थीं वहीं अभिभावक भी अपनी कन्याओं को किसी मणि की तरह रखते थे | एक नारी का मुख्य आभूषण उसकी मर्यादा एवं लज्जा होती थी | परंतु आज यदि कुछ भी शेष नहीं बचा है तो इसके कारणों पर विचार करने की आवश्यकता है |*


*आज हम स्वयं को आधुनिक कहकर गौरवान्वित होते हैं | परंतु आधुनिक होने का अर्थ क्या यही हुआ कि हम अपनी मर्यादा को भूल जायं ? आज जो अश्लीलता हम सबको सड़कों पर , पार्कों में , क्लबों में दिख रहा है , वास्तव में इसका जिम्मेदार कौन है ?? इसके जिम्मेदार समाज के ठेकेदार एवं अभिभावक ही हैं | आज नारियों के प्रति यदि अत्याचार , यौन उत्पीड़न की घटनायें बढ़ रही हैं तो इसके जिम्मेदार जितना युवक हैं उससे कहीं ज्यादा स्वयं को आधुनिक मानकर अंग प्रदर्शित करते हुए वस्त्रों को पहनने वाली युवतियाँ भी हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह भी देख रहा हूँ कि आज हमारी बेटी की शिकायत जब कोई जानकार या पडोसी करने आता है तो हम अपनी बेटी का दोष ना देकर उसके सामने ही उस जानकार या पडोसी के इज्जत की धज्जियाँ उदा देते हैं उनसे लड़ बैठते हैं कि आप " होते कौन है हमारी बेटी पर अंगुली उठाने वाले इस प्रकार बेटी की गलतियों को बढ़ाकर उसका मनोबल बढ़ा रहे है और दूसरी तरफ समाज के मुँह पर थप्पड़ मार रहे हैं | सारा दोष समाज का देने वाले माता - पिता या पति को यह नहीं दिखाई पड़ता कि हमारी पुत्रियां या पत्नी कैसे वस्त्र पहन रही हैं | आधुनिकता एवं स्वतंत्रता के नाम पर जो नंगा नाच नाचा जा रहा है उसका जिम्मेदार क्या सिर्फ पुरुष समाज ही है ?? जी नहीं | नारी का आभूषण लज्जा ही है है | प्रत्येक नारी जाति को मर्यादा की लक्ष्मण रेखा लाँघने का प्रयास नहीं करना चाहिए | लक्ष्मणरेखा का उल्लंघन करने पर जब जगज्जननी माता सीता का हरण हो गया तो साधारण स्त्री की क्या बिसात है |*


*आज जो समाज हम देख रहे हैं उसमें संस्कार एवं सभ्यता स्वयं रोगी हो गयी है इसके जिम्मेदार मुख्यरूप से समाज के ठेकेदार एवं अभिभावक को ही कहा जायेगा |*

