सच में देश बदल देंगे मोदी

22 अक्तूबर 2019   |  शालिनी कौशिक एडवोकेट   (413 बार पढ़ा जा चुका है)

BJP

@BJP4India


मैं सोशल मिडिया जरूर देखता हूं इससे मुझे बाहर क्या चल रहा है इसकी जानकारी मिलती है।


मैं आपका भी और टविंकल खन्ना जी का भी ट्विटर देखता हूं और जिस तरह वो मुझ पर गुस्सा निकालती हैं तो मैं समझता हूं की इससे आपके परिवार में बहुत शांति रहती होगी:पीएम #ModiWithAkshay #BharatKaGarvModi


ये ट्वीट है देश के सर्वाधिक महत्वपूर्ण व्यक्ति का और ये भी ध्यान देने की बात है कि ये ट्वीट प्रधानमंत्री जी ने अपने परम प्रिय अक्षय कुमार की पत्नी व बॉलिवुड अभिनेत्री टविंकल खन्ना के ट्विटर अकाउंट पर दी हैं और ऐसा नहीं है कि केवल इन्हीं से प्रधानमंत्री जी की मित्रता या मेल मिलाप है बल्कि अब तक के मोदी जी के आकलन में यह तथ्य प्रमुखता से उभरकर सामने आया है कि बॉलिवुड से जुड़ी लगभग हर नामचीन हस्ती से प्रधानमंत्री जी किसी न किसी तरह जुड़ने के बहाने खोजते रहते हैं इसलिए चाहे स्वच्छता अभियान हो, इंटरव्यू हो, गांधी जी की जन्मशती का इवेंट हो हर जगह बॉलिवुड के जमघट में मोदी जी घिरे हुए नज़र आते हैं और कभी बॉलिवुड स्टार तो कभी मोदी जी सेल्फी लेने को आतुर दिखाई देते हैं.

पीएम मोदी ने महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष के खास मौके पर कला और सिनेमा हस्तियों से अपने आवास पर मुलाकात की। (PTI Photo)

इस इवेंट में बॉलीवुड के कई सेलेब्स शामिल हुए। इसमें शाहरुख खान, आमिर खान, आनंद एल राय, कपिल शर्मा, कंगना रनौत, एकता कपूर, जैकलीन फर्नांडिस और सोनम कपूर जैसे नाम शामिल थे। (PTI Photo)


यही नहीं इससे पहले का जो समाचार अभी तक उपलब्ध है उसके अनुसार रणवीर सिंह, रणबीर कपूर, आयुष्मान खुराना और कई अन्य सहित बॉलीवुड के कई युवा अभिनेताओं की एक पोशाक ने गुरुवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के लिए मुंबई से दिल्ली के लिए उड़ान भरी। बैठक का आयोजन निर्देशक-निर्माता करण जौहर और फिल्म प्रस्तुतकर्ता और निर्माता महावीर जैन ने किया था।

मोदी जी की बॉलिवुड के साथ व्यस्तता का आलम यह है कि हमारे किसान और सेवा निवृत्त जवान उनसे समय मांगते मांगते थक जाते हैं पर उनके लिये मिलने का कोई समय वे नहीं दे पाते क्योंकि पहले तो विदेश यात्राएं और फिर बॉलिवुड का चस्का, समय मिलता ही कहाँ है.


: वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर तीनों सेनाओं के 10 पूर्व प्रमुखों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को खुली चिट्ठी लिखी उन्होंने लिखा कि वे 14 अगस्त को जंतर-मंतर पर पूर्व सैनिकों के साथ हुए खराब बर्ताव से आहत हुए, इस मामले को लेकर जंतर-मंतर पर पूर्व सैनिक कर्नल पुष्पेंदर और हवलदार मेजर सिंह भूख हड़ताल पर बैठ गए.


खत लिखने वाले पूर्व सैनिकों के नाम...

