प्रेरणा

23 अक्तूबर 2019   |  मीना शर्मा   (3470 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रेरणा





चिड़िया

प्रेरणा


स्कूल का पहला दिन । नया सत्र,नए विद्यार्थी।कक्षा में प्रवेश करते ही लगभग पचास खिले फूलों से चेहरों ने उत्सुकता भरी आँखों और प्यारी मुस्कुराहटों के साथ "गुड मॉर्निंग मैम " कहकर खड़े होकर स्वागत किया तो एक नई ऊर्जा से भर उठी मैं ।


अभिवादन का जवाब देते हुए अपनी नजरों के दायरे में पूरी कक्षा को समेटते हुए आखिरी बेंच पर बैठी नई लड़की पर नजर टिक गई जो मेरे कक्षा में आने पर भी खड़ी नहीं हुई थी।


उसे अनदेखा करके मैं हाजिरी लेने लगी । दसवींकक्षा के ये विद्यार्थी मेरे लिए नए नहीं हैं । पिछले साल नवीं कक्षा में मैं इनको हिंदी विषय पढ़ाती थी, पर यह एक नया नाम है...


'विभा माने'


मेरे नाम पुकारने पर भी बैठे - बैठे ही एक हाथ ऊपर करके जवाब दिया ,"प्रेजेंट मैम"


अजीब ढीठ लड़की है ! मैनर्स सिखाए ही नहीं किसी ने !


ऐसे तो मेरी क्लास के और बच्चे भी बिगड़ जाएँगे ।अब मेरे अंदर की टीचर जाग गई थी ।


"विभा, आप नए हो इस स्कूल में ?"

"जी मैम।"

"कौनसे स्कूल से आई हो ?"

"वाणी विद्यामंदिर , रायपुर से मैम" मधुर नम्र शब्दों में जवाब लेकिन अब भी बैठे - बैठे ही ।


"टीचर्स के आने पर और उनसे बात करते समय खड़े होते हैं , इतना भी आपको सिखाया नहीं गया ?"

इसके जबाब में उसने सिर झुका लिया था । सारी कक्षा के बच्चों की नजरें कभी उसकी तरफ तो कभी मेरी ओर । विभा की आँखों से टप - टप आँसू झर रहे थे ।


तभी पहली बेंच पर बैठी सुरभि उठकर मेरे पास आई और बहुत धीरे से कहा...


"मैम, विभा खड़ी नहीं हो सकती। उसके बड़े भैया उसे गोद में उठाकर कक्षा में बिठा गए थे । हम सबसे कहा है उसका खयाल रखने को।"


"हे भगवान ! कितनी बड़ी गलती हो गई मुझसे । विभा, मुझे माफ करना । मुझे कुछ भी पता नहीं था। प्रिंसिपल मैडम भी शायद भूल गई मुझे तुम्हारे बारे में सूचित करना। बच्चों, आज से विभा मेरी बेटी है । विभा, मुझे गर्व है कि तुम मेरी कक्षा में हो । तुम हम सबकी प्रेरणा बनोगी ।"

अगले कुछ पलों में....


मेरे गले लगी विभा और मेरी कक्षा में गीली आँखों के साथ मीठी मुस्कुराहटों की गंगा - जमुना का पवित्र संगम हो रहा था।

---------------------------------------------------------

चिड़िया

अगला लेख: दर्द का रिश्ता



रेणु
25 अक्तूबर 2019

बहुत भावपूर्ण संस्मरण है प्रिय मीना बहन |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अक्तूबर 2019
दर्द का रिश्ता दिल से है,और दिल का रिश्ता है तुमसे !बरसों से भूला बिसरा,इक चेहरा मिलता है तुमसे !यूँ तो पीड़ाओं में मुझको,मुस्काने की आदत है ।काँटों से बिंधकर फूलों को,चुन लाने की आदत है ।पर मन के आँगन, गुलमोहरशायद खिलता है तुमसे !बरसों
12 अक्तूबर 2019
25 अक्तूबर 2019
दीपावली जब से नजदीक आती जा रही है, मन अजीब सा हो रहा है। स्कूल आते जाते समय राह में बनती इमारतों/ घरों का काम करते मजदूर नजर आते हैं। ईंट रेत गारा ढोकर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करनेवाले मजदूर मजदूरनियों को देखकर यही विचार आता है - कैसी होती होगी इन
25 अक्तूबर 2019
13 अक्तूबर 2019
हमारी छोटी-छोटी खुशियाँ( भाग- 2)*************************** परम्पराओं के वैज्ञानिक पक्ष को तलाशने की आवश्यकता है , उसमें समय के अनुरूप सुधार और संशोधन हो , न कि उसका तिरस्कार और उपहास ..**************************** यह परस्पर प्रेम
13 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x