अगला लेख: ब्रह्मचर्य क्या है ??:-- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म एक दिव्य एवं अलौकिक परंपरा को प्रस्तुत करता है , समय-समय पर सनातन धर्म में प्रत्येक प्राणी के लिए व्रत एवं पर्वों का महत्व रहा है | परिवार के जितने भी सदस्य होते हैं उनके लिए अलग अलग व्रतविशेष का विधान सनातन धर्म में ही प्राप्त होता है | सृष्टि का आधार नारी को माना गया है | एक नारी के द्
17 अक्तूबर 2019
24 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म में मानव जीवन को चार भागों में विभक्त करते हुए इन्हें आश्रम कहा गया है | जो क्रमश: ब्रह्मचर्य , गृहस्थ , सन्यास एवं वानप्रस्थ के नाम से जाना जाता है | जीवन का प्रथम आश्रम ब्रह्मचर्य कहा जाता है | ब्रह्मचर्य एक ऐसा विषय है जिस पर आदिकाल से लेकर आज तक तीखी बहस होती रही है | स्वयं को ब्रह्म
24 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*संपूर्ण विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां के संस्कार एवं संस्कृति संपूर्ण विश्व पर अमिट छाप छोड़ती है | भारत ही ऐसा देश है जहां समय-समय पर नारायण ने अनेक रूपों में अवतार लिया है | वैसे तो भगवान के प्रत्येक अवतार ने कुछ ना कुछ मर्यादाएं स्थापित की हैं परंतु त्रेतायुग में अयोध्या के महाराज दशरथ के यह
11 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC
19 अक्तूबर 2019
06 नवम्बर 2019
*इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए जिस प्रकार हवा , अग्नि एवं अन्न / जल की आवश्यकता होती है उसी प्रकार एक सुंदर जीवन जीने के लिए मनुष्य में संस्कारों की आवश्यकता होती है | व्यक्ति का प्रत्येक विचार , कथन और कार्य मस्तिष्क पर प्रभाव डालता है इसे ही संस्कार कहा जाता है | इन संस्कारों का समष्टि रूप ही चर
06 नवम्बर 2019
31 अक्तूबर 2019
*मनुष्य इस धरा धाम पर जन्म लेकर के जीवन भर अनेकों कृत्य करते हुए अपनी जीवन यात्रा पूर्ण करता है | इस जीवन अनेक बार ऐसी स्थितियां प्रकट हो जाती है मनुष्य किसी वस्तु , विषय या किसी व्यक्ति के प्रति इतना आकर्षित लगने लगता है कि उस वस्तु विशेष के लिए कई बार संसार को भी ठुकराने का संकल्प ले लेता है | आखि
31 अक्तूबर 2019
21 अक्तूबर 2019
*परमात्मा ने सृष्टि का सृजन करते हुए आकाश , पाताल एवं धरती का निर्माण किया , फिर इसमें पंच तत्वों का समावेश करके जीवन सृजित किया | पृथ्वी पर जीवन तो सृजित हो गया परंतु इस जीवन को संभाल कर उन्नति के पथ पर अग्रसर करने हेतु प्रोत्साहित करने वाले एक योद्धा की आवश्यकता प्रतीत हुई | एक ऐसा योद्धा जो अपनी
21 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
19 अक्तूबर 2019
*इस धरा धाम पर वैसे तो मनुष्य की कई श्रेणियां हैं परंतु आध्यात्मिक दृष्टि से मनुष्य को दो श्रेणियों में बांटा गया है :- प्रथम भक्त एवं दूसरा ज्ञानी | भक्त एवं ज्ञानी दोनों ही आध्यात्मिक पथ के पथिक हैं परंतु दोनों में भी भेद है | जहाँ भक्त बनना कुछ सरल है वहीं ज्ञानी बनना अत्यंत कठिन | भक्तों के लिए
19 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
*सनातन धर्म के मानने वाले भारत वंशी सनातन की मान्यताओं एवं परम्पराओं को आदिकाल से मानते चले आये हैं | इन्हीं मान्यताओं एवं परम्पराओं ने सम्पूर्ण विश्व के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है | सनातन की संस्त परम्पराओं में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से वैज्ञानिकता भी ओतप्
25 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
*सृष्टि के आदिकाल में परब्रह्म के द्वारा वेदों का प्राकट्य हुआ | वेदों को सुनकर हमारे ऋषियों ने शास्त्रों की रचना की | उन्हीं को आधार मानकर हमारे महापुरुषों के द्वारा अनेकानेक ग्रंथों की रचना की गयी जो कि मानव मात्र के लिए एक मार्गदर्शक की भूमिका में रहे हैं | इन ग्रंथों का मानव जीवन में बहुत ही महत
13 अक्तूबर 2019
22 अक्तूबर 2019
*भारत देश में अपने परिवार तथा समाज को संपन्न एवं दीर्घायु की कामना से नारियों ने समय-समय पर कठिन से कठिन व्रत का पालन किया है | वैसे तो वर्ष भर कोई न कोई पर्व एवं त्योहार यहां मनाया जाता रहता है , परंतु कार्तिक मास विशेष रुप से पर्व एवं त्योहारों के लिए माना जाता है | कार्तिक मास में नित्य नए-नए त्य
22 अक्तूबर 2019
11 अक्तूबर 2019
*माता - पिता के संयोग से परिवार में जन्म लेने के बाद मनुष्य धीरे धीरे समाज को जानता - पहचानता है क्योंकि मनुष्य एक सामाजिक जीव है। समाज ही उसका कर्मक्षेत्र है। अतः उसे स्वयं को समाज के लिए उपयोगी बनाना पड़ता है। मनुष्य ईश्वर की भक्ति एवं सेवा बहुत ही तन्मयता से करता है परंतु समाज की ओर बगुत ही कम ध्य
11 अक्तूबर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x