जनरल (रिटायर्ड) वीएन सिंह


जनरल (रिटायर्ड) शंकर रॉय चौधरी

जनरल (रिटायर्ड) एस पद्मनाभन


जनरल (रिटायर्ड) एनसी विजजनरल (रिटायर्ड) जेजे सिंह


जनरल (रिटायर्ड) दीपक कपूर


जनरल (रिटायर्ड) बिक्रम सिंह


एडमिरल (रिटायर्ड) माधवेंद्र सिंह


एयर चीफ मार्शल (रिटायर्ड) एनसी सूरी


एयर चीफ मार्शल (रिटायर्ड) एसपी त्यागी

इसी के साथ एक रिटायर्ड सैनिक वीपीएस पनवर ने बताया, “मैं पिछले दो साल से पुरानी पेंशन बहाल करने, वीरगति को प्राप्त होने वाले जवानों को शहीद का दर्जा दिए जाने और वन रैंक वन पेंशन की मांग कर रहा हूं. इस बारे में गृह मंत्रालय और पीएमओ सहित सभी संबंधित विभागों को दर्जनों चिठ्ठी लिखी जा चुकी हैं.

लेकिन हैरत की बात ये है कि पीएमओ को छोड़कर किसी ने भी आजतक एक भी चिठ्ठी का जवाब नहीं दिया है. पीएमओ से आई चिठ्ठी में भी सिर्फ इतना ही लिखा था कि आपकी चिठ्ठी को हमने संबंधित विभाग को आगे की कार्रवाई के लिए भेज दिया है.

कॉंग्रेस पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी ने मोदी के इसी बाहरी आवरण की परते अभी हाल ही में संपन्न हुए लोकसभा चुनावों के प्रचार के दौरान उतारी.

"पीएम मोदी ने लोगों से अपना संपर्क खो दिया है। उनके पास 56 इंच का सीना है, फिर देश में किसानों की हालत दयनीय क्यों है। आपने उन्हें चीन, जापान और पाकिस्तान में बिरयानी का आनंद लेते देखा होगा, लेकिन क्या आपने कभी उन्हें जाते देखा है। एक गरीब आदमी के घर जब वह समस्या में है? "

किसान आत्महत्या की बढ़ती घटनाओं के बारे में बात करते हुए, प्रियंका गांधी ने दावा किया कि पिछले पांच वर्षों में 11,000 किसानों ने आत्महत्या की है, लेकिन मोदी इस मुद्दे पर चुप है।

प्रियंका गांधी ने कहा, "किसान अपनी समस्याओं के बारे में बताने के लिए उनके दरवाजे पर पहुंचे, लेकिन वह अपने भव्य बंगले से बाहर नहीं आए।"

और ऐसा नहीं है कि ये उन पर केवल राजनीतिक कारणों से की जाने वाली छींटाकशी है बल्कि उन्होंने अपनी कार्यप्रणाली से यह बात भली भांति ज़ाहिर कर दी है, विराट कोहली अनुष्का शर्मा हों, प्रियंका चोपड़ा हों, कंगना रनौत हों या अन्य कोई भी फिल्मी या क्रिकेट की हस्ती हो, मोदी जी के पास उसके लिए हमेशा समय मिलेगा, महिला सशक्तीकरण की बात करने वाले सोनिया गांधी का अपमान करने के लिए उन्हें काँग्रेस की विधवा कहकर अपमानित करते हैं, नेहरू जी के चरित्र पर उँगली उठाने वाले अपने आचरण से प्रधानमंत्री पद को लज्जित करते हैं

नेहरू जी के साथ जिस तरह नन्हें मुन्नो की मंडली रहा करती थी ठीक उसी तरह बॉलिवुड की हीरोइनों की मंडली से घिरे मोदी जी देश के संस्कारों की नैया डुबो रहे हैं और हतोत्साहित कर रहे हैं उस सभ्यता संस्कृति को जो स्त्री पुरुष के बीच में एक सीमा रेखा का प्रावधान करती है साथ ही धैर्य छीन रही है उस जनता का जो अपनी समस्याओं का समाधान देश की सर्वोत्कृष्ट शक्ति में ढूंढती है.

शालिनी कौशिक एडवोकेट

(कौशल)



अगला लेख: वकीलों का कत्ल प्रदेश - वेस्ट यू पी



डॉ. शिखा कौशिक
22 अक्तूबर 2019

विचारणीय है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x